ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / दिन में साढ़े 3 घंटे से ज्यादा टीवी देखने पर घट सकती है बुजुर्गों की याददाश्त, किताब पढ़कर बढ़ाएं मेमोरी

दिन में साढ़े 3 घंटे से ज्यादा टीवी देखने पर घट सकती है बुजुर्गों की याददाश्त, किताब पढ़कर बढ़ाएं मेमोरी



हेल्थ डेस्क. पचास साल से ज्यादा उम्र के व्यक्तियोंकोदिन में साढ़े तीन घंटे से ज्यादा टीवी देखना उनकी याददाश्तको घटा सकता है। यहबात 3662 बुजुर्गों पर हुई रिसर्च में सामने आई है। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन की रिसर्च के अनुसार, टीवी ज्यादा देखने पर दिमाग पर तनाव बढ़ता है, जो याददाश्तघटने का कारण बनता है और बाद में डिमेंशिया (भूलने की बीमारी) की वजह बन सकता है।

  1. यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों का कहना है कि तय समय से अधिक टीवी देखना याददाश्तको घटाता है लेकिन किताब पढ़ने से मेमोरी में इजाफा होता है। शोध के मुताबिक, सीरियल, डॉक्यूमेंट्रीज और रियलिटीशाेजयाद करने की क्षमता को 10% तक घटा देते हैं।

  2. शोधकर्ता डॉ. डेजी फेनकोर्ट के मुताबिक पिछले एक दशक से टीवी और मेमोरी से जुड़ी रिसर्च को बच्चों से ही जोड़कर देखा जा रहा है। इसे जीवन के दूसरे हिस्से से जोड़ा नहीं गया। ऐसे लोग जो लगातार 25 सालों से टीवी देख रहे हैं उनमें डिमेंशिया की समस्या हो सकती है।

  3. रिसर्च में शामिल 3662 बुजुर्गों ने 2008-2009 और 2014-2015 में दिन में कितनी बार टीवी देखी, यह पूछा गया। इसके बाद उनसे शब्दों की एक सीरीज का टेस्ट लिया गया। परिणाम के रूप में सामने आया कि जिन्होंने टीवी नहीं देखी उनकी याददाश्त5% ज्यादा थी। लगातार 6 साल तक टीवी देखने वाले बुजुर्गों की याददाश्तमें 10% तक की गिरावट दर्ज की गई।

  4. सरेयूनिवर्सिटी के क्लीनिकल साइकोलॉजी के प्रोफेसर डॉ. बॉब पेटन का कहना है कि टीवी देखने के कारण दिमाग की संरचना में बदलाव होते हैंं खासकर उन हिस्सों में जिसका संबंध याददाश्त से होता है। हालांकि यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाया है कि टीवी पर प्रसारित होने वाले किस प्रकार के प्रोग्राम की वजह ऐसा होता है।

  5. शोधकर्ता डॉ. डेजी फेनकोर्ट का कहना है कि 50 साल की उम्र से ज्यादा के व्यक्ति अगर टीवी देख रहे हैं तो ज्यादा देर तक मत देखें। समय बिताने के लिए दूसरे रचनात्मक कामों या बुक रीडिंग पर फोकस कर सकते हैं।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      प्रतीकात्मक फोटो।


      ऐसे लोग जो लगातार 25 सालों से टीवी देख रहे हैं उनमें डिमेंशिया की समस्या हो सकती है।

Check Also

अहमदाबाद की कांकरिया लेक बनी देश का पहली 'क्लीन स्ट्रीट फूड हब', 66 वेंडर्स परोसते हैं स्ट्रीट फूड

​लाइफस्टाइल डेस्क.भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने अहमदाबाद की कांकरिया लेक को देश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *