ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / मनोरंजन / टीवी एक्टर्स की कमाई का 20 फीसदी हिस्सा को-ऑर्डिनेटर्स व पीआर को चला जाता है

टीवी एक्टर्स की कमाई का 20 फीसदी हिस्सा को-ऑर्डिनेटर्स व पीआर को चला जाता है



टीवी डेस्क. टेलीविजन इंडस्ट्री में ऑडिशन देने, काम पाने और एक मुकाम बनाने के दौरान को-ऑर्डिनेटर, पीआर का बड़ा हाथ होता है। नए और पुराने दोनों ही आर्टिस्ट बेहतर काम के लिएकमाई का प्रॉफिट पर्सेंटेज इनके साथ शेयर करते हैं। जानिए ऐसे ही टीवी आर्टिस्ट्स के प्रॉफिट पर्सेंटेज शेयर करने की कहानी….

  1. सच कहूं तो मुझे भी काम पाने के एवज में पर्सेंटेज देना पड़ा है। मेरे पापा ने यह डील की थी, क्योंकि मैंने 7 साल की उम्र में बतौर बाल कलाकार ‘क्या हादसा क्या हकीकत’ से काम करना शुरू किया था। उस समय कमाई का 10 से 15 फीसदी चुकाना पड़ा था।

  2. मैं जुलाई, 2014 में इंदौर से मुंबई आई। तब से को-ऑर्डिनेटर से कॉन्टैक्ट करना शुरू कर दिया। उनके ही जरिए मेरी प्रोडक्शन हाउस में एंट्री हुई। को-ऑर्डिनेटर हमारे बीच एक सोर्स की तरह होते हैं। ये न सिर्फ काम दिलवाते हैं, बल्कि इनके जरिए गाइडेंस मिलता है। मैंने ‘महाराणा प्रताप’ के लिए पहले को-ऑर्डिनेटर धनंजय को 20 पर्सेंटदिया था। ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ भी ऐसे ही मिला। इसके बाद कभीफीस नहीं देनी पड़ी।

  3. मैं काफी लकी रही कि कभी भी किसी प्रोजेक्ट के लिए कोई फीस नहीं चुकानी पड़ी। मैं ‘कुंडली भाग्य’ में शर्लिन खन्ना का रोल निभा रही हूं, यह भी मुझे ‘बालाजी’ के इन-हाउस कास्टिंग डायरेक्टर के जरिए मिला है। मैं मिस इंडिया वर्ल्डवाइडरह चुकी हूं और मॉडलिंग करती हूं। थोड़ा फेमस होने के कारण सीधे काम मिलने लगा था। मैं मानती हूं कि बाहर से आने वाले लोगों को काफी स्ट्रगल करना पड़ता है।

  4. आर्टिस्ट मैनेजर हमारे काम में कड़ी की तरह होते हैं। बाहर के लोग जो स्टार्स से जुड़ना चाहते हैं, उसमें मैनेजर, आर्टिस्ट मैनेजर अहम भूमिका निभाते हैं। अभी मैं बरेली में शो करने जा रही हूं। यह शो आर्टिस्ट मैनेजर की वजह से ही कर पा रही हूं। वे डिजर्व करते हैं इसलिए उन्हें पर्सेंटेज दे रहे हैं। मैं पर्सेंटेज जाहिरनहीं करना चाहती, पर सेम पर्सेंट देते आई हूं। काम पाने के एवज में कुछ पर्सेंटेज देने में खलता नहीं है।

  5. जबकाम करना शुरू किया तब को-ऑर्डिनेटर के जरिए ही पहला शो मिला। उन्हें मेहनताने का 20 पर्सेंट देना पड़ता था। मैं राजा की आएगी बारात, अदालत, संकट मोचन हनुमान, कर्ण संगिनीशो में काम कर चुका हूं। इस समय विक्रम-बेतालमें इंद्र का रोल प्ले कर रहा हूं।

  6. इस इंडस्ट्री में मेरी फैमिली से कोई बिलॉन्ग नहीं करता। निश्चित हीयहां आप मुकाम बना सकते हो, लेकिन सीढ़ियां चढ़ते वक्त लोगों की मदद लेनी पड़ती है। शुरुआत में को-ऑर्डिनेटर के जरिए काम मिला और वे 20 पर्सेंट लेते थे। उसके बाद से मुझे सीधे प्रोड्क्शन हाउस से कॉल आने लगे। मैंने एक बात नोटिस की है कि कुछ ऐसे काम होते हैं, जो को-ऑर्डिनेटर और एजेंसी की मदद से ही बनते हैं। मेरी मुलाकात जब सेलिब्रिटी मैनेजर संतोष से हुई, तब मुझे महीने में वे दो इवेंट मिलने लगे। उन्होंने मुझे पॉलिटिक्स से कनेक्टेड इवेंट भी दिलाए। आज भी मुझे 10 से 15 पर्सेंट देना पड़ता है।

  7. ‘मैं एक एजेंसी चलाता हूं, जिसका नाम है ‘पिनाइकल सेलिब्रिटी मैनेजमेंट’। हम हर तरह से सेलिब्रिटी को अपने साथ कॉन्ट्रैक्ट करते हैं। इसमें नए और पुराने सेलिब्रिटीज दोनों होते हैं। नए लोगों के साथ हमारा पर्सेंटेज थोड़ा ज्यादा होता है, क्योंकि उनके ऊपर मेहनत ज्यादा करनी पड़ती है। पुराने एक्टर्स से हम पर्सेंटेज प्रॉफिट थोड़ा कम लेते हैं। हमारी क्लाइंट लिस्ट में सुरभि ज्योति, रश्मि देसाई, अपर्णा दीक्षित, वैशाली ठक्कर, शफ्फाक नाज, लवीना टंडन आदि हैं। हमारी नई कंपनी भी है, जिसमें सिंगर्स को साइन कर रहे हैं। उन्हें सिगिंग के क्षेत्र में इस्टैब्लिश करेंगे।’

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Tv artist have to share 20% of their fees with co-ordinaters and PR

Check Also

मौनी राय का जेट ऐयरवेज पर फूटा गुस्सा, कहा- 'मत रखो ऐसे लोगों को नौकरी पर'

मुंबई. टीवी सीरियल नागिन फेम एक्ट्रेस मौनी राय का जेट ऐयरवेज पर गुस्सा फूटा है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *