ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / हरियाणा / कलयुग में सत्य ही जीवन का सार : विश्वेश्वरानंद

कलयुग में सत्य ही जीवन का सार : विश्वेश्वरानंद




महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद महाराज ने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा का शुभारंभ सत्य की वंदना से हुआ है। क्योंकि सचमुच में सत्य ही जीवन का सार है। इसीलिए महाकवि वेद व्यास ने इस पावन ग्रंथ की रचना करते समय किसी भी देवी देवता की आराधना की बजाए सत्य की वंदना की है। वे महंत स्वामी कर्णपुरी महाराज के सानिध्य में डेरा श्री बाबा बालकपुरी महाराजपुरी धाम में आयोजित संगीतमय भागवत कथा के दूसरे दिन गुरुवार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भागवत कथा समाज को एकसूत्र में बांधने का ग्रंथ है। व्यष्टि को समष्टि की ओर लेकर जाता है। साथ ही तीनों प्रकार के संतापों से छुटकारा दिलाता है। उन्होंने माता कुंती के जीवन प्रसंग की चर्चा करते हुए कहा कि उन्होंने योगेश्वर श्रीकृष्ण से विपत्ति मांगते हुए कहा कि दुख में प्रभु का सुमिरन चलता रहता है। कथा के यजमान रेखा कपूर ने परिवार संग पूजा की।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Rohtak News – haryana news the essence of life itself in kali yuga vishveswarananda

Check Also

मकड़ौली गांव के पास ट्रेन की चपेट में आने से युवक की मौत

रोहतक | मकड़ौली गांव के पास ट्रेन की चपेट में आने से एक युवक की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *