ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / खुश्बूदार तेलों से इलाज, सिरदर्द-अनिद्रा के लैवेंडर ऑइल और जोड़ों में दर्द के लिए लौंग का तेल लगाएं

खुश्बूदार तेलों से इलाज, सिरदर्द-अनिद्रा के लैवेंडर ऑइल और जोड़ों में दर्द के लिए लौंग का तेल लगाएं



लाइफस्टाइल डेस्क. एसेंशियल ऑइल का इस्तेमाल सिर्फ खूश्बू के लिए नहीं तनाव, सिरदर्द और अनिद्रा दूर करने के लिए भी किया जाता है। अलग-अलग एसेंशियल ऑइल का इस्तेमाल कई तरह के रोगों में किया जाता है। यह फायदा पहुंचाए इसके लिए इस्तेमाल करने का तरीका भी जानना जरूरी है। वीएलसीसी के लाइफस्टाइल एक्सपर्ट विशाल मुद्गिल बता रहे हैं इनका कब और कैसे इस्तेमाल करें….

    • फुट सोल, नेक टेंपल, चेस्ट एरिया और पल्स पॉइंट्स पर एसेंशियल ऑइल लगाते हैं। एक या दो बूंद ही काफी होती है। ऑलिव ऑइल, ग्रेप सीड ऑइल और होहोबा ऑइल के साथ मिलाकर लगाया जाता है। हर एसेंशियल ऑइल को सीधे स्किन पर लगाना सुरक्षित नहीं होता।
    • लैवेंडर, पिपरमिंट और बेसिल जैसे तेल सिरदर्द, मोशन सिकनेस, नॉशिया, स्ट्रेस और अनिद्रा कम करते हैं। ज्यादा असर के लिए ऑइल को गले के पीछे लगाते हैं।
    • हाई ब्लडप्रेशर, डिप्रेशन के लिए बरगेमॉट ऑइल है। ज्यादा असर के लिए इसे चेस्ट एरिया पर लगाते हैं।
    • लेमन ऑइल, यूकेलिप्टस और पिपरमेंट ऑइल को हेडेक्स, डिज़ीनेस, एंग्जाइटी और थकान के दौरान इस्तेमाल किया जाता है। ज्यादा असर के लिए इसे कान के पीछे लगाते हैं।
    • क्लोव ऑइल शोल्डर और जॉइंट पेन के लिए असरदार है। जहां दर्द हो सीधे वहीं लगाते हैं।
    • लेमन, बेसिल और लैवेंडर ऑइल कान का दर्द और चक्कर आने के लिए असरदार हैं।
    • नहाते वक्त एसेंशियल ऑइल का इस्तेमाल करने से शरीर और दिमाग दोनों रिलेक्स हो जाते हैं। एक रुमाल पर एसेंशियल ऑइल की पांच-दस बूंदे डालें और नहाने के लिए साथ लेकर जाएं। रुमाल को शावर फ्लोर के कोने में रख दें। शावर से तेज गर्म पानी निकलने दें जिससे स्टीम बनेगी। अब पानी का तापमान सामान्य कर लें।
    • स्प्रे बॉटल के जरिए शावर एरिया को खुश्बूदार बना सकते हैं, इसमें दीवारें और शावर कर्टेन भी शामिल हैं। स्प्रे करने से पहले स्टीम बनाने के लिए शावर को तेज गर्म तापमान पर चालू करें।
    • शावर के बाद एसेंशियल ऑइल को शरीर पर मसाज कर सकते हैं। दोनों घुटनों के पीछे एक-एक बूंद डालें। गले, अंडरआर्म्स और पैरों पर भी डालें। शावर बंद करने से पहले डीप ब्रीदिंग करें।
    • एसेंशियल ऑइल को मसाज के जरिए भी लगाया जाता है। तनाव दूर करने के लिए और ब्लड सर्कुलेशन में सुधार लाने के लिए इसे शरीर पर मसाज किया जाता है। मसाज ऑइल बनाने के लिए आधा कप कैरियर ऑइल के अंदर 15-20 बूंद एसेंशियल ऑइल डाल सकते हैं। इसे पैरों पर मसाज करके बहुत आराम मिलता है।
  1. एसेंशिल ऑइल्स की खुश्बू को बोतल से सीधे भी लिया जा सकता है या हथेली के बीच दो बूंद लेकर खुश्बू ली जा सकती है। रुमाल में भी दो-तीन बूंद ऑइल लेकर सूंघा जा सकता है।

  2. घर पर एसेंशियल ऑइल्स को बहुत आसानी से डिफ्यूज किया जा सकता है। ज्यादातर ऑइल इन्हेल और डिफ्यूज़ करने के लिए सुरक्षित होते हैं। अपना डिफ्यूज़र बनाने के लिए एसेंशियल ऑइल की पांच बूंद एक ऑइल बर्नर में डाल सकते हैं।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      oil therapy know how to use essential oil to curb health problem

Check Also

कान्हा के जन्मोत्सव पर लगाएं गोपालकाला और फलाहारी गुलाब जामुन का भोग

लाइफस्टाइल डेस्क. जन्माष्टमी पर कन्हैया के मन को भाने वाले माखन मिश्री का प्रसाद बनाया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *