ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / उपज खरीदने से मना किया, फिर 15 किसानों के खातों में 21 लाख रु. डालकर निकाल भी लिए

उपज खरीदने से मना किया, फिर 15 किसानों के खातों में 21 लाख रु. डालकर निकाल भी लिए



मंदसौर. उपज नहीं बेचने के बावजूद जिला सहकारी बैंक की धुंधड़का सोसायटी द्वारा 15 किसानों के बैंक खातों में 21 लाख रुपए डालकर बिना बताए ही वापस निकाल भी लिए। घोेटाले का खुलासा तब हुआ जब मोबाइल पर 1.40 लाख रुपए जमा होने के मैसेज आए। किसानों ने बैंक जाकर खाते चैक किए तो पता चला जिस दिन पैसा खाते में डाला गया था, उसी दिन सारा निकल भी चुका है। शिकायत सीधे प्रभारी मंत्री हुकुमसिंह कराड़ा तक पहुंचने के बाद जिला सहकारी बैंक ने मामले की पड़ताल शुरू कर दी है।

मामले में जांच अधिकारी आरसी जैन ने दलौदा स्थित बैंक पहुंचकर रिकॉर्ड चैक करने के साथ ही दशरथदास बैरागी, देवीलाल पटेल, बद्रीलाल नाकादार सहित सभी प्रभावित किसानों के बयान लिए है। प्रारंभिक जांच में गड़बड़ी सोसायटी से ही होने का पता चला है। बताया जा रहा है कि जांच अधिकारी भी मामले को रफा-दफा करने की कोशिश में है, गुरुवार को जब इस संबंध में उनसे जानकारी लेना चाही गई तो कुछ भी बताने से साफ इनकार कर दिया।

यह है मामला : धमनार निवासी किसान दशरथ दास बैरागी, देवीलाल पटेल, बद्रीलाल नाकादार व अन्य ने समर्थन मूल्य पर उड़द बेचने के लिए दलाैदा जिला सहकारी बैंक की धुंधड़का सोसायटी में पंजीयन कराया था। बारी आने पर बेचने पहुंचे तो सोसायटी ने क्वालिटी खराब बताते हुए उपज खरीदने से मना कर दिया। इस पर किसानों ने उपज कृषि उपज मंडी में बेच दी। कुछ समय बाद किसानों के मोबाइल पर समर्थन मूल्य की राशि जमा होने का मैसेज आया। बैंक खाते चैक किए तो राशि नहीं थी। किसानों ने इसकी जानकारी पूर्व जनपद सदस्य बद्रीलाल धाकड़ को दी। उन्होंने बैंक से जानकारी निकाली प्रभारी मंत्री हुकुमसिंह कराड़ा को शिकायत कर दी।

यह बड़ा घोटाला है, अभी तो सिर्फ 15 किसानों के ही नाम सामने आए है। खातों में जिस दिन राशि डाली, उसी दिन निकाली भी ली। वह भी बिना विड्राल फाॅर्म भरे। प्रमाण अधिकारियों को दे दिए हैं। कड़ी कार्रवाई होना चाहिए। बद्रीलाल धाकड़, पूर्व जनपद सदस्य

जांच कर रहे हैं, मामला दो माह पहले का है। कलेक्टर और जिला सहकारी बैंक की मुख्य शाखा को शिकायत की गई थी। शुरुआती जांच में 15 किसानों के नाम सामने आए हैं। जांच रिपोर्ट बैंक को सौंपी जाएगी। कार्रवाई वहीं से होगी। आरसी जैन, जांच अधिकारी

घोटाला सामने आने के बाद सहकारी बैंक के अधिकारी हरकत में आ गए। वे अब जिले की सभी सोसायटियों से जारी की गई समर्थन मूल्य की राशि की जांच कराने की बात कह रहे हैं। पूर्व जनपद सदस्य धाकड़ ने किसानों से बात कर इस संबंध में अधिकारियों को कुछ जानकारी भी उपलब्ध करवाई है।

किसानों की उपज धुंधड़का सोसायटी में तौली गई है। जिनने उपज बेची उन को भुगतान ऑनलाइन किया है। इसमें किसी प्रकार का घोटाला नहीं है। आरोप निराधार है। नंदकिशोर धाकड़, प्रबंधक- धुंधड़का सोसायटी

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


दलौदा स्थित जिला सहकारी बैक में दस्तावेजों की जांच करते अधिकारी 

Check Also

मप्र हाईकोर्ट को मिले दो नए जज 27 मई को सीजे दिलाएंगे शपथ

जबलपुर। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट में दो नए जजों की नियुक्ति को राष्ट्रपति की मंजूरी मिल गई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *