ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / व्यापार / राहुल भाटिया ग्रुप का राकेश गंगवाल को जवाब- पान की दुकान ने अच्छा ही काम किया

राहुल भाटिया ग्रुप का राकेश गंगवाल को जवाब- पान की दुकान ने अच्छा ही काम किया



नई दिल्ली. इंडिगो एयरलाइन के प्रमोटरों के बीच जारी विवाद ने शुक्रवार को नया मोड़ लिया। राहुल भाटिया समूह के द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया कि कंपनी अच्छी हालत में है। सभी ऑपरेशन अच्छे प्रबंधकों की देख-रेख में बेहतर ढंग से संचालित हो रहे हैं।

दरअसल, मंगलवार को कंपनी के प्रमोटर राकेश गंगवाल (66) ने को-फाउंडर राहुल भाटिया (58) पर गंभीर गड़बड़ियों (गवर्नेंस लेप्सेज) के आरोप लगाए थे। गंगवाल ने कहा था- कंपनी अपने सिद्धांतों और संचालन के मूल्यों से भटक चुकी है। एक पान की दुकान इससे ज्यादा बेहतर तरीके से मामलों को सुलझा सकती है।

इंडिगो देश की सबसे बड़ी एयरलाइन- रिपोर्ट

इसी के जवाब में भाटिया ने कहा- पान की दुकान ने अच्छा काम ही किया है। रिपोर्ट के मुताबिक इंडिगो देश की सबसे बड़ी एयरलाइन है। 2004 में राकेश गंगवाल और राहुल भाटिया ने इसकी स्थापना की थी। उड़ान 4 अगस्त 2006 को शुरू हुई थी।

  1. सीईओ रॉनजॉय दत्ता ने बुधवार को कर्मचारियों को पत्र लिखा। उन्होंने कहा- प्रमोटरों का विवाद कभी ना कभी सुलझ जाएगा। मगर, मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि इससे एयरलाइन का लक्ष्य और कामकाज प्रभावित नहीं होगा। अपना काम सामान्य तरीके से करते रहें।

  2. गंगवाल ने मार्केट रेग्युलेटर सेबी से शिकायत की। सेबी ने एयरलाइन के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स से 19 जुलाई तक जवाब मांगा। इंडिगो की पेरेंट कंपनी इंटरग्लोब एविएशन ने मंगलवार को रेग्युलेटरी फाइलिंग में यह जानकारी दी। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से बताया कि मई में इंडिगो के प्रमोटर्स के बीच मतभेद की खबर आने के बाद से ही सेबी की जांच जारी।

  3. गंगवाल ने कुछ रिलेटेड पार्टी ट्रांजेक्शंस (आरपीटी) पर सवाल उठाते हुए कहा कि शेयरहोल्डर्स के एग्रीमेंट से भाटिया को इंडिगो पर असामान्य नियंत्रण का अधिकार मिल गया है। संचालन से जुड़े मलूभूत नियम और कानूनों का पालन नहीं किया जा रहा। तुरंत प्रभावी कदम नहीं उठाए गए तो नतीजे दुर्भाग्यपूर्ण होंगे।

  4. गंगवाल ने इंडिगो के बोर्ड को पत्र लिखकर 12 जून को ईजीएम रखने की मांग की थी लेकिन, भाटिया ने प्रस्ताव का विरोध किया था। भाटिया ने कंपनी के बोर्ड से कहा था कि गंगवाल ईगो हर्ट होने की वजह से ऐसी बातें कर रहे हैं। उनकी गैर-वाजिब मांगों पर ध्यान नहीं देना चाहिए।

  5. भाटिया ने 12 जून को लिखे पत्र में आरोप लगाए कि गंगवाल हिडन एजेंडे के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने एक पैकेज का प्रस्ताव दिया था। वे रिलेटेड पार्टी ट्रांजेक्शंस के मुद्दे पर अलग से बात करने के लिए तैयार नहीं हैं। बता दें राकेश गंगवाल की इंडिगो में 37% और राहुल भाटिया की 38% हिस्सेदारी है।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Indigo: Bhatia group responds , Paan ki dukaan doing well

Check Also

अच्छी सड़कें चाहिए तो टोल चुकाना पड़ेगा, यह जिंदगी भर बंद नहीं होगा: नितिन गडकरी

नई दिल्ली. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि जनता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *