ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / पीजीआई में 2 दिन के बच्चे की रोबोटिक सर्जरी

पीजीआई में 2 दिन के बच्चे की रोबोटिक सर्जरी



चंडीगढ़.पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआई) ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है। पीजीआई ने दो दिन के बच्चे का रोबोटिक सर्जरी की है। यह इलाज कर न सिर्फ मासूम को नई जिंदगी दी है, बल्कि संस्थान का नाम पूरी दुनिया में चमका दिया है। दो दिन के इस नवजात बच्चे की फूड पाइप नहीं थी और वह फीड भी नहीं ले पा रहा था। पीजीआई के पीडियाट्रिक्स सर्जंस ने बच्चे का रोबोटिक सर्जरी के जरिए इलाज किया। ऐसा करने वाला पीजीआई एशिया का पहला अस्पताल बन गया है।

दो दिन पहले सेक्टर-16 के गवर्नमेंट मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में बच्चे का जन्म हुआ था। लेकिन जन्म के समय से ही उसकी फूड पाइप नहीं थी और उसका वजन महज ढाई किलो था। सेक्टर-16 हॉस्पिटल से बच्चे को पीजीआई के एडवांस पीडियाट्रिक्स सेंटर में रेफर कर दिया गया।

पीजीआई डॉक्टरों के मुताबिक बच्चे की हालत गंभीर थी और उसकी सर्जरी की जानी थी। पीजीआई में अक्सर ऐसे केस आते रहते हैं और इस स्थिति में जन्म के दो-तीन दिन के भीतर ही फूड पाइप को रीकंस्ट्रक्ट किया जाता है। आमतौर पर ऐसे केस में ओपन और लैप्रोस्कॉपिक सर्जरी की जाती है, लेकिन पीजीआई में पहली बार रोबोटिक सर्जरी का इस्तेमाल किया। पीजीआई की ये पहल सफल रही और बच्चा बिल्कुल स्वस्थ हालत में घर भी भेज दिया गया।

बच्चे के पिता सिक्योरिटी गार्ड, डॉक्टरों ने फ्री में किया ट्रीटमेंट : पीजीआई में पहली बार इस सर्जरी को अंजाम देने वाले डॉक्टरों की टीम को डॉ. रवि कनौजिया ने लीड किया। उनके साथ एनेस्थेटिस्ट प्रो. नीरजा भारद्वाज भी थीं। उन्हें डॉ. अनुपदीप, डॉ. स्वप्निल, डॉ. मोनिका और पीडियाट्रिक्स सर्जरी डिपार्टमेंट के हेड प्रो. राम समुझ ने सहयोग दिया। सर्जरी के बाद बच्चे की देखरेख न्योनेटोलॉजी टीम के डॉ. सूर्या और प्रो. प्रवीन कुमार व उनकी टीम ने की। पीजीआई प्रशासन का कहना है कि इस तरह की एडवांस वर्ल्ड क्लास हेल्थ फैसिलिटी रीजन के गरीब लोगों को भी मुहैया करवाई जा रही है। इस बच्चे के पिता सिक्योरिटी गार्ड हैं और उनके बच्चे को फ्री ट्रीटमेंट दिया गया।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


robotic surgery 2-day old child in PGI

Check Also

राग में छिपा है रोग का समाधान, तनाव के लिए राग दरबारी तो सिरदर्द के लिए राग भैरवी सुनें

हेल्थ डेस्क. संगीत अपने आप में एक प्राकृतिक चिकित्सक है। आधुनिक विज्ञान में संगीत का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *