ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / हरियाणा / रोहतक-पानीपत की 82 किमी रेल लाइन पर बिजली की ट्रेनें दौड़ेंगी, 30 मिनट बचेंगे

रोहतक-पानीपत की 82 किमी रेल लाइन पर बिजली की ट्रेनें दौड़ेंगी, 30 मिनट बचेंगे




पानीपत-रोहतक रेलवे सेक्शन के 82 किमी के रूट पर 68.77 करोड़ रुपए से किए जा रहे विद्युतीकरण कार्य 80 फीसदी तक पूरा हो चुका है। शेष 20 फीसदी कार्य निर्धारित समयावधि से 9 माह पूर्व पूरा होने का दावा किया जा रहा है। 31 मार्च तक इलेक्ट्रिफिकेशन प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद चीफ रेलवे सेफ्टी कमिश्नर रेलवे ट्रैक का जायजा लेकर बिजली इंजन चलाने की अनुमति देंगे। इसके बाद रोहतक से पानीपत के बीच डीजल की बजाय इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन रेलवे ट्रैक पर दौड़ने लगेंगी।

रेलवे इलेक्ट्रिफिकेशन प्रोजेक्ट की मॉनीटरिंग कर रहे इंजीनियर बताते हैं कि इस प्रोजेक्ट को दिसंबर 2019 में पूरा किया जाना था, लेकिन इसको 9 माह पूर्व मार्च माह में पूरा कर रेलवे को हैंडओवर कर दिया जाएगा। डीजल इंजन से रोहतक से पानीपत का सफर करीब 2 घंटे में पूरा होता है। बिजली के इंजन से इसमें 30 मिनट तक बच जाएंगे।

68.77 करोड़ रुपए प्रोजेक्ट की लागत, 1242 पोल लगाए गए, 29 किमी में तार खींचे

विद्युतीकरण करती इंजीनियरों की टीम।

रोज 6 किमी बिछाई जा रही इलेक्ट्रिक लाइन

इंजीनियर बताते हैं कि विद्युतीकरण कार्य रेलवे के उच्चाधिकारियों के प्राथमिकता वाले प्रोजेक्ट में है। इसलिए प्रतिदिन छह किमी की रेल लाइन में इलेक्ट्रिक वायर बिछाई जा रही है। अभी तक 82 किमी के दायरे में 1242 पोल लगाए जा चुके हैं और 29 किमी के दायरे में इलेक्ट्रिक तार खींची जा चुकी है।

<img src="images/p2.png"प्रोजेक्ट पूरा करने की समयावधि वर्ष 2019 के दिसंबर माह रखी गई थी, लेकिन रेलवे इलेक्ट्रिफिकेशन प्रोजेक्ट से जुड़े उच्चाधिकारियों के मार्गदर्शन में यह प्रोजेक्ट नौ माह पूर्व हो जाएगा। 31 मार्च के बाद इलेक्ट्रिक इंजन से चलने वाली ट्रेन शुरू होने की उम्मीद है। – सुधीर हुड्डा, मुख्य कार्यालय अधीक्षक, रेलवे इलेक्ट्रिफिकेशन प्रोजेक्ट।

रेवाड़ी, रोहतक-पानीपत से जींद तक का है प्राेजेक्ट

21 दिसंबर वर्ष 2017 में रेवाड़ी-रोहतक वाया पानीपत होकर जींद रेलवे सेक्शन पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाने के लिए 215 किलोमीटर लंबे इस रूट पर विद्युतीकरण करने के लिए वर्क आर्डर जारी किया गया था। 202 करोड़ रुपए की लागत वाले इस प्रोजेक्ट को 2 वर्ष यानी वर्ष 2019 के दिसंबर माह में पूरा करने का समय निर्धारित किया गया, लेकिन इंजीनियरों ने वर्ष 2018 के नवंबर माह में रेवाड़ी से रोहतक व वर्ष 2019 के मार्च माह में पानीपत-जींद रेलवे ट्रैक पर विद्युतीकरण प्रोजेक्ट का कार्य पूरा कर लिया। इन दो सेक्शन में प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद ईएमयू गाड़ियाें का संचालन आसान हो गया है। इससे रेलगाड़ियों की गति तो बढ़ेगी ही साथ ही यात्रियों के समय में 30 मिनट की बचत होगी। वहीं, डीजल की जगह बिजली का खर्च कम आएगा।

एलीवेटेड रेलवे ट्रैक का काम पूरा होने के 10 दिन में बिछेगी लाइन

रोहतक में रेलवे एलीवेटेड रेलवे ट्रैक बनने की वजह से आरई का काम कर रहे इंजीनियरों ने छह किमी आगे से इलेक्ट्रिक लाइन बिछाने का काम कर रहे हैं। एलीवेटेड ट्रैक बनने के 10 दिन में यह काम पूरा कर लिया जाएगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Rohtak News – haryana news rohtak panipat39s 82 km train will run on the railway line save 30 minutes

Check Also

हार्दिक ने जीता स्टूडेंट ऑफ दी इयर का खिताब

हिसार | समाजसेवी सागर जिंदल के पोते हार्दिक जिंदल ने देहरादून यूनिवर्सिटी में विभिन्न उपलब्धियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *