ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / महाराष्ट्र / महाराष्ट्र बाढ़ पीड़ितों को भेज रहे 'महामदद'

महाराष्ट्र बाढ़ पीड़ितों को भेज रहे 'महामदद'

नवी मुंबई
सातारा, सांगली और कोल्हापुर में आई भीषण बाढ़ के पीड़ितों के लिए नवी मुंबई के लोगों ने मदद के हाथ बढ़ाए हैं। इसकी अगुआई नवी मुंबई महानगर पालिका कर रही है। नवी मुंबई के महापौर जयवंत सुतार ने महानगर पालिका प्रशासन से कहा है कि राज्य के सभी बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए आगे आएं। महानगर पालिका प्रशासन ने भी कहा है कि वह जल्द ही अपनी सहायता की घोषणा करेगी।

इसके अलावा सिडको प्राधिकरण भी जल्द ही ऐसी घोषणा कर सकता है। 9 अगस्त को मराठा भवन, वाशी सेक्टर 15 में नवी मुंबई के कुछ पत्रकारों ने एक बैठक रखी थी। बैठक में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। सातारा, सांगली और कोल्हापुर के बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए राष्ट्रीय खानदेश महासंघ, खानदेश मित्रमंडल व ऐसी ही कई अन्य संस्थाओं ने घणसोली में 11 अगस्त को सहायता फेरी का आयोजन किया था। इस दौरान में बड़ी मात्रा में सहायता सामग्री जमा की गई।

सहायता सामग्री के संकलन के लिए तुर्भे सेक्टर-19 स्थित माथाडी भवन की पहली मंजिल पर एक केंद्र बनाया गया है। यहां 15 अगस्त की शाम 6 बजे तक सामान भेज सकते हैं। महानगर पालिका के कार्यकारी अभियंता संजय देसाई के नेतृत्व में तीन दस्ते बाढ़ग्रस्त इलाकों में जाएंगे। इनमें स्वास्थ्य सुविधा पथक, स्वच्छता सुविधा पथक तथा वाहन सुविधा पथक शामिल हैं। स्वास्थ्य पथक में 7 डॉक्टर, 7 पुरुष स्टाफ नर्स, 2 फार्मासिस्ट, वाहनचालक सहित दो ऐम्बुलेंस व 2 कक्षसेवक हैं। दवायुक्त धुएं का छिड़काव करने के लिए 2 कर्मचारी जाएंगे। इसी तरह, पथक में 2 स्वछता निरीक्षक और 50 सफाईकर्मी होंगे। वाहन पथक में नवी मुंबई महानगर पालिका परिवहन की 2 बसें शामिल हैं।

दें ये सामग्री
निलेश पाटील ने बताया कि लोग गेहूं, चावल, दाल, बड़ी जवारी, अनाज, नमक, तेल, रवा, मैदा, पोहा, आटा, मिनरल वॉटर, बच्चों, बड़ों व महिलाओं के लिए कपड़े, तौलिया, दवाएं, चद्दर, चटाई, प्लास्टिक की बाल्टी व मग, टूथपेस्ट, टूथब्रश, नहाने व कपड़े धोने के साबुन, स्कूली विद्यार्थियों के लिए पढ़ाई का सामान, ग्लास, कटोरी, थाली, कुकर आदि सामान भेज सकते हैं।

Check Also

मुंबई सेंट्रल स्टेशन से पकड़ा गया 14 लाख का गुटखा

मुंबई प्रतिबंध के बावजूद मुंबई में तंबाकू और खुलेआम बिक रहा है। सड़क और रेलवे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *