ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / आईआईएम इंदौर में इसी सत्र से आठ फीसदी सीटें बढ़ेंगी, अगले साल सीटों में होगा कुल 25 फीसदी इजाफा

आईआईएम इंदौर में इसी सत्र से आठ फीसदी सीटें बढ़ेंगी, अगले साल सीटों में होगा कुल 25 फीसदी इजाफा




आईआईएम इंदौर इसी सत्र से पीजीपी (पोस्ट ग्रेजुएशन प्रोग्राम) और आईपीएम (इंटीग्रेटेड प्रोग्राम इन मैनेजमेंट) की सीटों में आठ फीसदी इजाफा करेगा। इसी सत्र से सीटों में यह बढ़ोतरी होगी। इसकी वजह यह है कि केंद्र सरकार द्वारा केंद्रीय संस्थानों में आर्थिक रूप से पिछड़ों (ईडब्ल्यूएस) के लिए 10 फीसदी आरक्षण लागू किया गया है। आईआईएम इंदौर में भी यह आरक्षण इसी सत्र से लागू हो रहा है। ऐसे में सीटों में इजाफा करना बेहद जरूरी है। हालांकि 10 फीसदी आरक्षण के कारण आईआईएम इंदौर को कुल 25 फीसदी सीटें बढ़ाना पड़ेंगी, लेकिन प्रबंधन ने निर्णय लिया है कि पहले चरण में सत्र 2019-20 में आठ फीसदी सीटें बढ़ाई जाएंगी। यानी पीजीपी की सीटें 450 से बढ़कर 486 और आईपीएम की 120 से बढ़कर 129 तक पहुंच जाएंगी। खास बात यह है कि अगले साल तो पीजीपी की कुल सीटें सीधे 563 और आईपीएम की सीधे 150 हो जाएंगी।

पहले चरण में आठ फीसदी ही क्यों?

दरअसल, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आर्थिक आधार पर 10 फीसदी आरक्षण लागू होने के बाद केंद्रीय शिक्षण संस्थानों से कहा था कि इसके लिए संस्थानों को अगले दो साल के भीतर 25 फीसदी सीटें बढ़ाना होंगी। उन्होंने इन्फ्रास्ट्रक्चर का हवाला देते हुए एक-एक साल में अपने हिसाब से सीटों के इजाफे की बात कही थी। यही वजह है कि आईआईएम इंदौर होस्टल, फैकल्टी और इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिहाज से पहले साल आठ और अगले साल यानी 2020-21 में 17 फीसदी सीटें बढ़ाएगा।

1996 में शुरू हुए संस्थान में पहली बार सीटों में इतना इजाफा

इंदौर में आईआईएम 1996 में खुला था, उसके बाद से पहली बार महज दो साल में 25 फीसदी सीटों का इजाफा हो रहा है। आर्थिक आधार पर पिछड़ों को 10 फीसदी आरक्षण अलग से दिया जाना है। इसके कारण न तो पहले से तय आरक्षण में छेड़छाड़ होगी और न एक समान मेरिट होने पर किसी दूसरे कैंडिडेट की सीट रोकी जाएगी। यही वजह है कि 10 फीसदी आरक्षण के लिए 25 फीसदी सीटों का इजाफा हो रहा है।

इस साल आठ फीसदी सीटें बढ़ाएंगे- आईआईएम इंदौर के डायरेक्टर प्रो. हिमांशु राय का कहना है आर्थिक आधार पर पिछड़ों (ईडब्ल्यूएस) को दस फीसदी आरक्षण इसी सत्र से दिया जाना है। इसके लिए हम पहले चरण में आठ फीसदी सीटें बढ़ा रहे हैं। दूसरे चरण में यानी अगले साल फिर 17 फीसदी सीटें बढ़ाई जाएंगी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Check Also

जिला आयुष अस्पताल की नई बिल्डिंग में दरारें, आयुक्त ने ली आपत्ति

इंदौर. इंदौर जिले के आयुर्वेद अस्पतालों में मरीजों के लिए साल की दवा खरीदी गई, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *