ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / राजस्थान / गहलोत ने कहा- बेनीवाल साथ आते तो मंत्री बन सकते थे, वे बीजेपी के झांसे में आ गए

गहलोत ने कहा- बेनीवाल साथ आते तो मंत्री बन सकते थे, वे बीजेपी के झांसे में आ गए



नागौर.मुख्यमंत्री अशाेक गहलाेत ने कहा कि हमने हनुमान बेनीवाल को खूब समझाया कि राजनीति में दुश्मनी नहीं होती। आपके ज्योति से राजनीतिक संबंध अच्छे बनने चाहिए। पुरानी बातें भूलो और नया अध्याय शुरू करो, लेकिन आप जानते हो कि हनुमान बेनीवाल समझ सकते हैं क्या? अगर समझते तो उनका भविष्य उज्जवल होता। हमारी सरकार में आ सकते थे, मंत्री भी बन सकते थे पर जिस प्रकार उनका नेचर है, आप जानते हो, वे नहीं माने। मैंने तीन बार समझाने का प्रयत्न किया। आखिर में वो अमित शाह और उनकी टीम के झांसे में आ गए। अब बेनीवाल जिंदगीभर पछताएंगे।

गहलाेत मंगलवार को पशु प्रदर्शनी स्थल पर कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति मिर्धा के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा में बाेल रहे थे। अशोक गहलोत ने कहा कि देश खतरनाक मोड़ पर खड़ा है। ये चुनाव लोकतंत्र, देश और संविधान को बचाने का है। बातों ही बातों में कहा कि चुनाव बाद राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्ज को माफ करने की कोशिश रहेगी। गहलोत ने दो बार कहा- कृपा करके ज्योति काे जिताओ। हरियाणा के पूर्व सीएम भुपेंद्र हुड्डा ने कहा मेरे बेटे दीपेंद्र से अधिक मतों से आप ज्योति को जिताएंगे।

इस दौरान मंत्री रघु शर्मा, मास्टर भंवरलाल, सुखराम बिश्नोई, उपमुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी सहित विधायक रामनिवास गावड़िया, चेतन डूडी, मंजू मेघवाल, मुकेश भाकर, पूर्व विधायक सहित अनेक कांग्रेसी मौजूद रहे।
ज्याेति मिर्धा ने कहा, कांग्रेसी समझदार थे, बेनीवाल की बातों में नहीं आए, बीजेपी वाला ठगीजगा। ज्योति मिर्धा ने कहा, मंच पर एक वर्तमान सीएम, एक पूर्व और एक भावी सीएम बैठे हैं। ज्योति का इशारा भावी सीएम के लिए सचिन पायलट की ओर था।

गहलाेत ने नागाैर में पर्यटक रूपी प्रत्याशी थाेपी:

हनुमान बेनीवाल ने कहा कि आज अशोक गहलाेत काे मुझे समझाैते करने की अपनी नसीहत को सार्वजनिक रूप से स्वीकारा। मेरी समझौता न करने की प्रकृति को भी वर्णित किया, पर ये बताने में नाकाम रहे की नागौर की जनता पर पर्यटक रूपी प्रत्याशी ज्योति मिर्धा किस समझौते के तहत थाेपी।

वसुंधरा को राजस्थान से बाहर भेज दिया, अब भाजपा का नेता कौन:
डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि भाजपा ने वसुंधरा को राजस्थान से बाहर भेज दिया है। प्रदेश में इनके नेता कौन है इन्हें मालूम नहीं है। अब आपस में झगड़े कर रहे है और विरोधाभास भी है। फिर भी भाजपाई अफवाह फैला रहे हैं कि सचिन पायलट और अशोक गहलोत की आपस में बनती नहीं। हकीकत में ऐसा नहीं है। हम सब साथ हैं और एक हैं। हमारी मजबूती की वजह से हम मिशन 25 पूरा करेंगे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

Check Also

चलती ट्रेन से गिरे दो भाई, गाड़ी को 1 किलोमीटर रिवर्स कर एंबुलेंस तक पहुंचाया

शभम. बारां. शुक्रवार शाम 4 बजे अटरू सलपुरा रेलवे लाइन के गेट नंबर 58-59 के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *