ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / हरियाणा / रिफाइनरी में लीकेज जांचे बिना यूनिट शुरू की, गैस पाइपलाइन फटी, झुलसने से एक की मौत, दो गंभीर

रिफाइनरी में लीकेज जांचे बिना यूनिट शुरू की, गैस पाइपलाइन फटी, झुलसने से एक की मौत, दो गंभीर




इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन रिफाइनरी में क्रूड आयल डिस्टिलेशन यूनिट (सीडीयू ) और वैक्यूम डिस्टिलेशन यूनिट (वीडीयू) में गैस लीकेज से आग लग गई। इसमें एक सहायक कर्मचारी की मौत हो गई, जबकि दो गंभीर रूप से झुलस गए। इनका इलाज पार्क अस्पताल में चल रहा है। हादसा शनिवार रात 8:30 बजे हुआ। एक माह मरम्मत के बाद यूनिट को ट्रायल के लिए चलाते ही हादसा हो गया।

सीडीयू-वीडीयू यूनिट एक माह से बंद था। इस यूनिट में कच्चे तेल की सफाई होती है। इसकी मरम्मत की जा रही है। रिफाइनरी प्रबंधन ने मरम्मत की जिम्मेदारी मुंबई की एक कंपनी काे दे रखी थी। शनिवार शाम कंपनी ने गैस लीकेज जांचने के लिए एक्स-रे किए बना ही यूनिट रिफाइनरी के हवाले कर दी। रात को फोरमैन एमएस खेरकर अपने सहायक मोहनलाल और दीपक के साथ यूनिट का ट्रायल करने लगे। खेरकर 15 फीट ऊपर से गुजर रही पाइप लाइन में बने प्लेटफार्म पर थे और सहायक पाइप लाइन के नीचे।

तेल प्रेशर बढ़ते ही फटी पाइपलाइन

तेल का प्रेशर बढ़ते ही जॉइंट पर गैस लीक करने लगी। जो पास से गुजर रही गर्म पाइपलाइन के संपर्क में आई। इससे विस्फोट के साथ आग का गोला नीचे गिरा। इसकी चपेट में आने से 22 वर्षीय कर्मचारी मोहनलाल और दीपक झुलस गए। पाइप फटने के बाद खेरकर भी नीचे गिर गए। इससे उसकी दोनों टांगें टूट गई। तीनों को रिफाइनरी के अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्राथमिक उपचार के बाद जहां पर डॉक्टरों ने तीनों को रेफर कर दिया। तीनों को सिवाह स्थित पार्क अस्पताल लाया गया। जहां पर डॉक्टरों ने मोहनलाल को मृत घोषित कर दिया। 75 फीसदी झुलसे दीपक गंभीर रूप से घायल है। अविवाहित मोहनलाल सोनीपत का रहने वाला है। यहां ददलाना में दीपक के साथ एक ही कमरे में रहता था। 43 साल के खेरकर रिफाइनरी के कर्मचारी हैं। वहीं मोहनलाल ठेकेदार के अधीन काम करता था। 24 साल का दीपक भी उसी ठेकेदार का कर्मचारी है।

भास्कर न्यूज | थर्मल

इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन रिफाइनरी में क्रूड आयल डिस्टिलेशन यूनिट (सीडीयू ) और वैक्यूम डिस्टिलेशन यूनिट (वीडीयू) में गैस लीकेज से आग लग गई। इसमें एक सहायक कर्मचारी की मौत हो गई, जबकि दो गंभीर रूप से झुलस गए। इनका इलाज पार्क अस्पताल में चल रहा है। हादसा शनिवार रात 8:30 बजे हुआ। एक माह मरम्मत के बाद यूनिट को ट्रायल के लिए चलाते ही हादसा हो गया।

सीडीयू-वीडीयू यूनिट एक माह से बंद था। इस यूनिट में कच्चे तेल की सफाई होती है। इसकी मरम्मत की जा रही है। रिफाइनरी प्रबंधन ने मरम्मत की जिम्मेदारी मुंबई की एक कंपनी काे दे रखी थी। शनिवार शाम कंपनी ने गैस लीकेज जांचने के लिए एक्स-रे किए बना ही यूनिट रिफाइनरी के हवाले कर दी। रात को फोरमैन एमएस खेरकर अपने सहायक मोहनलाल और दीपक के साथ यूनिट का ट्रायल करने लगे। खेरकर 15 फीट ऊपर से गुजर रही पाइप लाइन में बने प्लेटफार्म पर थे और सहायक पाइप लाइन के नीचे।

एक साल पहले रिफाइनरी में केमिकल लीक करने के कारण हुए विस्फोट में झुलसने से चार कर्मचारियों की मौत हो गई थी। उस हादसे से भी रिफाइनरी प्रबंधन ने कोई सबक नहीं लिया। इस बारे में बोहली पुलिस चौकी प्रभारी राजेश कुमार ने कहा कि शिकायत के बाद केस दर्ज कर जांच की जाएगी। शव को सिविल अस्पताल में रखवाया गया है। रविवार को परिजन के आने के बाद पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

एक साल पहले 4 कर्मी मरे थे

दिल्ली की टीम आज करेगी जांच

<img src="images/p2.png"हादसे की जांच के लिए दिल्ली की टीम को सूचना दी गई है। टीम रविवार को पानीपत रिफाइनरी आ रही है। फिर पता चल सकेगा कि हादसा किस वजह से हुआ। हादसे में 22 साल के कर्मचारी मोहनलाल की मौत हो गई। जो ठेकेदार के अधीन काम करता था। -जेएएन कारेरा, जीएम एचआर

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Check Also

डोंट वेट वी आर कमिंग…

सिटी रिपोर्टर <img src="images/p3.png" 8वें दीक्षांत समारोह की क्लोजिंग सेरेमनी के बाद जैसे ही स्टूडेंट्स …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *