ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / एक्सिस बैंक में सामने आया खोटे सोने पर 2 करोड़ का लोन फ्रॉड, जौहरी और 30 ग्राहकों पर केस

एक्सिस बैंक में सामने आया खोटे सोने पर 2 करोड़ का लोन फ्रॉड, जौहरी और 30 ग्राहकों पर केस



यमुनानगर. यहां के साढौरा इलाके में एक्सिस बैंक में गोल्ड लोन के नाम पर करीब दो करोड़ की हेराफेरी का मामाल सामने आयाहै। शाखा प्रबंधक ने गोल्ड सर्टिफाइड करने के लिए अधिकृत जौहरी और 30 ग्राहकों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है। आरोप है कि इन लोगों ने खोटे सोने पर लोन लिया है। जौहरी ने खोटे सोने को खरे के तौर पर सर्टिफाइड किया।

पुलिस ने इस मामले में सोने को सर्टिफाई करने वाले हर्ष ज्वैलर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। हालांकि, दुकानके संचालकसंजय वर्मा ने कहा कि बैंक अधिकारियों ने सोने को देखकर ही अपनी रिपोर्ट बनाने के निर्देश दे रखे थे। अफसर अंग्रेजी में रिपोर्ट बनवाकर उससे हस्ताक्षर करालेते थे, वह 10वीं पास है और उसे अंग्रेजी का ज्यादा ज्ञान नहीं है।

बैंककर्मियोंपर शक की सुई

साढौरा एसएचओ देवेंद्र सिंह ने बैंक कर्मियों की संलिप्तता से इनकार नहीं किया है। बैंक ने ग्राहकों के नाम दिए हैं, पते तक नहीं बताए। जिस कर्मी के पास गोल्ड लोन का जिम्मा था उसका कुछ समय पहले तबादला हुआ है। बैंक ने ये लोन अक्टूबर 2017 के बाद जारी किए। यह सिलसिला मार्च 2018 तक चला। इस दौरान बैंक की मुख्य शाखा से पहुंची टीम ने ऑडिट किया तो इसमें गड़बड़ी मिली।

ग्राहकों ने सोना वापस लेने के लिए किस्त नहीं दी, तब बढ़ा शक

ऑडिट में सामने आया कि कुछ ग्राहकों ने थोड़े-थोड़े अंतराल पर कई बार गोल्ड लोन लिया। 30 ग्राहकों ने गोल्ड लोन लेने के बाद बैंक में कोई किस्त जमा नहीं करवाई। एक्सिस बैंक के मुंबई स्थित मुख्यालय पर यह मामला पहुंचा तो वहां से अनन्या ऑरनामेंट कंपनी को गिरवी रखे सोने की जांच करने के लिए अधिकृत किया गया। इस कंपनी के कर्मचारियों ने सोने की जांच करके 29 मार्च 2018 को दी रिपोर्ट में कहा कि गिरवी रखा सोना नकली है या फिर अधिक खोट है। 25 जुलाई 2018 को बैंक प्रबंधक अनुज सिंगला ने एसपी कार्यालय को शिकायत दी। आर्थिक अपराध शाखा ने जांच की। 7 महीने बाद केस दर्ज हुआ है।

हॉलमार्क के नियम को किया अनदेखा

एक्सिस बैंक द्वारा अधिकृत जौहरी की नियुक्ति को लेकर नियमों की पालना नहीं की गई। बैंक प्रबंधक ने अधिकृत जौहरी की नियुक्ति करते समय संजय वर्मा के पास हॉलमार्क लाइसेंस होने की पुष्टि नहीं की। बीआईएस की ओर से जारी सूची में जिले के केवल 15 जौहरी के पास हॉलमार्क लाइसेंस हैं। इनमें संजय वर्मा का नाम शामिल नहीं है। पिछले साल अक्टूबर में एसबीआई की ढांड शाखा ने 18 किसानों पर गोल्ड लोन में धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया था। तब सामने आया था कि जौहरी ने अपने भरोसे के किसानों को अपने पास से सोना देकर लोन दिलवाया था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Lone fraud of 2 million on fake gold

Check Also

जब सख्त प्रशासक माने जाने वाले मनोहर पर्रिकर को फूट-फूट कर रोते देखा गया था

नेशनल डेस्क। पणजी. गोवा के मुख्यमंत्री रहे मनोहर पर्रिकर (63) का निधन हो गया। रविवार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *