ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / टेक / पुराने डिवाइस के कारण हर 10 में 7 भारतीयों का डेटा खतरे में

पुराने डिवाइस के कारण हर 10 में 7 भारतीयों का डेटा खतरे में



गैजेट डेस्क. पुराने या खराब हो चुके डिवाइसों के कारण हर 10 में से 7 भारतीयों का डेटा चोरी हो सकता है। हमारे पुराने मोबाइल या कंप्यूटर में मौजूद डेटा गलत हाथों में जा सकता है। इससे पहचान की चोरी, फाइनेंशियल फ्रॉड और निजी सुरक्षा संबंधी खतरे हो सकते हैं। यह जानकारी डेटा केयर से जुड़ी कंपनी स्टीलर इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की रिपोर्ट से सामने आई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पुराने डिवाइसों से फाइनेंशियल रिपोर्ट, ट्रेड एग्रीमेंट, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी, बिजनेस इंटेलीजेंस जैसी जानकारियां लीक हो सकती हैं। इससे साइबर क्राइम में बहुत ज्यादा इजाफा होने का खतरा है।

300 डिवाइस की स्टडी के बाद तैयार की रिपोर्ट
यह रिपोर्ट 300 इस्तेमाल किए जा चुके डिवाइस की स्टडी करने के बाद तैयार की गई है। इनमें मेमोरी कार्ड, मोबाइल फोन, हार्ड ड्राइव आदि शामिल थे। ये डिवाइस लोगों से, ऑनलाइन पोर्टल से और कई स्थानों पर रि-सेलरों से हासिल किए गए थे। इसमें पाया गया कि 71% सेकंड हैंड डिवाइस में में पर्सनल डेटा मौजूद थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि डिवाइस फेंकने या बेचने से पहले किसी सुरक्षित तरीके से इनमें मौजूद डेटा को खत्म कर देना चाहिए।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


70% second hand devices still have users personal data

Check Also

श्याओमी का रेडमी गो लॉन्च; कीमत 4,499 रुपए

रेडमी गो एंड्रॉयड ओरियो ऑपरेटिंग सिस्टम बेस्ड है। इसका गूगल असिस्टेंट फीचर हिंदी के साथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *