ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / क्या आपको भी होती है शक्कर की तलब?

क्या आपको भी होती है शक्कर की तलब?



हेल्थ डेस्क. कई लोगों की आदत होती है कि वे खाना खाने के बाद कुछ न कुछ मीठा जरूर खाते हैं। कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें जब भी मौका मिलता है, मीठा खाने से खुद को नहीं रोक पाते हैं। इसे ‘शुगर क्रेविंग’ कहा जाता है यानी बार-बार मीठा खाने की तलब होना। यह अपने आप में कोई बीमारी नहीं है और अगर एक सीमा तक रहे, तो कोई खास नुकसान भी नहीं करती। लेकिन अगर यह बढ़ जाए तो मोटापा समेत कई तरह की समस्याओं की बड़ी वजह बन सकती है। इसलिए इसको नियंत्रित करना जरूरी है। डाइट एंड वेलनेस एक्सपर्ट डॉ. शिखा शर्मा बता रहींहैं शुगर क्रेविंग को नियंत्रित करने की 3 प्रमुख टिप्स…

  1. हालांकि शुगर क्रेविंग का संबंध सीधे-सीधे भूख से नहीं है। फिर भी कई स्टडीज में साबित हो चुका है कि अगर आपको शुगर क्रेविंग हो रही है, यानी कुछ मीठा खाने की तलब हो रही है तो मीठा खाने के बजाय तुरंत कुछ पौष्टिक चीज खा लीजिए, खासकर ऐसी चीजें जो प्रोटीन से युक्त हों। जैसे आप अंडा खा सकते हैं या कोई भी प्रोटीन युक्त स्नैक। बेहतर होगा कि ऑफिस या टूरिंग के दौरान भी आप भूने हुए चने, मूंगफली के दाने जैसी चीजें हमेशा अपने साथ रखें। पिज्जा, बर्गर या सैंडविच जैसा कुछ भी जंक खाने से बचना चाहिए।

  2. अगर मीठा खाने की इच्छा हो रही है तो मीठे के बेहतर विकल्पों पर जाएं। मसलन सेब, केला, नाशपाती, आलू बुखारा, आम या अमरूद या कोई भी सीजनल फल खाया जा सकता है। यहां बता दें कि शुगर क्रेविंग का संबंध मस्तिष्क से ज्यादा होता है। शुगर क्रेविंग मस्तिष्क को शांत करने की कवायद भी होती है। तो जब फल के रूप में मीठा खाएंगे तो मस्तिष्क शांत हो जाएगा और इस तरह आप एडेड शुगर खाने से बच जाएंगे। अपने फ्रिज और किचन से शक्करयुक्त चीजें जैसे मिठाई, आइसक्रीम, फलों के जूस, कैंडीज को हटाकर उनके स्थान पर तरह-तरह के फल रखेंगे तो बेहतर रहेगा।

  3. स्ट्रेस भी शुगर क्रेविंग की बड़ी वजह है। जब व्यक्ति तनाव में होता है तो उसका मस्तिष्क उसे कम करने के लिए शक्कर की मांग करता है। मतलब यह है कि हम तनाव को कम करके भी शुगर क्रेविंग को दूर कर सकते हैं। तनाव दूर होने से ‘एंडोरफिन’ नामक फील गुड केमिकल रिलीज होता है। एंडोरफिन की अधिकता शुगर क्रेविंग को कम करती है।

    • जब भी मीठा खाने की इच्छा हो, डार्क चॉकलेट के एक-दो पीस खाए जा सकते हैं। डार्क चॉकलेट एंडोरफिन नामक फील गुड केमिकल रिलीज करती है जो तनाव को कम कर शुगर क्रेविंग को नियंत्रित करता है।
    • जब भी कुछ मीठा खाने का मन हो तो छाछ पिएं या दही खाएं। छाछ या दही से न केवल शुगर क्रेविंग कंट्रोल होती है, बल्कि ओवरईटिंग की समस्या भी कम होती है।
    • एक अच्छा विकल्प है खजूर। इसे खाने से मस्तिष्क को संदेश मिलता है कि ‘कुछ मीठा’ खा लिया गया है। हालांकि तीन-चार खजूर से ज्यादा नहीं खाएं।
    • गुड़-सत्तू शुगर क्रेविंग को नियंत्रित करने का एक बेहतर विकल्प है। गर्मी के दिनों में गुड़ के साथ सत्तू खाने से एनर्जी भी मिलेगी।
    • घर पर ही मीठे के बेहतर ऑप्शन जैसे लौकी-हलवा, ओट्स की फिरनी तैयार करें। इसमें शुगर की जगह गुड़ का इस्तेमाल करें।
    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      diet salah by dr shikha sharma- 3 tips for sugar craving

Check Also

फेसबुक पोस्ट से पता चलेगा इंसान डिप्रेशन, ड्रग एडिक्शन और डायबिटीज का मरीज है या नहीं

हेल्थ डेस्क. फेसबुक पर लिखी गई पोस्ट से डिप्रेशन और ड्रग एडिक्शन के मामलों का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *