ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / व्यापार / वॉलमार्ट को फ्लिपकार्ट डील में मिले फोन-पे का मौजूदा वैल्यूएशन 68 हजार करोड़ रुपए

वॉलमार्ट को फ्लिपकार्ट डील में मिले फोन-पे का मौजूदा वैल्यूएशन 68 हजार करोड़ रुपए



बेंगलुरु. पिछले साल वॉलमार्ट ने जब भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी को करीब 1.07 लाख करोड़ रुपए खरीदा था, तब डील में मिली डिजिटल पेमेंट इकाई फोन-पे के ऊपर वॉलमार्ट ने शायद ही ज्यादा ध्यान दिया होगा। आज की तारीख में फोन-पे देश टॉप स्टार्टअप की सूची में शामिल है और ताजा आंकड़ों के मुताबिक फोन-पे का वैल्यूएशन 68,000 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है।

  1. फ्लिपकार्ट के बोर्ड ने हाल ही में फोन-पे को नई इकाई में बदलने और करीब 6,800 करोड़ रुपए जुटाने की अनुमति दी है। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद फोन-पे का वैल्यूएशन करीब 68,000 करोड़ रुपए हो जाएगा। अगले 1-2 महीने में डील होने की संभावना है।

  2. फोन-पे देश में डिजिटल पेमेंट सेक्टर में प्रमुख कंपनियों में से एक है। पिछले कुछ समय में पैसे भेजने और बिजनेस लेनदेन में डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल ज्यादा शुरू हुआ है। इसका फायदा फोन-पे को भी मिला है। पिछले एक साल में कंपनी के वॉल्यूम और लेनदेन की वैल्यू में चार गुना का इजाफा हुआ। फोन-पे का मुकाबला पेटीएम से है। कीबैंक कैपिटल मार्केट के एक एनालिस्ट का कहना है कि फोन-पे, वॉलमार्ट के लिए एक वैल्यूएबल एसेट है।

  3. फ्लिपकार्ट को छोड़कर तीन दोस्तों ने दिसंबर 2015 में फोन-पे की शुरुआत की थी। फ्लिपकार्ट के फाउंडर बिन्नी बंसल और सचिन बंसल ने एक साल के अंदर ही फोन-पे को खरीद लिया। सरकार ने 8 नवंबर 2016 को अचानक नोटबंदी का फैसला लिया। इससे डिजिटल पेमेंट कंपनियों की तेजी से ग्रोथ हुई।

  4. बिन्नी और सचिन बंसल फ्लिपकार्ट को बेचते समय फोन-पे के पोटेंशियल को समझ नहीं पाए। वॉलमार्ट को फोन-पे, फ्लिपकार्ट के साथ हुई डील में मिली। इसका अंदाजा शायद लोगों को नहीं था कि कंपनी का कारोबार बहुत तेजी से बढ़ेगा और वह देश की प्रमुख डिजिटल पेमेंट कंपनियों में शुमार हो जाएगी।

  5. कंपनी के अनुसार इस साल में जून में 29 करोड़ लोगों तक फोन-पे एप की पहुंच थी और कुल लेनदेन करीब 85 अरब डॉलर का रहा जबकि एक साल पहले कंपनी के पास 7.1 करोड़ उपभोक्ता थे और कुल लेनदेन 22 अरब डॉलर का रहा था। कंपनी ने हाल में म्यूचुअल फंड, मूवी टिकट और एयरलाइन बुकिंग में सेवाएं देना शुरू किया है। इसके अलावा फोनपे ने आमिर खान को ब्रांड एम्बेसडर बनाया है।

  6. क्रेडिट सुइस की एक रिपोर्ट के अनुसार 2023 तक देश में डिजिटल पेमेंट ट्रांजेक्शन 70 लाख करोड़ रुपए होने की संभावना है। अभी यह 14 लाख करोड़ रु. का है। डिजिटल पेमेंट में पेटीएम सबसे आगे है। फोन-पे के अलावा मोबीक्विक, अमेजन-पे, गूगल-पे, पेपल और रेजर-पे दूसरे प्रमुख खिलाड़ी हैं। वॉट्सऐप भी इस फील्ड में आने वाला है।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      once little noticed PhonePe is now emerging as surprise benefit for Walmart post Flipkart acquisition

Check Also

सरकार ने जीपीएफ की ब्याज दर घटाई, नई दर 7.9 %

नई दिल्ली.सरकार ने फाइनेंशियल सिस्टम में जनरल प्रोविडेंट फंड (जीपीएफ) समेत अन्य फंड्स की ब्याज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *