ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राशिफल / खराब मौसम के कारण एक किसान की फसल बार-बार नष्ट हो जाती थी, वो भगवान से नाराज हो गया, भगवान ने प्रकट होकर उससे कहा- अब तुम जैसा मौसम चाहोगे, वैसा ही हो जाएगा

खराब मौसम के कारण एक किसान की फसल बार-बार नष्ट हो जाती थी, वो भगवान से नाराज हो गया, भगवान ने प्रकट होकर उससे कहा- अब तुम जैसा मौसम चाहोगे, वैसा ही हो जाएगा



रिलिजन डेस्क। किसी गांव में एक किसान रहता है। एक बार उसकी फसल बाढ़ आ जाने से खराब हो गई। उसने दूसरी फसल बोई, अबकी बार पानी ही नहीं आया। लगातार दो फसलें खराब हो जाने से वह भगवान से बड़ा नाराज हो गया और भला-बुरा कहने लगा।
उसकी बातें सुनकर भगवान प्रकट हुए। भगवान ने किसान से वरदान मांगने को कहा। किसान ने कहा कि- सिर्फ एक साल मुझे मौका दीजिए, जैसा मौसम मैं चाहूं, वैसा हो जाए। फिर आप देखना मैं कैसे अन्न के भंडार भर दूंगा। भगवान ने उसे ये वरदान दे दिया।
किसान ने गेहूं की फ़सल बोई। उसने जैसा मौसम चाहा, उसे मिला। समय के साथ फसल बढ़ी और किसान की ख़ुशी भी। क्योंकि ऐसी फसल तो पहले कभी नहीं नहीं हुई थी। किसान ने सोचा अब पता चलेगा भगवान को, कि फसल कैसे करते हैं, बेकार ही इतने साल हम किसानों को परेशान करते रहे।
फसल काटने का समय भी आया, किसान बड़े गर्व से खेत में गया, लेकिन जैसे ही फसल काटने लगा तो उसने देखा कि बाली में एक भी गेहूं का दाना नहीं था। ये देखकर किसान बहुत दुखी हो गया और उसने परमात्मा से क्हा- आपने ऐसा क्यों किया?
भगवान प्रकट हुए और बोलें- ये तो होना ही था, तुमने पौधों को संघर्ष का ज़रा सा भी मौका नहीं दिया। इसीलिए सब पौधे खोखले रह गए। जब आंधी और तेज बारिश होती है तो पौधा विपरीत परिस्थिति में खुद को बचाने के लिए संघर्ष करता है, इससे उसके अंदर ऊर्जा का संचार होता है। तभी उसमें से अन्न उपजता है।
भगवान की बात सुनकर किसान को अपनी गलती का अहसास हुआ।

लाइफ मैनेजमेंट
लाइफ में कई बार ऐसा समय आता है जब हम हर तरफ से हताश हो जाते हैं तब भगवान को कोसते हैं। लेकिन इसका दूसरा नजरिया भी है। अगर हमें बिना किसी परेशानी के सबकुछ आसानी से मिल जाएगा तो हम संघर्ष का महत्व नहीं समझ पाएंगे। चुनौती ना हो तो आदमी खोखला ही रह जाता है। अगर हमें अपने जीवन में आगे बढ़ना है तो विपरीत परिस्थिति में खुद को साबित करना सीखना होगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Farmer’s story, story in hindi, story for sharing, story for kids, story with learning, story with moral, स्टोरी इन हिंदी, स्टोरी फॉर किड्स इन हिंदी,

Check Also

गणेशजी प्रथम पूज्य देव हैं और इस वजह से पूजा की शुरुआत में उनका प्रतीक चिह्न स्वस्तिक बनाने की परंपरा है

रिलिजन डेस्क। पूजा करते समय सबसे पहले गणेशजी का प्रतीक चिह्न स्वस्तिक बनाया जाता है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *