ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राशिफल / एक संत हमेशा तपस्या करते रहता था, दूसरा संत रोज सुबह-शाम भगवान को भोग लगाता और फिर खाना खाता था, एक दिन दोनों संत इस बात के लिए लड़ रहे थे कि बड़ा संत कौन है, तभी वहां नारद मुनि आ गए और उन्होंने कहा कि इसका फैसला कल करेंगे

एक संत हमेशा तपस्या करते रहता था, दूसरा संत रोज सुबह-शाम भगवान को भोग लगाता और फिर खाना खाता था, एक दिन दोनों संत इस बात के लिए लड़ रहे थे कि बड़ा संत कौन है, तभी वहां नारद मुनि आ गए और उन्होंने कहा कि इसका फैसला कल करेंगे



रिलिजन डेस्क। पुराने समय में दो संत एक साथ रहते थे। दोनों की भक्ति का तरीका अलग-अलग था। एक संत दिनभर तपस्या और मंत्र जाप करते रहता था। जबकि दूसरा संत रोज सुबह-शाम पहले भगवान को भोग लगाता और फिर खुद भोजन करता था। एक दिन दोनों के बीच झगड़ा होने लगा कि बड़ा संत कौन है? इस दौरान वहां नारद मुनि पहुंच गए।

> नारद ने दोनों संतों से पूछा कि किस बात के लिए लड़ाई कर रहे हैं? संतों ने बताया कि हम ये तय नहीं कर पा रहे हैं कि दोनों में बड़ा संत कौन है? नारद ने कहा कि ये तो छोटी सी बात है, इसका फैसला मैं कल कर दूंगा।

> अगले दिन नारद मुनि ने मंदिर में दोनों संतों की जगह के पास हीरे की एक-एक अंगूठी रख दी।

> पहले तप करने वाला संत वहां पहुंचा उसने एक अंगूठी देखी और चुपचाप उसे अपने आसन के नीचे छिपाकर मंत्र जाप करने लगा।

> कुछ देर में दूसरा संत भगवान को भोग लगाने पहुंचा। उसने भी हीरे अंगूठी देखी, लेकिन उसने अंगूठी की ओर ध्यान नहीं दिया। भगवान को भोग लगाया और खाना खाने लगा। उसने अंगूठी नहीं उठाई, उसके मन में लालच नहीं जागा, क्योंकि उसे भरोसा था कि भगवान रोज उसके लिए खाने की व्यवस्था जरूर करेंगे। तभी वहां नारदजी आ गए। दोनों संतों ने पूछा कि अब आप बताएं कि हम दोनों में बड़ा संत कौन है?

> नारद ने तपस्या करने वाले संत को खड़े होने के लिए कहा, जैसे ही वह संत खड़ा हुआ तो उसके आसन के नीचे छिपी हुई अंगूठी दिख गई।

> नारद मुनि ने उससे कहा कि तुम दोनों में भोग लगाकर खाना खाने वाला संत बड़ा है। तपस्या करने वाले संत में चोरी करने की बुरी आदत है, उसने भक्ति के समय में चोरी करने से संकोच नहीं किया, जबकि भोग लगाने वाले संत ने अंगूठी की ओर ध्यान तक नहीं दिया। इस कारण वही संत बड़ा है।

कथा की सीख

इस कथा की सीख यह है कि जो व्यक्ति भक्ति करता है, उसे सभी बुराइयों का त्याग कर देना चाहिए। सच्चा भक्त कभी भी किसी लोभ में नहीं फंसता है। उसे भगवान पर पूरा भरोसा होता है। इसीलिए वह कभी भी आने वाले कल की नहीं सोचता है, सिर्फ भक्ति में लगे रहता है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


motivational story about devotion, how to worship, inspirational story about sadhu sant

Check Also

साहूकार ने एक देवी को कर लिया प्रसन्न, उसने कहा कि मुझे इस संसार का सबसे अमीर इंसान बनना है, तब देवी ने उसे एक पारस पत्थर दे दिया और कहा कि 7 दिनों में जितना चाहे उतना सोना बना लो

रिलिजन डेस्क। पुरानी लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक साहूकार ने तपस्या करके …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *