ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एआई की मदद से बनाया स्मार्ट तकिया, खर्राटों का शोर दबाएगा

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एआई की मदद से बनाया स्मार्ट तकिया, खर्राटों का शोर दबाएगा



हेल्थ डेस्क. अमेरिकी शोधकर्ताओं ने एक ऐसा स्मार्ट तकिया तैयार किया है जो खर्राटोंकेशोर को दबाकरचैन की नींद सोने में मदद करेगा। तकिये से निकलने वाले सिग्नलखर्राटों की आवाज कोकानों तक पहुंचने से रोक देते हैं। यानी खर्राटे लेने वाला व्यक्ति आराम से सोता रहता हैऔर उसके बगल में सो रहेदूसरेव्यक्ति की भी नींद खराब नहीं होती।नॉर्दर्न इलिनॉइस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक की मदद से तैयार किया है।

  1. शोधकर्ताओं के मुताबिक, तकिया शोरघटाने वाली (नॉइज कैंसिलेशन) तकनीक पर काम करताहै। स्मार्ट तकिये में की गई प्रोग्रामिंग खर्राटों की आवाज को शांत करती है। नॉइज कैंसिलेशन तकनीक पहले खर्राटों की तीव्रता का पता लगाती है। इसके बाद उसी के समान आयाम (तीव्रता) वाली ध्वनि तरंगों को उत्पन्न करके खर्राटों के शोर कोदबा देती है।

  2. खर्राटों की तेजी और उनकी फ्रिक्वेंसी का पता लगाने के लिए तकिये में तीन माइक्रोफोन लगाए जाएंगे,जो खर्राटों की आवाज को कैप्चर करेंगे। इसके बाद ये आवाजें एक फिल्टरमें जाएंगी। यहां से खर्राटों की तीव्रता के बराबर एंटी नॉइज सिग्नल रिलीज किया जाएगा। जब दो विपरीत सिग्नल मिलेंगे तो बाहर की आवाज शांत हो जाएगी।

    ''

  3. टेस्टिंग के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि यह तकिया 30-31 डेसिबल वाली आवाज को भी कम करने में सक्षम है, जबकि हेडबोर्ड से सिर्फ 21-22 डेसिबल वाली आवाजों को ही शांत किया जा सकता है।

  4. इससे पहले शोधकर्ता खर्राटों से निजात दिलाने के लिए नॉइज कैंसिलेशन तकनीक वाले हेडबोर्ड और कंबल बना चुके हैंलेकिन ये उतनेकारगर नहीं साबित हुए। शोधकर्ताओं का दावा है कि तकियेमें फिट होने के कारण यह तकनीक कंबल और हेडबोर्ड से ज्यादा प्रभावी होगी। इसे आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकेगा।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      researchers develop ai based smart pillow block out partners snoring on bed

Check Also

पहली नजर का प्यार कभी न भुलाया जाने वाला एहसास है, मनोवैज्ञानिकों ने माना कहावत नहीं हकीकत

लाइफस्टाइल डेस्क.पहली नजर का प्यार सिर्फ कहावत नहीं बल्कि हकीकत है। मनोवैज्ञानिकों ने भी हाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *