ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / शाह ने कहा- नेहरूजी ने भी कहा था कि धारा 370 घिसते-घिसते घिस जाएगी

शाह ने कहा- नेहरूजी ने भी कहा था कि धारा 370 घिसते-घिसते घिस जाएगी



नई दिल्ली. राज्यसभा में गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को कहा कि धारा 370 के कारण ही जम्मू-कश्मीर का विकास नहीं हो सका है।उन्होंने कहा कि पूरे सदन में अलग-अलग प्रकार से अपने विचार रखे।धारा 370 और 35ए पर बहुत सारी बातें कीं। ज्यादातर बातें उसकी उपयोगिता पर नहीं, तकनीकी पहलुओं पर हुई। धारा 370 से भारत और विशेषकर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को क्या मिलने वाला है,वो किसी ने नहीं कहा। धारा 370 ने घाटी के लोगों का नुकसान किया। देश का विभाजन हुआ। पाकिस्तान की घटना हुई।

शाह ने कहा- नेहरूजी ने भी कहा था कि 370 घिसते-घिसते घिस जाएगी, लेकिन उन्होंने इतने जतन से रखा कि ये 70 साल में घिसी नहीं। टेम्परेरी शब्द 70 साल तक कैसे चला, इस प्रावधान को कैसे चलाना है। सरदार पटेल पर ये आरोप लगाए गए कि वे जम्मू-कश्मीर को पाकिस्तान को देना चाहते थे। उन्होंने देश की रियासतों को जोड़ा। मैं यहां 370 नहीं, भारतीय संघ के साथ संधि के बारे में कह रहा हूं और यहां पटेलजी थे ही नहीं।

आतंकवाद अब नीचे आ रहा है: शाह

शाह ने कहा- आतंकवाद बढ़ा, पनपा और चरमसीमा पर पहुंचापर अब वो धीरे-धीरे नीचे आ रहा है। समय-समय पर 370 के भूत ने वहां अलगाववाद को मानने वाले युवाओं को गुमराह किया।उनमें नाराजगी की भावना भरी।पाकिस्तान ने इसका इस्तेमाल कर आतंकवाद को बढ़ाया। आज तक 41400 से ज्यादा लोग मारे गए। क्यों मारे गए? आप कहते हैं कि हमारी पॉलिसी ठीक नहीं? लेकिन, किसकी पॉलिसी की वजह से ये लोग मारे गए।

जवाहरलालजी की पॉलिसी ही चल रही है: शाह

उन्होंने कहा-जवाहरलालजी जो पॉलिसी बनाकर गए थे, वह चल रही है। पाकिस्तान ने कहा था कि 370 जब तक है,कश्मीर का युवा भारत के साथ नहीं जुड़ सकता और इनका इस्तेमाल करने के लिए आप संगठन खड़ा करें।आतंकवादी पूरे देश में आतंकवाद फैलाना चाहते हैं, लेकिन गुजरात, बिहार, ओडिशा का युवा गुमराह नहीं होता, क्योंकि वहां 370 नहीं है। कश्मीर के युवाओं को गुमराह किया गया है।

शाह ने कहा- घाटी के गांवों को देख आंसू आ जाते हैं

शाह ने कहा, ‘‘देशभर में पाकिस्तान से निराश्रित आए। कुछ पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर गए। जम्मू-कश्मीर में जो पाकिस्तान के शरणार्थी गए उन्हें आज तक वहां की नागरिकता भी नहीं मिली। इस देश केदो प्रधानमंत्री पाकिस्तान से आने वाले शरणार्थी बने। मनमोहन सिंह और गुजराल जी। ये कहते हैं कि 35ए और 370 जाएगी तो कयामत आ जाएगी। 370 ने घाटी का क्या नुकसान किया, वो मैं बताता हूं। 370 की वजह से वहां लोकतंत्र नहीं पनपा, भ्रष्टाचार चरम सीमा पर पहुंच गया। गरीबी घर कर गई घाटी में, घाटी के गांवों को देखो तो आंखों में आंसू आ जाते हैं।’’

महिला, दलित और आदिवासी विरोधी है अनुच्छेद 370

‘‘जम्मू-कश्मीर के विकास और शिक्षा में भी 370 बाधक है। ये महिला, दलित और आदिवासी विरोधी है। आतंकवाद की जड़ भी यही 370 ही है। पंचायत और नगरपालिका के चुनाव नहीं होते थे। 40 हजार से ज्यादा पंच-सरपंच का अधिकार 70 साल तक ले लिया, इसका जिम्मेदार कौन था। इसका कारण 370 थी। राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद जब यह चुनाव हुए तो पंच-सरपंच बने और उनके पास विकास के लिए 3500 करोड़ रुपए पहुंचे। वहां हर धर्म के लोग रहते हैं। धारा 370 अच्छी है तो सबके लिए अच्छी है और बुरी है तो सबके लिए बुरी है।’’

‘‘जम्मू-कश्मीर की गरीबी के लिए 370 जिम्मेदार है। 2004 से 2019 तक 2.77 हजार करोड़ रुपया केंद्र की तरफ से जम्मू-कश्मीर को भेजा गया। 2011 और 12 में प्रतिव्यक्ति 3600 रुपए भेजा, लेकिन जम्मू में 14 हजार के करीब रुपया भेजा। लेकिन, वहां करप्शन था और विकास नहीं हुआ। वहां धारा 370 की मोनोपॉली है। उन्हीं को व्यापार करना है और बाहर का आदमी काम नहीं कर सकता है। सीमेंट वहां पर 100 रुपया प्रति बोरी देश के मुकाबले महंगा है। ये रुपया कहां गया।’’

मैंने अच्छों-अच्छों के चेहरों पर सर्दियों में पसीना देखा

‘‘जम्मू-कश्मीर बैंक के भीतर ऑडिटर रखा गया तो मैंने अच्छों-अच्छों के चेहरों पर सर्दियों में पसीना देखा है। हो-हल्ला जांच शुरू होने के लिए हो रहा है। क्या मिला घाटी के लोगों को? एक एकड़ जमीन की कीमत 10 लाख रुपए से कम कीमत नहीं है। जम्मू-कश्मीर में यही कीमत 3 हजार रुपए एकड़ है। घाटी को लोगों को गरीब क्यों रखना चाहते हैं?’’

‘‘दुनिया मानती है कि कश्मीर धरती पर स्वर्ग है। लेकिन, वहां पर पर्यटन नहीं बना। कोई अच्छा होटल वहां कुछ खरीद ही नहीं सकता है। पर्यटन की संभावनाओं को सीमित करने का काम धारा 370 ने किया था। अगर ये खुलेंगे तो नागरिकों को रोजगार मिलेगा। लेकिन, 370 के कारण कोई बड़ी कंपनी जाती ही नहीं है। धार्मिक पर्यटन की संभावना भी बहुत अधिक है, लेकिन उनका इस्तेमाल नहीं हो पाता है।’’

धारा 370 से युवाओं का भला नहीं होने वाला
‘‘बड़ी इंडस्ट्री नहीं लगेगी तो बेरोजगारी कैसे मिटेगी? मैं घाटी के युवाओं से कहना चाहता हूं। जो आपको 370 का सपना दिखाते हैं, युवाओं का भला इससे नहीं होने वाला है। बिजली, शौचालय, रोजगार, वेतन मिलेगा तो 370 लागू रखो। आरोग्य की हालत भी खस्ताहाल है। आबादी बढ़ रही है देश की। कई जगहों पर पीपीपी मॉडल इस्तेमाल किए गए, प्राइवेट अस्पताल लाए गए। यहां लेकिन, यह सब कुछ नहीं हो सकता है। क्या तर्क है इसके पीछे? प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना आ गई, लेकिन इसका इस्तेमाल कैसे किया जा सकेगा वहां पर? विश्व का कौन सा बड़ा डॉक्टर वहां जाकर रहेगा?’’

DBApp

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद गृह मंत्री अमित शाह की फोटो वायरल हुई।


सोमवार को अमित शाह ने राज्यसभा में अनुच्छेद 370 हटाने के लिए संकल्प पेश किया था।

Check Also

पाक प्रधानमंत्री इमरान ने कहा- अब भारत से बातचीत के लिए कुछ नहीं बचा, युद्ध का खतरा बढ़ता जा रहा

इस्लामाबाद (सलमान मसूद/मारिया अबी हबीब).पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को कश्मीर के मुद्दे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *