ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / टेक / दुनिया की सबसे पावरफुल बैटरी, एक बार चार्ज करें और इलेक्ट्रिक कार से 965 किमी का सफर करें

दुनिया की सबसे पावरफुल बैटरी, एक बार चार्ज करें और इलेक्ट्रिक कार से 965 किमी का सफर करें



गैजेट डेस्क. प्रदूषण स्तर को कम करने के लिए अकेले भारत में ही नहीं विदेशों में भी अथक प्रयास किए जा रहे हैं। स्वीडिश की स्टार्टअप कंपनी इनोलिथ एक ऐसी लिथियम आयन बैटरी बनाने में कामयाब हो गई है, जो ई-व्हीकल की राह को और आसान बना देगा। कंपनी का दावा है कि यह बैटरी सिंगल चार्जिंग में 965 किलोमीटर की दूरी तय करेगी, हालांकि बैटरी को मार्केट में आने में लगभग तीन से पांच साल का समय लगेगा।

पर्यावरण को प्रदूषित करने में सबसे बड़ा हाथ कंबशन व्हीकल्स का है, जिससे कार्बन-मोनोऑक्साइड गैस का उत्सर्जन होता है, यह जहरीली गैस जो फेंफड़े संबंधित बीमारियों का कारण बनती है। इसे कम करने के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल को बेहतर विकल्प के रूप में देखा जा रहा है, लेकिन कम पावर की बैटरी इलेक्ट्रिक व्हीकल को पूरी तरह से स्थापित होने में नाकाम रहते हैं।

a

  1. कंपनी का कहना है कि हमारे द्वारा बनाई गई 1000 Wh/kg बैटरी का पेटेंट होना अभीबाकी है। हमारी बैटरी टेस्ला 3 कार की पेनासोनिक बैटरी से तीन गुना ज्यादा पावरफुल है।

  2. एलन मस्क की टेस्ला 3 इलेक्ट्रिक कार सिगंल चार्जिंग में 482 किलोमीटर तक की दूरी ही तय करती है। जबकि इनोलिथ के द्वारा बनाई गई बैटरी यू.एस डिपार्टमेंट ऑफ एनर्जी की बैटरी (500 Wh/kg) से भी ज्यादा क्षमता रखती है।

  3. इनोलिथ के सीईओ सेर्गेई बुचिन ने कहा कि इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट वर्तमान में मौजूद बैटरी रेंज की सीमाओं से भयभीत है। ग्राहक कम कीमत में ऐसी बैटरी चाहते हैं, जो सिंगल चार्जिंग में ज्यादा रेंज प्रदान करें साथ ही यह भी विश्वास दिलाए कि बैटरी में आग न लगे। इनोलिथ एनर्जी बैटरी ऐसी बैटरी बनाने में कामयाब हुई है जो इन सारी ही जरूरतों की पूर्ति करती है।

  4. पावरफुल बैटरी बनाने के लिए कंपनी ने एक खास तौर पर डिजाइन इनऑर्गेनिक इलेक्ट्रोलाइट को तैयार किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी के एग्जीक्यूटिव इसे नमक भी कहते हैं क्योंकि यह दिखने में बिल्कुल वैसा ही लगता है।

  5. लंबी दूरी तय करने वाली इस बैटरी के बारे में कंपनी का कहना है कि यह मौजूदा ‘वेट’ लिथियम आयन बैटरी की तुलना में काफी सुरक्षित है क्योंकि इसमें वाष्पशील रसायन का इस्तेमाल नहीं होता जो आगजनी का कारण बनते हैं।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Swedish startup makes lithium ion battery that runs 900 km in single charge

Check Also

स्पेस में रेडिएशन से बनी पगडंडी देखकर वैज्ञानिक लगा सकेंगे एलियन स्पेसशिप का पता

गैजेट डेस्क. वैज्ञानिकों का मानना है कि अगर ब्रह्मांडमें ऐसी उन्नत एलियन सभ्यता है, जो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *