ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / अंतररास्ट्रीय / माउंट एवरेस्ट को मापने के लिए भेजी टीम, 2015 के भूकंप के बाद ऊंचाई कम होने की आशंका

माउंट एवरेस्ट को मापने के लिए भेजी टीम, 2015 के भूकंप के बाद ऊंचाई कम होने की आशंका



काठमांडू. दुनिया के सबसे ऊंचे शिखर माउंट एवरेस्ट को मापने के लिए नेपाल ने पर्वतारोहियों की एक टीम को रवाना किया है। शोधकर्ताओं का मानना है कि नेपाल में 2015 में आए भूकंप के बाद एवरेस्ट की ऊंचाई कम हुई है। सरकार ने इसकी जांच के लिएदो सालों तक चार पर्वतारोहियों की टीम को प्रशिक्षित किया।

  1. शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों कामानना है कि दुनिया के सबसे बड़े शिखर माउंट एवरेस्टकी ऊंचाई नेपाल में आए भूकंप के बाद एक इंच तक कम हुई है। इस भूकंप की तीव्रता7.8 मापी गई थी। यह पहला मौका है जब नेपाल ने इस सर्वे के लिए अपनी टीम भेजीहै। टीम बुधवार से नेपाल और चीन की सीमा पर स्थित हिमालय श्रृंखला से काम शुरू करेगी।

  2. आधिकारिक तौर पर एवरेस्ट की ऊंचाई 29,028 फीट (8,848 मीटर) है। 1954 में भारतीय सर्वे में इसकी ऊंचाई मापी गई थी। तब से इस आंकड़े को दुनियाभर में प्रमाणिक माना जाता है। नेपाल के सर्वे विभाग ने एवरेस्ट की ऊंचाई की पुख्ता जानकारी के लिए 2017 में सर्वेक्षकों की टीम गठित की थी।

  3. अभियान के प्रमुख और मुख्य सर्वेक्षणकर्ता खिम लाल गौतम ने कहा कि इस इलाके में काम करना आसान नहीं होगा। लेकिनहमें विश्वास है कि हमारा मिशन सफल होगा। अधिकारियों ने कहा कि टीम आधुनिक उपकरणों से लैस होकर चढ़ाई करेगी।

  4. मई 1999 में अमेरिका की टीम ने एवरेस्ट की ऊंचाई मापी थी। उनके मुताबिक इसकी ऊंचाई दो मीटर ज्यादा थी। हालांकि उन्होंनेजीपीएस तकनीक से एवरेस्ट को मापा था। यह आंकड़ा अमेरिका के राष्ट्रीय भौगोलिक सोसायटी द्वारा अपनाया गया, लेकिन दुनियाभर में इसे नहीं अपनाया गया।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      प्रतीकात्मक फोटो।

Check Also

बेजोस से तलाक लेकर मैकेंजी चौथी सबसे अमीर महिला बनीं

अमेजन के सीईओ जेफ बेजोस और मैकेंजी के तलाक की प्रक्रिया पूरी हो गई। मैकेंजी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *