ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / क्रैश डाइटिंग या फैट बंद करने से नहींं होगा फायदा, वजन घटाना चाहते हैं तो ना करें यह पांच गलतियां

क्रैश डाइटिंग या फैट बंद करने से नहींं होगा फायदा, वजन घटाना चाहते हैं तो ना करें यह पांच गलतियां



हेल्थ डेस्क.अधिकांश लोग अपने बढ़े हुए वजन से परेशान रहते हैं। वे किसी भी तरह से वजन को घटाना चाहते हैं। लेकिन वजन घटाने के दौरान वे कुछ ऐसी गलतियां कर जाते हैं, जो उन्हें अपने “स्लिम-ट्रिम’ होने के लक्ष्य से उलटा दूर ही ले जाती हैं। डॉ. शिखा शर्मा आज बता रही हैं ऐसी ही कुछ गलतियों के बारे में…

  1. जल्दी वजन घटाने के फेर में कई लोग खासकर महिलाएं क्रैश डाइटिंग करने लगती हैं। क्रैश डाइटिंग का मतलब अपने शरीर की जरूरत की तुलना में बहुत कम खाना या कई बार केवल लिक्विड डाइट पर रहना। इससे न केवल मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है, बल्कि हॉर्मोन्स का संतुलन भी बिगड़ जाता है। मेटाबॉलिज्म धीमा होने का मतलब है भोजन को एनर्जी में बदलने की क्षमता का कम हो जाना। इसका नतीजा होगा वजन में बढ़ोतरी। इसी तरह वेट मैनेजमेंट में हॉर्मोन्स भी अहम भूमिका निभाते हैं। इसलिए हॉर्मोनल बैलेंस भी जरूरी है और इसके लिए जरूरी है पर्याप्त हेल्दी डाइट।

  2. कई लोगों के मन में यह धारणा रहती है कि कार्बोहाइड्रेट्स केवल मोटा बनाते हैं। इसलिए कुछ लोग जीरो कार्बोहाइड्रेट डाइट पर चले जाते हैंं। लेकिन कार्बोहाइड्रेट अलग-अलग तरह के होते हैं और सभी नुकसान नहीं करते, जैसे मोटे अनाज के कॉम्लेक्स कॉर्ब्स। अगर हम कार्बोहाइड्रेट बिल्कुल भी नहीं लेंगे तो मोटापा कम होना तो दूर, कब्ज जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। हां, मैदा, ब्रेड, बिस्किट को अवॉइड करना चाहिए, क्योंकि ये नुकसान पहुंचा सकते हैं। गेहूं की मात्रा को भी कम करके उसकी जगह अन्य अनाज जैसे बाजरा, ज्वार की मात्रा बढ़ाई जा सकती है।

  3. ज्यादा फैट अच्छा नहीं है, लेकिन इसे पूरी तरह से अवॉइड करना भी गलत है। फैट को डाइट से हटाने का मतलब होगा हॉर्मोनल सिस्टम के साथ छेड़छाड़ करना। वजन को बैलेंस करने में हॉर्मोन्स का बैलेंस रहना जरूरी है। यहां यह पता होना चाहिए है कि हमें कौन-से फैट लेने हैं और कौन-से नहीं। देसी घी और नारियल तेल बेहतर फैट माने जाते हैं। रिफाइन्ड तेल, बटर का सेवन कम से कम करना चाहिए। वनस्पति घी का इस्तेमाल तो बिल्कुल अवॉइड करें। गुड फैट हमें बादाम, अखरोट जैसे नट्स से भी मिलते हैं।

  4. अगर आप वाकई में वजन घटाना चाहते हैं तो एक काम जरूर करें कि पैकेज्ड फूड खाना छोड़ दें, भले ही पैकेट के ऊपर कितने भी लो फैट, जीरो फैट, होल ग्रेन जैसे लुभावने वादे किए गए हों। लेकिन हममें से अधिकांश लोग ऐसी ही लुभावनी बातों में आ जाते हैं। कई तथाकथित ‘लो फैट फूड’ में तो पोटैटो स्टार्च, राइस फ्लोर और स्टेबलाइजर्स के रूप में नुकसान पहुंचाने वाला फैट भी काफी मात्रा में छिपा होता है। जाहिर-सी बात है इससे वजन कम करने का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाएगा।

  5. आप चाहे कितना भी आदर्श डाइट प्लान अपना लें, लेकिन यह सकारात्मक परिणाम में तब तक नहीं बदल सकता, जब तक कि आप समुचित नींद नहीं लेंगे। समुचित नींद नहीं लेने का असर हॉर्मोनल सिस्टम पर पड़ता है। यहां समुचित नींद का मतलब है रात के समय 7 से 8 घंटे की गहरी नींद लेना। लेकिन 8 घंटे से ज्यादा नींद हानि पहुंचाकर आपके वजन को बढ़ा सकती है। इसके अलावा दोपहर की नींद को अवॉइड करना जरूरी है। यानी कोशिश रहे कि पूरी नींद रात के समय ली जाए, न कि रात और दिन को मिलाकर। इसी तरह एक्सरसाइज नहीं करना भी एक बड़ी गलती है। कम से कम 30 मिनट तक ब्रिस्क वॉकिंग ही कर लीजिए।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      diet salah by dr shikha sharma- mistakes weight conscious people often make

Check Also

30 मिनट में घर पर ही हाथ और पैरों को बनाएं कोमल और चमकदार

क्या चाहिए- नेलपेंट रिमूवर, नेलकटर, कॉटन, टब या बाल्टी, शैम्पू, गुनगुना पानी, मॉइश्चराइज़िंग क्रीम, 2 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *