ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / अंतररास्ट्रीय / वैलेंटाइन डे के एक महीने बाद मनाते हैं व्हाइट डे, महिलाओं को देना पड़ता है सफेद रंग का तोहफा

वैलेंटाइन डे के एक महीने बाद मनाते हैं व्हाइट डे, महिलाओं को देना पड़ता है सफेद रंग का तोहफा



टोक्यो. पूरी दुनिया 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे मनाकर भूल जाती है। लेकिन जापान में इसके ठीक एक महीने बाद (14 मार्च) व्हाइट डे मनाया जाता है। इस दिन छुट्टी होती है। वैलेंटाइन डे के दिन जिन पुरुषों को महिलाओं से गिफ्ट मिले थे, व्हाइट डे में पुरुष उन महिलाओं को तोहफे देते हैं। खास बात यह कि ये उपहार भी सफेद रंग के ही होते हैं।

  1. जापान में व्हाइट डे 40 साल से मनाया जा रहा है। अब यह पूर्व एशियाई देशों चीन और दक्षिण कोरिया में भी मनाया जाता है। जापान में तो यह आलम है कि व्हाइट डे के लिए मार्केट को खास ढंग से सजाया जाता है।

  2. जापान में सामान्य रूप से महिलाएं वैलेंटाइन डे को पुरुषों को चॉकलेट देती हैं। व्हाइट डे के मौके पर पुरुष महिलाओं को किसी सफेद चीज का तोहफा देते हैं। यह केक, रूमाल या कोई महंगी (मोतियों की) ज्वेलरी हो सकती है।

  3. स्वीट्स बनाने वाली जापान की कंपनी इशीमुरा मैनसीदो का दावा है कि 40 साल पहले उन्होंने ही व्हाइट डे की शुरुआत की थी। इसका मकसद था कि पुरुष भी महिलाओं के प्रति शुक्रगुजार हों। इस दिन पुरुष, महिलाओं को दफ्तर या घर पर उपहार देकर धन्यवाद जताते हैं।

  4. एक कंपनी में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर सवाको हिदाका कहती हैं- 1980-90 के दशक में हमारी अर्थव्यवस्था इतनी मजबूत नहीं थी। तब मेरे एक दोस्त के पिता ने मुझे एक स्कार्फ दिया था। उन्होंने कई अन्य लोगों को भी स्कार्फ दिए। उनका खुद का कारोबार था। उन स्कार्फ की कीमत 500 से 2000 येन की बीच रही होगी। लेकिन आज आप ऐसा नहीं कर सकते।

  5. हिदाका के मुताबिक- व्हाइट डे के लिए हर महंगी-छोटी दुकान आपको ओकाएशी बेचने की कोशिश करती है। ओकाएशी को शुक्रिया अदा करने वाले तोहफे के रूप में देखा जाता है। व्हाइट डे जापान में इसलिए भी अहमियत है क्योंकि हमारा समाज आपसी सौहार्द्र और सामाजिक-व्यावसायिक रिश्तों की बेहतरी पर बल देता है।

  6. देश के इवेंट्स और छुट्टियों का पंजीकरण और उनका अध्ययन करने वाले जापान एनीवर्सरी एसोसिएशन का कहना है कि व्हाइट डे के प्रति लोगों का आकर्षण कम हो रहा है। 2017 के मुकाबले 2018 में इसमें 10% की गिरावट देखी गई। 2017 में जहां 530 मिलियन डॉलर (3600 करोड़ रुपए) का कारोबार हुआ था, वहीं 2018 में यह घटकर 475 मिलियन डॉलर (3200 करोड़ रुपए) रह गया।

  7. एसोसिएशन के मुताबिक- व्हाइट डे सेलिब्रेशन में गिरावट की वजह वैलेंटाइन डे ही है। अगर उस दिन महिलाएं ही पुरुषों को गिफ्ट या चॉकलेट कम देंगी तो पुरुषों भी महिलाओं पर कम ही खर्च करेंगे।

  8. शेफ एंड फूड कोआर्डिनेटर मोउ सोजिमा कहते हैं-व्हाइट डे पर महिलाओं को पुरुषों से चॉकलेट की तुलना में महंगा रिटर्न गिफ्ट अपेक्षित होता है। लिहाजा पुरुषों के लिए व्हाइट डे किसी परेशानी से कम नहीं होता। क्या आपने कहीं सुना है कि मार्शमैलो (एक व्यंजन) चॉकलेट से महंगा होता है।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      प्रतीकात्मक फोटो।


      व्हाइट डे के लिए जापान में खास बाजार भी तैयार किए जाते हैं।

Check Also

उबर 21390 करोड़ रु. में कंपीटीटर फर्म करीम को खरीदेगी, मिडिल-ईस्ट में पकड़ मजबूत होगी

करीम के अधिग्रहण के लिए उबर 1.4 अरब डॉलर नकद भुगतान करेगी और 1.7 अरब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *