ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राजनीति / किसानों से डायरेक्ट ‘कृषि संवाद’ करेगी सरकार

किसानों से डायरेक्ट ‘कृषि संवाद’ करेगी सरकार

B- एक ही समय में हजारों किसान रख सकेंगे अपनी बात

– किसानों को मिला एक मंच

– शिकायत का निवारण दो दिनों में किया जाएगा

विसं, मुंबई : Bकिसानों की समस्याओं सीधे सरकार तक पहुंचे, इसके लिए सरकार ने किसानों के साथ ‘कृषि संवाद’ शुरू किया है। एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है जिस पर किसान शिकायत रख सकते हैं और मदद भी मांग सकते हैं। फोन करने के दो दिन के अंदर शिकायत का निवारण किया जाएगा।

गत दिनों कृषि मंत्री डॉ. अनिल बोंडे ने इसकी शुरुआत किसानों से संपर्क कर की। प्रौद्योगिकी की सहायता से एक ही समय में हजारों किसान सरकार से संवाद कर सकते हैं। इसी माध्यम से कृषि सहायकों को भी समय-समय पर सरकार मार्गदर्शन कर सकेगी। इस उपक्रम के बारे में कृषि मंत्री डॉ.बोंडे ने बताया कि किसान टोल फ्री नंबर 7420858286 पर अपनी समस्याएं दर्ज कर सकते हैं। कृषि मंत्री ने बताया कि अगर कोई किसान सीधे कृषि मंत्री से संवाद करना चाहता है, तो वह दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर शून्य क्रमांक दबाकर संवाद कर सकता है। यह संवाद कामकाजी समय में ही किया जा सकेगा। इस उपक्रम के माध्यम से कृषि मंत्री ने मंत्रालय में विशेष व्यवस्था की गई है। यहां पर किसानों के कॉल दर्ज किए जाएंगे। उसके बाद किसानों की शिकायत किस विषय से संबंधित है, इसे देखकर संबंधित अधिकारी तथा कर्मचारी को निराकरण के लिए भेज दिया जाएगा। अधिकारी को दो दिन में जवाब देना होगा। शिकायतकर्ता को उसकी शिकायत पर क्या कार्रवाई हुई है, इसकी जानकारी दी जाएगी।

कृषि मंत्री ने अमरावती जिले के कृषि सहायकों से संवाद साधकर योजना की शुरूआत की। खरीफ मौसम में किसानों से किस तरह से संपर्क कर सकते है, इस बारे में मार्गदर्शन दिया। प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के लाभ से पात्र किसान वंचित न रहे, इस इस बारे में निर्देश देते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि नए से शुरू किए गए प्रधानमंत्री कृषि मानधन योजना के लिए पात्र किसानों की सूची तैयार की जाए। उन्होंने बताया कि कृषि संवाद केंद्र के माध्यम से कृषि मंत्री के साथ-साथ कृषि राज्यमंत्री और कृषि सचिव भी संवाद साध सकते हैं।

Check Also

वर्सोवा के सभी गोविंदाओं का 10-10 लाख रुपये का बीमा

वर्सोवा के सभी गोविंदाओं का 10-10 लाख रुपये का बीमा विशेष संवाददाता, मुंबई वर्सोवा विधान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *