ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / ऑटो / एयरपोर्ट पर फेस स्कैनिंग से होगी पहचान, 4 गुना ज्यादा कोच बनाएगा रेलवे

एयरपोर्ट पर फेस स्कैनिंग से होगी पहचान, 4 गुना ज्यादा कोच बनाएगा रेलवे



ऑटो डेस्क. तेजी से बढ़ती हुई भारतीय अर्थव्यवस्था में साल 2019 में कई बड़े परिवर्तन देखने को मिलेंगे। ट्रैवलिंग के शौकीनों लोगों के लिए यह साल पहले से ज्यादा सुविधाजनक हो जाएगा अब एयरपोर्ट पर यात्रियों को आईडी से नहीं फेस स्कैनिंग के जरिए पहचाना जाएगा। इस क्रम में जल और रेल मार्ग में ट्रांसपोर्टेशन को लेकर बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। हाल ही में गंगा टर्मिनल का काम पूरा हो गया है जिससे अब व्यापार बढ़ने के साथ ही टूरिज्म सेक्टर में भी इजाफा होगा।

नए साल में रेल यात्रियों को कई राहतें मिलेंगी। जहां वेटिंग क्लीयर नहीं होने से यात्री को सफर के दौरान परेशानी का सामना करना पड़ता था। लेकिन नए साल में चलती ट्रेन में डेटा अपडेट होने से अब यात्रियों को तुरंट सीट क्लीयर होने की जानकारी मिल जाएगी। रेलवे 2 हजार से ज्यादा स्टेशनों को वाईफाई सुविधा देगा साथ ही दुनिया में सबसे ज्यादा कोच तैयार कर एक नया कीर्तिमान भी स्थापित करेगा।

    • दिल्ली का इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट यात्री संख्या के मामले में इस साल चीन के शंघाई और हांगकांग के एयरपोर्ट्स को पछाड़ सकता है। अभी दिल्ली से हर साल 6.5 करोड़ यात्री सफर कर रहे हैं। ये संख्या 14% सालाना की दर से बढ़ रही है। ये संख्या इस साल 7 से 7.5 करोड़ तक पहुंच सकती है। हांगकांग और शंघाई एयरपोर्ट से यात्रियों की संख्या इससे करीब 50 से 60 लाख ज्यादा है, जो 3% की दर से बढ़ रही है। अभी दिल्ली एयरपोर्ट यात्री संख्या के मामले में दुनियाभर में नौवें स्थान पर है।
    • देश में एयर पैसेंजर्स के लिए डिजी यात्रा सिस्टम लागू हो जाएगा। एयरपोर्ट पर जांच के लिए आईडी रखने की जरूरत कम होती जाएगी। फेस स्कैनिंग से पहचान संभव होगी। हैदराबाद और बेंगलुरू एयरपोर्ट से शुरू होकर ये सिस्टम धीरे-धीरे बाकी एयरपोर्ट पर लागू किया जाएगा।
    • विमान में वाईफाई कनेक्टिविटी शुरू हो सकती है। इसके दो तरीके हो सकते हैं: पहला- ब्रॉडबैंड टॉवर से या दूसरा- सैटेलाइट से।
    • 2018 में देश में हवाई यात्रियों की संख्या 11.50 करोड़ रही। इसमें 30% का इजाफा अनुमानित है। इसे देखते हुए सरकार 14 एयरपोर्ट को अपग्रेड करने की तैयारी में है।
    • उड़ान इंटरनेशनल योजना शुरू होगी। दुबई, सिंगापुर, चीन, मलेशिया, श्रीलंका समेत पड़ोसी देशों के लिए 50% सीटें सस्ती हो सकती हैं।
    • पीपीपी मॉडल पर 100 एयरपोर्ट बनने की शुरुआत हो जाएगी। ये एयरपोर्ट अगले 10 से 15 साल में ऑपरेशनल मोड में आ सकते हैं।

    2019 innovations in india

    • गंगा टर्मिनल का काम पूरा होने से गंगा किनारे स्थित हल्दिया, हावड़ा, कोलकाता, भागलपुर, पटना, गाजीपुर, वाराणसी, इलाहाबाद और इनके औद्योगिक क्षेत्रों के प्रमुख शहरों की आपस में बिजनेस कनेक्टिविटी बढ़ेगी।
    • गंगा, ब्रह्मपुत्र और कल्लड़ा नदी (केरल) रो-रो सेवा के 6 पानी के जहाज आ जाएंगे। इससे टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा।
    • साहिबगंज (झारखंड) में गंगा नदी पर टर्मिनल और फोरलेन पुल तैयार हो जाएगा। यह टर्मिनल वाराणसी से हल्दिया तक 1390 किमी लंबे राष्ट्रीय जलमार्ग का हिस्सा होगा। इसकी कार्गो हैंडलिंग क्षमता 22.4 लाख टन/साल होगी। इस टर्मिनल में दो जहाजों के लिए बर्थिंग स्पेस, रोड, रैंप, पार्किंग स्पेस और टर्मिनल भवन होंगे।

    2019 innovations in india

    • इस साल जम्मू-कश्मीर में चिनाब नदी पर देश का सबसे ऊंचा मेहराबदार रेलवे पुल बनकर तैयार हो जाएगा। यह दुनिया का सबसे ऊंचा पुल होगा। कुतुबमीनार से भी 5 गुना ऊंचा (359 मीटर) होगा।
    • 10 नई हाईस्पीड ट्रेनें दिल्ली-चंडीगढ़, दिल्ली-कानपुर या दिल्ली-लखनऊ, मुंबई-पुणे, चेन्नई-हैदराबाद रूट्स पर चलाई जाएंगी।
    • फ्लेक्सी फेयर बेस फेयर के 1.5 गुना से घटकर 1.4 गुना होगा। 40 ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर खत्म होगा। 2 हजार स्टेशन वाईफाई होंगे।
    • ट्रेन चलने के बाद किसी यात्री ने टिकट कैंसल कराया है तो टीटीई को जानकारी काफी देर बाद मिल पाती है। इस वजह से वेटिंग वालों को टिकट चलती ट्रेन में कन्फर्म नहीं हो पाती है। अब टीटीई के पास हैंड-हेल्ड टर्मिनल होगी, जिसपर चलती ट्रेन में ही डेटा अपडेट हो जाएगा और वेटिंग वालों को सीट मिल सकेगी।
    • शताब्दी, राजधानी और दुरंतो के 500 टीटीई को हैंड-हेल्ड टर्मिनल दिए जाएंगे। यह डिवाइस रेलवे सर्वर से कनेक्ट होगी। टिकट कैंसलेशन का हर अपडेट इसके जरिए मिलेगा।
    • इस साल 2 हजार एल्युमिनियम रेल कोच बनाने का लक्ष्य है, जबकि विश्व में सभी देशों को मिलाकर भी कुल 500 कोच बन पाते हैं।
    • इस साल 100 डीजल इंजनों को इलेक्ट्रिक में बदला जाएगा। दुनियाभर में कहीं भी इतनी संख्या में इंजन नहीं बदले जा रहे। 2022 तक सभी डीजल इंजन बदल दिए जाएंगे।

    2019 innovations in india

    • डीजल, पेट्रोल के साथ सीएनजी, बायोफ्यूल और एलएनजी के मिक्स फ्यूल से चलने वाली गाड़ियां बाजार में आएंगी। डीजल गाड़ी चलाने वाले ढाई करोड़ लोगों को फायदा होगा। खर्च 20% तक कम होगा।
    • 1 अप्रैल के बाद बाजार में आने वाले सभी नए वाहन हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट के साथ आएंगे। नई गाड़ी खरीदने पर ये नंबर प्लेट गाड़ी के साथ ही लगी मिलेगी।

    2019 innovations in india

    • लक्जमबर्ग में रेल और बस सेवा पब्लिक के लिए फ्री कर दी जाएगी। लक्जमबर्ग ऐसा करने वाला दुनिया का पहला देश होगा। पर्यावरण बचाने और ट्रैफिक की समस्या से निजात पाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

    2019 innovations in india

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      innovations done in roadways airways and waterways in year 2019

Check Also

10 प्वाइंट में जाने क्या है इस मोस्ट पॉपुलर हैचबैक कार में खास

ऑटो डेस्क. भारत की सबसे बड़ी ऑटो कंपनी हुंडई में दिल्ली में हुए एक इवेंट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *