ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / किडनी ट्रांसप्लांट के बावजूद 15 साल की प्रतिभा ने आईसीयू में जारी रखी पढ़ाई, बोर्ड परीक्षा में लेगी हिस्सा

किडनी ट्रांसप्लांट के बावजूद 15 साल की प्रतिभा ने आईसीयू में जारी रखी पढ़ाई, बोर्ड परीक्षा में लेगी हिस्सा



फरीदाबाद.महज दो हफ्तेपहले हुएकिडनी ट्रांसप्लांट जैसे बड़े ऑपरेशन के बावजूद 15 साल कीप्रतिभा इस साल अपनी बोर्ड परीक्षा देगी। खास बात यह है कि पढ़ाई के लिए इस अहम साल में बिगड़ती तबियत और सर्जरी के तनाव के बावजूद प्रतिभा ने अपनी पढ़ाई पर कोई फर्क नहीं पड़ने दिया और आईसीयू में भर्ती होने के बाद भी पढ़ाई जारी रखी। प्रतिभा के इस हौसले पर उसका इलाज करने वाले डॉक्टर से लेकर परिवार के करीबी भी उसकी तारीफ कर रहे हैं।

बोर्ड एग्जाम से दो महीने पहले पता चली बीमारी

दसवीं कक्षा में पढ़ने वाली प्रतिभा स्कूल से आने के बाद रोज बिना कुछ खाए सो जाती थी। माता-पिता इसे पढ़ाई की थकान समझ रहे थे, लेकिन इस दौरान उसकी हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी। परिजन उसे 9 जनवरी को अस्पताल लेकर पहुंचे। वहां कुछ टेस्ट कराने के बाद पता चला कि प्रतिभा का हीमोग्लोबिन केवल 5 ग्राम रह गया है। इससे उसे खून चढ़ाने की जरूरत है। हीमोग्लोबिन कम होने के कारणों का पता लगाने के लिए डॉक्टर ने कुछ टेस्ट कराए तो पता लगा कि प्रतिभा की किडनी फेल हो गई है।बीमारी के बारे में पता चला तो प्रतिभा और परिजन मायूस हो गए। डाक्टरों ने परिजनों से कहा कि अब केवल किडनी ट्रांसप्लांट ही एक रास्ता है।

दादी ने दी पोती को किडनी
इसके बाद माता-पिताने खुद ही बेटी कोकिडनी डोनेट करने के लिए अपने टेस्ट कराने शुरू कर दिए, क्योंकि परिवार का सदस्य ही किडनी दे सकता था। पिता राजन छाबड़ा ने जब अपना टेस्ट कराया तो पता चला कि वे डायबिटिक हैं। इसलिए उनकी किडनी नहीं ली जा सकती। इसके बाद मां का टेस्ट हुआ तो डाक्टरों ने उन्हें भी किसी फिजिकली दिक्कत के कारण किडनी डोनेट के योग्य नहीं पाया। इसके बाद 65 साल की दादी संतोष आगे आईं। उन्होंने कहा कि पोती के लिए हम किडनी देंगे। मेरा टेस्ट कराइए। इसके बाद डाक्टरों ने उनका टेस्ट किया तो उनकी किडनी मैच कर गई।

डाक्टरों ने कहा- प्रतिभा पूरी तरह फिट

21 फरवरी को प्रतिभा की किडनी ट्रांसप्लांट की गई, जबकि 1 मार्च को उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। चेकअप करने के बाद डाक्टरों ने मंगलवार को बताया कि बच्ची के शरीर ने नई किडनी को स्वीकार कर लिया है। इससे उसका हीमोग्लोबिन 9 हो गया है। अब बच्ची पूरी तरह से फिट है। किडनी ट्रांसप्लांट के 15वें दिन वह बुधवार को दसवीं बोर्ड की परीक्षा देगी। पिता राजन छाबड़ा के अनुसार बिटिया पर परीक्षा देने के लिए किसी तरह का कोई दबाव नहीं बनाया। उसने खुद निर्णय लिया कि वह साल बर्बाद नहीं होने देगी। 7 मार्च को उसका पेपर है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


On the 15th day of Kidney Transplant, Prtibha given Board exam

Check Also

कांग्रेस ने सेंटरफ्रेश एड से दिया ‘#मैं भी चौकीदार’ का जवाब

भाजपा के मैं भी चाैकीदार कैंपेन का कांग्रेस नेताओं ने अपने-अपने तरीके से जवाब दिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *