ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राशिफल / एक सेठ अपने कुत्ते के साथ नाव में यात्रा कर रहा था, कुत्ता पहली बार नाव में बैठा था, इसकारण उछल-कूद कर रहा था, नाव में बैठे सभी लोग डर रहे थे कि इसकी वजह से नाव डूब जाएगी

एक सेठ अपने कुत्ते के साथ नाव में यात्रा कर रहा था, कुत्ता पहली बार नाव में बैठा था, इसकारण उछल-कूद कर रहा था, नाव में बैठे सभी लोग डर रहे थे कि इसकी वजह से नाव डूब जाएगी



रिलिजन डेस्क। पुराने समय की एक लोक कथा के अनुसार एक सेठ अपने कुत्ते के साथ नाव से नदी पार करने गया। कुत्ता पहली बार नाव में बैठा था। नाव नदी में तेजी से आगे बढ़ रही थी और हिलती नाव की वजह से कुत्ता असहज होता जा रहा था। उसे चारों ओर पानी देखकर वह उछल-कूद करने लगा।

> नाव में बैठे सभी लोगों को डर सता रहा था कि कुत्ते की उछल-कूद की वजह से नाव डूब सकती है। सभी का डर सेठ की समझ में आ गया, लेकिन वह भी कुत्ते को काबू नहीं कर पा रहा था।

> नाव में एक बुद्धिमान संत भी थे। संत ने सेठ से कहा कि अगर आप आज्ञा दें तो मैं इसे ठीक कर सकता हूं।

> सेठ ने संत को आज्ञा दे दी। संत उठे और उन्होंने कुत्ते को पकड़कर नदी में डाल दिया। कुत्ता घबरा गया और तैरते हुए नाव में चढ़ने की कोशिश करने लगा। उसे मृत्यु का डर सताने लगा।

> संत ने तुरंत ही कुत्ते को पकड़कर नाव में फिर से चढ़ा लिया। अब कुत्ता चुपचाप एक तरफ जाकर बैठ गया।

> सेठ और नाव के सभी लोग ये देखकर हैरान थे कि कुत्ता शांत कैसे हो गया? सेठ ने संत से इसका कारण पूछा। संत ने कहा कि जब कुत्ते को पानी में फेंका, तब इसे पानी की ताकत और नाव का महत्व समझ आया। इस कारण ये अब चुपचाप बैठ गया है।

कथा की सीख

इस कथा की सीख यही है कि जब तक हम खुद परेशानियों का अनुभव नहीं कर लेते हैं, तब तक दूसरों की समस्याओं का महत्व नहीं समझ पाते हैं। इसीलिए हमें भी दूसरों की समस्याओं को समझना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि हमारी वजह से किसी दूसरे को परेशानी न हो।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


motivational story about problems, inspirational story about problems and solutions

Check Also

चाणक्य नीति के अनुसार आप में ये 4 बातें हैं तो बन सकते हैं अच्छा लीडर और सफल इंसान

चाणक्य नीति में ग्यारहवें अध्याय के पहले ही श्लोक में 4 गुण बताए गए हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *