ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / हरियाणा / जवान जोगेंद्र अहलावत खिलाड़ियों की करते थे आर्थिक मदद, अब गांव में बनेगा स्मारक

जवान जोगेंद्र अहलावत खिलाड़ियों की करते थे आर्थिक मदद, अब गांव में बनेगा स्मारक




त्रिपुरा में मातृभूमि की रक्षा करते हुए शहीद हुए गांव बल्लम के जवान 50 वर्षीय जोगेंद्र सिंह अहलावत का शव शुक्रवार को मौसम खराब होने के कारण गांव में नहीं पहुंच सका। शहीद हुए जवान का शव त्रिपुरा से हवाई जहाज के माध्यम से शुक्रवार रात को दिल्ली में बीएसएफ मुख्यालय लाया गया है। अब शनिवार सुबह करीब 9 बजे गांव बल्लम में पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। जवान जोगेंद्र सिंह को खेल-कूद का भी शौक था, वह जब भी गांव में प्रतियोगिता होती थी तो आर्थिक सहायता करते थे। सरपंच बिजेंद्र सिंह ने बताया कि अब गांव में शहीद जोगेंद्र सिंह का स्मारक बनाया जाएगा। बल्लम निवासी जोगेंद्र सिंह वर्ष 1988 में बीएसएफ की 66 बटालियन में भर्ती हुए थे। गांव के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय से दसवीं पास करने के बाद वे दिल्ली छावला कैंप में बीएसएफ में भर्ती हुए थे। फिलहाल में वे सब इंस्पेक्टर की पोस्ट पर त्रिपुरा में तैनात थे। शहीद के भाई देवेंद्र ने बताया कि बीएसएफ के एक अधिकारी ने लगभग 11 बजे फोन पर उनके भाई जोगेंद्र सिंह को गोली लगने की जानकारी दी थी। करीब साढ़े बारह बजे अधिकारी ने फोन कर जोगेंद्र सिंह के शहीद होने की सूचना दी। उन्होंने बताया कि जब उनके भाई जोगेंद्र सिंह करीब सवा आठ बजे जब ड्यूटी पर पहुंचे तो घात लगाए बैठे नक्सलियों के साथ मुठभेड़ हो गई थी। जिसमें उन्हें गोली लग गई थी। त्रिपुरा से उनका शव विमान से आना था परंतु किन्ही कारणों से लेट हो गया। जो शनिवार सुबह गांव बलम में लाया जाएगा। राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

विधायक शकुंतला खटक शहीद के घर पहुंची

शहीद के भाई देवेंद्र अहलावत ने बताया कि कलानौर से विधायक शकुंतला खटक शुक्रवार को शहीद के घर पहुंची और परिजनों को ढांढस बंधाया। शकुंतला खटक ने कहा कि उन्हें शहीद जोगेंद्र सिंह पर गर्व है, जिन्होंने इस मातृभूमि के लिए अपने प्राणों को कुर्बान किया है। वह शहीद के परिवार के साथ है और परिजनों की हर मुमकिन सहायता करेंगी। देवेंद्र अहलावत हरियाणा पुलिस में तैनात है।

घर पर जवान जोगेंद्र अहलावत के शव का इंतजार करते परिजन।

अंतिम संस्कार आज : गांव में शहीद के अंतिम संस्कार की पूरी तैयारी कर ली गई है। गांव के श्मशान घाट को साफ किया गया है और सभी व्यवस्थाएं की गई है। पूरे राजकीय सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई दी जाएगी। इस मौके पर जहां प्रशासन की तरफ से अधिकारी मौजूद रहेंगे। अंतिम संस्कार में कई नेता व अन्य गणमान्य व्यक्तियों के पहुंचने की भी उम्मीद है।

पंचायत व परिवार की सरकार से डिमांड

<img src="images/bulletblack.png"दोनों लड़कों को हरियाणा सरकार की ओर से नौकरी दी जाए।

<img src="images/bulletblack.png"शहीद के परिवार को आर्थिक सहायता दी जाए।

<img src="images/bulletblack.png"शहीद के परिवार को सीएनजी पंप दिया जाए।

परिवार की सहमति से बनाया जाएगा स्मारक

जोगेंद्र सिंह की शहादत को लेकर गांव में पंचायत की गई। सरपंच बिजेंद्र सिंह ने बताया कि शहीद जोगेंद्र सिंह का गांव में स्मारक बनाया जाएगा। जो परिवार की सहमति से जहां जगह निश्चित होगी वही स्मारक बनाया जाएगा।

छोटे बेटे की जहाज में बैठने की एक दिन पहले ही की थी जिद पूरी : शहीद जोगेंद्र 5 मार्च को घर से छुट्टी से लौटकर वापस ड्यूटी आए थे। 1 महीने की छुट्टी गांव से बिताने के बाद 6 मार्च को वापस अपनी ड्यूटी पहुंचे थे। शहीद का एक बेटा 23 वर्षीय अनिल बचपन से ही एक हाथ से हैंडीकैप्ड है, जिसने बीए पास की हुई है। वहीं दूसरा बेटा सोमवीर एमपीएचडब्ल्यू हिसार से कोर्स कर रहा है। जब भी पिता घर आते तो छोटा बेटा सोमवीर पिता से जहाज में घूमने की जिद किया करता था जो 13 तारीख को पिता के पास घूमने के लिए गया था। जो एक दिन वह अपने पिता के साथ रहा और अगले दिन यह घटना घट गई।

फौज में भर्ती होने से पहले ही कबड्डी खेलने का था शौक : शहीद के दोस्त रणवीर सिंह ने बताया कि वे दोनों एक साथ बीएसएफ में भर्ती हुए थे और जोगेंद्र को शुरू से ही फौज में भर्ती होने का शौक था। शहीद को कबड्डी खेलने के काफी शौक था। गांव में जब भी कोई प्रतियोगिता होती तो उसमें उसमें बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं। नौकरी करते हुए भी अपनी बटालियन के साथ भी काफी बार मैच खेलते थे और गांव में भी सभी के साथ मिलनसार थे उनका स्वभाव काफी सरल था। गांव के बच्चों द्वारा जब गांव में कोई खेल प्रतियोगिता करवाई जाती तो उसके लिए भी वे आर्थिक सहायता देते थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Kalanaur News – haryana news young jogendra ahlawat used to help economists monument to be built in village now


Kalanaur News – haryana news young jogendra ahlawat used to help economists monument to be built in village now

Check Also

मिलगेट क्षेत्र के शिव नगर में घर से खिलौने, गहने, कैश आैर सामान चोरी

मिलगेट स्थित शिव नगर में चोरों ने बंद आवास में सेंधमारी कर नकदी, गहने, किचन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *