ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / व्यापार / भारतीय पर इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला से 67.5 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का आरोप

भारतीय पर इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला से 67.5 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का आरोप



न्यूयॉर्क. अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला ने अपने पूर्व भारतीय कर्मचारी सलिल पारुलेकर पर 9.3 मिलियन डॉलर (67.5 करोड़ रुपए) की धोखाधड़ी करनेका आरोप लगाया है। कंपनी का कहना है कि आरोपी ने वित्तीय कागजात में गड़बड़ी करके वारदात को अंजाम दिया। कंपनी ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी के नौ और फर्जीवाड़े का एक केस दर्ज कराया।

  1. अमेरिकी अटॉर्नी एलेक्स टसे और एफबीआई के स्पेशल एजेंट जॉन बैनेट ने बताया कि टेस्ला की शिकायत मिलने के बाद कोर्ट ने पिछले हफ्ते पारुलेकर के खिलाफ आरोप-पत्र जारी किया। दोष साबित होने पर धोखाधड़ी के हर मामले में पारुलेकर को 20-20 साल की सजा और 2.5 लाख डॉलर (1.81 करोड़ रुपए) का जुर्माना देना होगा। वहीं, फर्जीवाड़े में दो साल की सजा और 2.5 लाख डॉलर (1.81 करोड़ रुपए) का जुर्माना भुगतना होगा।

  2. कोर्ट में दाखिल आरोप-पत्र के मुताबिक, मुंबई यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग और नॉर्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी से इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग में पोस्टग्रेजुएट करने वाले पारुलेकर ने 2016-17 के दौरान धोखाधड़ी और फर्जीवाड़ा किया। उस वक्त पारुलेकर टेस्ला के ग्लोब्ल सप्लाई मैनेजमेंट ग्रुप का कर्मचारी था।उसके पास टेस्ला ऑटोमोबाइल्स को पार्ट्स और सर्विस मुहैया कराने वाली कंपनियों से डीलिंग की जिम्मेदारी थी।

  3. जनवरी 2017 में इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब टेस्ला ने श्वाबिश हटनवर्क ऑटोमोटिव जीएमबीएच (एसएसडब्लयू) से सप्लायर रिलेशनशिप खत्म कर दी। उस वक्त एसएसडब्लयू कुछ ही सैंपल और मोटर पंप टेस्ला को मुहैया करा पाया। जांच के दौरान पता चला कि पारुलेकर ने फर्जी कागजात बनाकर दूसरे सप्लायर को पैसा ट्रांसफर कर दिया। इसके अलावा आरोपी ने दूसरे कर्मचारी के नाम से भी फर्जीवाड़ा किया।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Indian ex-Tesla employee charged in USD 9.3 mln embezzlement scheme

Check Also

भारतवंशियों के घरों से 5 साल में 14 करोड़ पाउंड का सोना चोरी

लंदन. ब्रिटेन में चोर भारतीय मूल के लोगों के घरों को अधिक निशाना बना रहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *