ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राशिफल / चैत्र पूर्णिमा/ 18 और 19 अप्रैल को दो दिन रहेगी पूर्णिमा, पुण्य प्राप्ति के लिए करें हनुमान चालीसा का पाठ

चैत्र पूर्णिमा/ 18 और 19 अप्रैल को दो दिन रहेगी पूर्णिमा, पुण्य प्राप्ति के लिए करें हनुमान चालीसा का पाठ



रिलिजन डेस्क. हिन्दी पंचांग के अनुसार इस बार चैत्र मास में दो दिन पूर्णिमा तिथि रहेगी। 18 अप्रैल को व्रत की पूर्णिमा है और 19 को स्नान दान करने की पूर्णिमा है। गुरुवार को हाटकेश्वर जयंती मनाई जाएगी और शुक्रवार को हनुमान जंयती। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए इस तिथि पर कौन-कौन से शुभ काम किए जा सकते हैं…

  • गुरुवार, 18 अप्रैल को व्रत की पूर्णिमा रहेगी। इसी दिन भगवान हाटकेश्वर की जयंती भी है। गुरुवार को भगवान सत्यनारायण की पूजा करें और उनकी कथा का पाठ करें या किसी ब्राह्मण से करवाएं। पूर्णिमा पर सत्यनारायण भगवान की कथा करने की परंपरा पुराने समय से चली आ रही है। माना जाता है कि भगवान की कथा करने से घर-परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है।
  • शुक्रवार 19 अप्रैल को हनुमान जयंती मनाई जाएगी। इस दिन किसी हनुमान मंदिर में जाएं और हनुमान के सामने दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  • शुक्रवार को हनुमान को सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाएं। अगर संभव हो तो इस दिन श्रीरामचरित मानस के सुंदरकांड का पाठ करें।
  • पूर्णिमा तिथि पर किसी पवित्र नदी में स्नान करें और स्नान के बाद गरीबों को धन का दान करें। अभी गर्मी का समय चल रहा है, इन दिनों में छाते का दान या पानी का दान करना बहुत शुभ माना जाता है। किसी गरीब को चप्पल या जूते का दान भी कर सकते हैं।
  • इस तिथि पर घर में क्लेश न करें। जिन घरों में पति-पत्नी के बीच वाद-विवाद होता है, वहां नकारात्मकता का वास होता है। पूर्णिमा पर माता-पिता या किसी अन्य वृद्ध का अपमान करें। घर में साफ-सफाई रखें, गंदगी न होने दें।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


chaitra purnima on 18 and 19 april 2019 do hanuman chalisa path vrat and puja vidhi

Check Also

पत्नी ने छत पर गार्डन बनाया, एक दिन पति छत पर गया तो देखा कि पत्नी  मुरझाए हुए पौधे को हरे-भरे पौधों की बीच रख रही है, पति ने कारण पूछा तो उसने कहा- अकेला होने के कारण ये पौधा मुरझा गया है

रिलिजन डेस्क। शहर में पति-पत्नी रहते थे। पत्नी को बागवानी का शौक था, इसलिए उन्होंने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *