ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / मनोरंजन / अगले साल नेटफ्लिक्स जैसे ऐप्स से कमाई में पिछड़ेगा बॉलीवुड, 17 फीसदी कम होगी कमाई

अगले साल नेटफ्लिक्स जैसे ऐप्स से कमाई में पिछड़ेगा बॉलीवुड, 17 फीसदी कम होगी कमाई



बॉलीवुड डेस्क.हाल ही में हुए ऑस्कर समारोह में नेटफ्लिक्स ने चार अवॉर्ड जीते हैं। ओवर द टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स और ऐसे दूसरे डिजिटल मीडिया हॉलीवुड और बॉलीवुड के लिए खतरा बनते जा रहे हैं। टेक क्रंच की रिपोर्ट के अनुसार 20 सालों में अमेरिका में फिल्मों की टिकट की बिक्री में 10% से ज्यादा कमी आई है। अब इसका असर भारत में भी दिखने लगा है। अंर्स्ट एंड यंग और फिक्की की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2020 तक भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को 19,200 करोड़ रुपएरेवेन्यू प्राप्त होगा जबकि डिजिटल को 22,400 करोड़ रुपए का राजस्व मिलेगा। यानी डिजिटल मीडिया करीब 17 फीसदी आगे निकल जाएगा।

शाहरुख बोले- सिनेमा घर हमेशा रहेंगे: 100 से ज्यादा देशों में 150 के करीब मीडिया-इंटरनेट ब्रैंड चलाने वाली कंपनी आईएसी (इंटर एक्टिव कॉर्प) के चेयरमैन बैरी डीलर का कहना है कि हॉलीवुड अब अप्रासंगिक हो चुका है। नेटफ्लिक्स ये खेल जीत चुका है। वे हॉलीवुड स्टूडियो पैरामाउंट और फॉक्स के सीईओ भी रह चुके हैं। वहीं, भास्कर से बातचीत करते हुए शाहरुख खान ने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं है कि वेब शोज़ से हमें चैलेंज मिल रहे हैं। लेकिन सिनेमा घर हमेशा रहेंगे। शाहरुख कहते हैं कि सिनेमाघरों में फिल्में देखना खासकर अमीर होते परिवारों के लिए छोटे-मोटे फैमिली फंक्शन की तरह ही होता है। सिनेमाघर स्टेडियम की तरह होते हैं, खेल की तरह फिल्में देखने का असली आनंद वहीं आता है।

स्मार्टफोन के बढ़ने का मिलेगा फायदा: शाहरुख की ही तरह अभिनेता रितेश देशमुख भी यह मानते हैं कि फिल्म इंडस्ट्री के लिए ऐसे डिजिटल प्लेटफॉर्म खतरा हो सकते हैं। वे कहते हैं कि स्मार्टफोन की तादाद बढ़ रही है। लिहाजा डिजिटल प्लेटफॉर्म के चलते किसी भी एंटरटेनमेंट कंटेंट को सिनेमाहॉल के मुकाबले दस गुना ज्यादा ऑडियंस मिलेगी। जाहिर है, प्रोड्यूसर उस तरफ का रुख करेंगे।

सिनेमा वालों के रवैये से भी कम होगा रेवेन्यू: हॉलीवुड में तो ब्रैड पिट ने अपनी फि‍ल्म नेटफ्लिक्स पर रिलीज की। अमेजन प्राइम की वेब सीरीज मिर्जापुर में काम कर चुके अभिनेता राजेश तैलंग कहते हैं कि रेवेन्यू कम होगा, पर उसकी एकमात्र वजह सिर्फ वेब शो नहीं है। सिनेमाघर वालों का रवैया भी है। सिनेमाघरों में टिकट और खाने-पीने की कीमतें इतनी ज्यादा हैं कि आम मिडिल क्लास फैमिली हर बार वह अफोर्ड नहीं कर सकती। खासकर जिन फिल्मों को लेकर रिलीज से पहले ज्यादा प्रचार नहीं होता, उसके लिए तो दर्शक कतई नहीं आते।

पब्लिसिटी के लिए पैसे न होने पर सर्वाइवर डिजिटल प्लेफॉर्म: तैलंग कहते हैं कि जिनके पास पब्लिसिटी के पैसे नहीं हैं, उनके लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म सर्वाइवर के तौर पर आया है। इस लिहाज से सिनेमाघरों की आमदनी प्रभावित हो सकती है। मगर वह खत्म तो नहीं होगा। वह इसलिए कि सिनेमाघर एक सोशल वह्युंग एक्सपीरिएंस है। फिल्ममेकर अलंकृता श्रीवास्तव कहती हैं कि वर्ल्ड क्लास के डि‍जिटल कंटेंट से भारतीय दर्शकों के फिल्म देखने के तरीके में बदलाव आ रहे हैं। मेरी तो यही दुआ है कि दोनों मीडियम आगे बढ़ें।

  1. वर्ष 2018 में नेटफ्लिक्स कंटेंट पर 8 अरब डॉलर खर्च करने वाली थी, लेकिन उसने अपना बजट बढ़ा लिया। गोल्डमैन सैश के आकलन के अनुसार पिछले वर्ष उसका बजट 12 से 13 अरब डॉलर रहा। यही नहीं वर्ष 2022 तक वो कंटेंट पर प्रतिवर्ष 22.5 अरब डॉलर खर्च करेगा।

  2. नेटफ्लिक्स के मूवी हेड स्कॉट स्ट्यूबर के अनुसार इस वर्ष वे करीब 55 ओरिजनल फिल्म बना रहे हैं, जबकि डॉक्यूमेंट्री और एनीमेटेड मूवी मिलाकर वे करीब 90 फिल्में बनाएंगे। जबकि हॉलीवुड का यूनिवर्सल स्टूडियो एक वर्ष में करीब 30 फिल्में ही बनाता है। इस माह ही नेटफ्लिक्स 60 नए ओरिजनल शो लाॅन्च करेगा।

  3. नेटफ्लिक्स ने बताया है कि हमारा एक घंटे का शो 6के रेजोल्यूशन में शूट होता है। ये डेटा करीब 293 जीबी का होता है। इसे बिना बफरिंग देखने के लिए 750 एमबीपीएस स्पीड चाहिए। कंपनी ने इसे कंप्रेस करके 750 केबीपीएस पर भी गुणवत्ता में देखने लायक बनाया। 2017 में उसने इसे कंप्रेस करके 270 केबीपीएस पर लायक बनाया। अब चार जीबी डेटा में करीब 26 घंटे नेटफ्लिक्स देखा जा सकता है। पहले मात्र 10 घंटे देखा जा सकता था।

  4. विदेशों में आमतौर पर फिल्में 90 दिनों तक थिएटर में चलती हैं। भारत में भी थिएटर के बाद ही फिल्में टीवी पर आती हैं, लेकिन नेटफ्लिक्स अपनी ओरिजनल फिल्में रिलीज के साथ स्ट्रीम करता है। दूसरी तरफ जहां थिएटर में दर्शकों को प्रति फिल्म कम से कम 100-200 रुपएखर्च करने पड़ते हैं वहीं नेटफ्लिक्स पर 500 रुपएप्रतिमाह में पूरा परिवार फिल्म देख लेता है।

  5. नेटफ्लिक्स क्षेत्रीय कंटेंट पर काम कर रहा है। पिछले वर्ष के अंत में उसने भारत में करीब 9 ओरिजनल सीरीज की घोषणा की थी। इसमें अनुष्का शर्मा और माधुरी दीक्षित जैसे सितारों की हिस्सेदारी होगी। हालांकि भारत में मुनाफा कम है। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज को दी गई जानकारी के अनुसार वर्ष 2017-18 में 20.22 लाख का मुनाफा हुआ। राजस्व 58 करोड़ रुपएथा।

  6. नवंबर 2018 में आई बॉस्टन कंसल्टिंग ग्रुप की रिपोर्ट के अनुसार देश में ओटीटी का बाजार 3500 करोड़ रुपएका है। अगले 10 वर्षों में यह 10 गुना बढ़कर 35 हजार करोड़ का हो जाएगा। अंर्स्ट एंड यंग ने बताया है कि वर्ष 2020 में देश में ओटीटी यूजर 50 करोड़ हो जाएंगे। अमेरिका के बाद भारत दूसरा सबसे बड़ा ओटीटी मार्केट हो जाएगा।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Challenges to Bollywood by Netflix


      Challenges to Bollywood by Netflix


      Challenges to Bollywood by Netflix

Check Also

ससुरालवालों के साथ वेकेशन एन्जॉय करते बोट पर जमकर नाची प्रियंका चोपड़ा, देवर-जेठ और होने वाली जेठानी के साथ दिखाए डांस मूव्स, वायरल हो रहा Video

एंटरटेनमेंट डेस्क. प्रियंका चोपड़ा इन दिनों ससुरालवालों के साथ मियामी में वेकेशन एन्जॉय कर रही …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *