ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / झारखंड / शहीद लेफ्टिनेंट का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, दिसंबर में होने वाली थी शादी

शहीद लेफ्टिनेंट का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, दिसंबर में होने वाली थी शादी



पलामू. पलामू के लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला (23) का सोमवार दोपहर सिंघार स्थित उनके गांव स्थित कोयल नदी के घाट परअंतिम संस्कार कर दिया गया। शहीद के पिता जीतेंद्र शुक्ला ने मुखाग्नि दी।इस दौरान सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे। शहीद के आवास से शमशान तक शहीद अनुराग शुक्ला अमररहे का नारा लगता रहा। अनुराग राजस्थान के श्रीगंगानगर में अपने तीन दाेस्ताें काे बचाने के दौरान डूब गए थे। रविवार शाम उनका पार्थिव शरीर रांची एयरपाेर्ट पहुंचा था। एयरपोर्ट पर शहीद के परिजन के साथ नगर विकास मंत्री सीपी सिंह,रांची डीसी राय महिमापत रे अाैर एसएसपी अनीश गुप्ता अाैर सेना के जवानाें ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। यहां से पार्थिव शरीर अरगाेड़ा कटहल माेड़ स्थित अावास पर ले जाया गया। थोड़ी देर बाद पार्थिव शरीर पलामू के उनके पैतृक आवास पलामूके सिंघारा गांव में ले आया गया।

एक सप्ताह पहले ही तय हुई थी शहीद अनुराग की शादी, दिसबंर में थी बारात
शहीद अनुराग शुक्ला का एक सप्ताह पहले ही शादी फाइनल हुअा था अाैर शादी की तारीख भी दिसंबर में रखी गई थी। शादी ठीक हाेने के बाद से ही घर में खुशी का माहाैल था। इकलाैते बेटे की शादी के लिए धूमधाम से शादी की तैयारीकरने के लिए कई तरह के प्लान बनाया जा रहा था। अनुराग एेसे व्यक्तित्व वाले थे कि अपमान करने वाले काे भी गले लगा लेते थे। अपने हाे या पराया। काेर्इ पर भी बात कर लें ताे दाे मिनट में अपना बना लेते थे। जनवरी में पहली पाेस्टिंगअनुराग की राजस्थान के श्रीगंगानगर में हुर्इ। उससे पहले वह दिसंबर में रांची अाए थे।

घटना से एक दिन पहले हुई थी बात
अनुराग की बहन सुप्रिया शुक्ला के देवर ऋषभ राज तिवारी ने कहा कि घटना से एक दिन पहले व्हाटसएप पर बात हुई। मुझे प्राेजेक्ट के लिए लैपटाॅप लेना था। इसी संदर्भ में उनसे काफी देर बात हुई। सुप्रिया की सास रत्नावली तिवारी ने कहाकि बेटा की तरह रहता था। वह मुझे मां कहता था। मैंने उससे कहा था कि मेरी भी उम्र तुम्हें लग जाए। इतना खुश मिजाज लड़का मैंने कभी नहीं देखा, जाे हर किसी के दिल का टुकड़ा था। विश्वास नहीं हाे रहा है कि अब वाे हमारे बीच नहींहै। सुप्रिया के ससुर अधिवक्ता एलके तिवारी ने कहा कि उसकी शादी तय हाे गई थी। इसी साल दिसंबर में शादी हाेना थी। स्थिति एेसी हाे गई कि समझ में नहीं अा रहा है कि अब क्या करें।

संत जेवियर्स कॉलेज से हुई पढ़ाई
अनुराग ने 10 वीं तक की पढ़ाई डीएवी डालटनगंज से की। इसके बाद रांची आ गए और संत जेवियर्स काॅलेज से इकॉनामिक्स से ग्रेजुएशन किया। फिर सीडीएस क्रैक करने के बाद भारतीय सेना में अफसर बने। अनुराग स्कूल के दौरान से हीपढ़ाई में अव्वल आते थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


शहीद के अंतिम यात्रा में शामिल ग्रामीण।

Check Also

फांसी लगाकर युवक ने की आत्महत्या

घाघरा | प्रखंड मुख्यालय क्षेत्र के पनवारी गांव में बुधवार की रात 35 वर्षीय जीतवाहन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *