ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / नौकर ने 2 रोटी के लिए मालकिन की हत्या की; बताया- 7 की भूख होती थी, 5 मिलती थीं

नौकर ने 2 रोटी के लिए मालकिन की हत्या की; बताया- 7 की भूख होती थी, 5 मिलती थीं



यमुनानगर.हरियाणा के यमुनानगर में एक नौकर ने दो रोटी के लिए अपनी मालकिन कीचाकू से गला रेतकर हत्या कर दी। पुलिस ने इस बात का खुलासा शुक्रवार को किया। उसने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसे सात रोटी की भूख होती थी, लेकिन मालकिन पांचरोटी ही देती थी, जिससेवह भूखा रह जाता था।

डीएसपी प्रदीप राणा ने बताया, “नौकरराजेश पासवानने26 साल की रोजी की हत्या कर दी।रोजी के पतिदीपांशुस्टोन क्रशर संचालक हैं।शनिवार को आरोपी को कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड पर भेजा जाएगा। पुलिसइस एंगल से भी जांच कर रही है कि कहीं रेप के बाद हत्या तो नहीं की गई। पोस्टमाॅर्टम के दौरान इसकी पुष्टि के लिए सैंपल लिए गए हैं। आरोपी के डीएनए सैंपल भी लिए जाएंगे।”हालांकि,आरोपी राजेश से जब पुलिस ने इस एंगल से पूछताछ की तो उसने कान पकड़ कर कहा- राम-राम-राम।

अपने हिस्से की एक रोटी कुत्ते को देनी होती थी :पूछताछ में राजेश ने पुलिस को बताया- ‘मालिक दीपांशु की शादी से पहले मैं ही खाना बनाता था। तब जो चाहे खाता था। पिछले साल शादी के बाद मालकिन ने मुझसे खाना बनवाना बंद कर दिया। वह साफ-सफाई और कपड़े धोने का काम कराने लगी। मुझे 7-8 रोटी की भूख लगती थी,लेकिन मालकिन 5 रोटी से ज्यादा नहीं देती थी। मैंने कई बार उनसे कहा भी कि मेरी भूख नहीं मिटती। मार्च में मेरे पिता का देहांत हो गया। मैं घर बिहार गया था। वहां से आया तो अपने हिस्से से एक रोटी कुत्ते को भी देनी होती थी।”

भूख लगी थी, मालकिन ने मना किया तो गला रेत दिया

  • राजेश ने बताया, “गुरुवार को मुझे बहुत तेज भूख लगी थी। लेकिन मालकिन ने कहा- दीपांशु के आने पर ही खाना बनेगा। इस बात पर मुझे इतना गुस्सा आया कि किचन से चाकू उठाया और उनके बिस्तर पर ही उनका गला रेत दिया। मालकिन ने बचने की कोशिश भी की। मालकिन ने मेरे हाथ को दांत से काटा, लेकिन मैंने छुड़ा लिया। मैं करीब 5 मिनट तक गर्दन पर चाकू चलाता रहा।”
  • “हत्या के बादचाकू को किचन में धोकरछिपा दिया।कमरे पर जाने लगा। गेट नहीं खुला तो छोटे गेट से कूदकर बाहर गया। वहां पर जाकर खून से लगेकपड़ों को धोया। करीब पौने दो बजे मालिक के मोबाइल फोन कर कहानी बनाई कि मालकिन गेट नहीं खोल रहीं। मैं डर गया था, लेकिन पता था कि कहीं भागा तो कहीं न कहीं से पकड़ा जाऊंगा। घर पर ही रहूंगा तो शायद कोई शक नहीं करेगा, यही सोचकर नहीं भागा।”
  • “जब पिता की मौत पर मैं घर गया था तो मालिक को फोन कर 30 हजार रुपए खाते में डलवाने को कहा था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया था। उस वक्त भी मुझे गुस्सा आया था।”

ेकिह

डीजीपी के भाई और बिलासपुर डीएसपी के पास भी कर चुका काम

आरोपी राजेश कई साल से यमुनानगर में रह रहा है। वह इससे पहले बिलासपुर के तत्कालीन डीएसपी के पास भी काम कर चुका है। वहीं, डीजीपी के भाई के पास भी वह रह चुका है। डीजीपी रहे केपी सिंह के भाई आदर्शपाल ने उसे इसलिए नौकरी से निकाल दिया था किवह सुस्त था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


बेटे ख्यान के साथ रोजी का फाइल फोटो।


घर में विलाप करने वालों को पानी पिलाता रहा हत्यारोपी नौकर।

Check Also

एनआरसी की समय सीमा बढ़ाने से इनकार, कहा- अंतिम प्रकाशन 31 जुलाई तक हो

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट नेराष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) की समय सीमा बढ़ाने से इनकार कर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *