ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / अंतररास्ट्रीय / नीरव मोदी जमानत के लिए ब्रिटेन की हाईकोर्ट में दायर कर सकता है अर्जी

नीरव मोदी जमानत के लिए ब्रिटेन की हाईकोर्ट में दायर कर सकता है अर्जी



लंदन.पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव मोदी (48) जमानत हासिल करने के लिए ब्रिटेन हाईकोर्ट में अर्जी दायर करने की तैयारी में है। इससे पहले लंदन की वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने पिछले हफ्ते उसे जमानत देने से इनकार कर दिया था। नीरव को 26 अप्रैल तक जेल में रहना होगा। इसी दिन उसके केस की अगली सुनवाई तय की गई है।

  1. चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा एबर्थनॉट ने शुक्रवार को नीरव की बेल अर्जी इस आधार पर खारिज कर दी थी कि उसके देश छोड़कर भाग जाने का खतरा है और उसकी ब्रिटेन से किसी तरह की सामाजिक संधि नहीं है।नीरव ने जेल से छूटने के लिए कोई कसर बाकी नहीं रखी थी। उसने कोर्ट से इसलिए जमानत देने की अपील की थी कि उसे अपने पालतू कुत्ते की देखभाल करनी है।

  2. नीरव को जमानत दिलवाने के लिए उसकी वकील क्लेर मोन्टगोमेरी ने कई तर्क दिए थे। उसने कहा कि नीरव का बेटा स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद यूनिवर्सिटी में चला गया है। इसलिए बुजुर्ग माता-पिता के लिए नीरव को कुत्ता रखना पड़ा। ऐसा कोई कदम नहीं जिससे यह प्रतीत होता हो कि कोई देश छोड़कर भागना चाहता है। लंबे समय से ब्रिटेन के लोगों की पहचान रही है कि वो जानवरों से बेहद प्यार करते हैं।

  3. हालांकि, मोंटगोमरी ने दलील दी- नीरव के भागने की बातें बकवास हैं। उसके पास कहीं जाने के लिए सुरक्षित पनाहगाह नहीं है। उसने कभी भी बाहर यात्रा नहीं की और ना ही कहीं दूसरी जगह की नागरिकता के लिए आवेदन किया। उसे केवल इस देश में रहने के लिए जमानत दी जानी चाहिए।

  4. भारत की ओर से बहस में शामिल क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) के वकील ने कहा था कि नीरव के ब्रिटेन छोड़कर भाग जाने का खतरा है। इस बात का भी जोखिम है कि वह सबूतों को नष्ट कर दे और गवाहों को प्रभावित करे। नीरव ने एक गवाह को फोन पर जान से मारने की धमकी दी थी और एक अन्य गवाह को घूस की पेशकश की थी।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव मोदी।

Check Also

जेल में पुलिस के साथ भिड़ंत में 29 कैदियों की मौत, मानवाधिकार संगठनों ने कहा- यह नरसंहार है

कराकस. वेनेजुएला के अकारिगुआ शहर में शनिवार को जेल में पुलिस और कैदियों के बीच …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *