ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / हरियाणा / शुगर मिल में एक ट्रॉली को दो बार चढ़ाया जा रहा था रिकॉर्ड में, खेल में दो कर्मचारी पकड़े, दिनभर पुलिस जांच में लगी रही

शुगर मिल में एक ट्रॉली को दो बार चढ़ाया जा रहा था रिकॉर्ड में, खेल में दो कर्मचारी पकड़े, दिनभर पुलिस जांच में लगी रही




सरस्वती शुगर मिल में एक गन्ने की ट्रॉली को दो बार रिकॉर्ड में चढ़ाकर मिल को चूना लगाने का मामला सामने आया है, हालांकि इसमें बड़ा फर्जीवाड़ा बताया जा हरा है। यह खेल सरस्वती शुगर मिल की यूनिट सात पर चल रहा था। कॉन्ट्रेक्ट पर लगे दो कर्मचारी यूपी निवासी अंकित और अजय को रंगेहाथ पकड़ा है। दिनभर पुलिस इन दोनों कर्मचारियों से पूछताछ में लगी थी। चर्चा है कि 90 ट्रॉलियों में इस तरह का फर्जीवाड़ा किया गया है और कुल 17 कर्मचारी इसमें शामिल हैं। हालांकि अभी पुलिस और मिल पदाधिकारी जांच की बात कह रहे हैं। डीएसपी सुभाषचंद का कहना है कि केस दर्ज कर पुलिस जांच में लगी है।

इस तरह गन्ना मिल तक पहुंचता है

जब भी कोई किसान शुगर मिल में गन्ना लेकर जाता है तो सबसे पहले यार्ड में गन्ने की ट्रॉली लेकर जाता है। वहां पर लाइन में लगाकर एंट्री होती है। एंट्री के बाद उसकी जानकारी दर्ज की जाएगी। इसके बाद वह नंबर से शुगर मिल में ट्रॉली जाती है। फिर वहां पर वेट किया जाता है। वहां पर एक पर्ची का एक ही बार वेट होता है। इसके बाद क्रश होने के लिए मशीन में गन्ना डाला जाता है। फर्जीवाड़ा वेट करने में हुआ है। यहां पर एक ही ट्रॉली का दो बार वेट कर दिया गया, वह भी दो अलग-अलग पर्चियां बनाकर।

ये होता है नुकसान

उदाहरण के तौर पर एक ट्रॉली में 30 हजार रुपए का गन्ना है तो उसका 2 बार वेट करने पर डबल पेमेंट बन जाती है। यानी कि 30 हजार रुपए के गन्ने का मिल को 60 हजार रुपए देना पड़ेगा।

इसकी जांच होनी चाहिए: भारतीय किसान संघ के पदाधिकारी विकास राणा का कहना है कि यह बड़ा घोटाला हो सकता है। इसकी जांच होनी चाहिए। इसमें नुकसान किसान का ही है। क्योंकि हर साल शुगर मिल घाटे की बात कहकर पेमेंट नहीं कर पाता। पिसना किसान को पड़ता है। इस तरह की गड़बड़ी के कारण ही मिल को नुकसान हो रहा है। किसान चाहते हैं जो भी इस मामले में शामिल हैं, उन सभी पर कार्रवाई हो और रिकवरी की जाए।

अभी हम जांच कर रहे

हमीदा चौकी इंचार्ज अमरीक सिंह ने बताया कि मिल में फर्जीवाड़ा करने के मामले में जांच चल रही है। सीसीटीवी और अन्य रिकॉर्ड को खंगाला जा रहा है। पकड़े कर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है।

कर्मचारियों और किसानों की मिलीभगत, दोनों को फायदा

कर्मचारियों के साथ किसान भी शामिल हैं। क्योंकि किसान को जहां एक ट्रॉली की पेमेंट होनी थी, वहां पर अब उसे दो की पेमेंट होगी। फर्जीवाड़ा कर वेट की गई ट्रॅाली की पेमेंट में से 50:50 प्रतिशत किसान और खेल में शामिल कर्मचारियों में बंटवारा होता है। हालांकि यह जांच के बाद ही साफ होगा।

<img src="images/p2.png"हमें गड़बड़ी का अंदेशा हुआ था। शक होने पर कर्मचारियों को अलर्ट किया तो गड़बड़ी पकड़ी गई। पूरे मामले की रिपोर्ट पुलिस को दे दी है। डीपी सिंह, शुगर मिल के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Check Also

क्षेत्र में बिजली गुल होने से लोगों को हुई परेशानी

सायं करीब 6 बजकर 44 मिनट पर तेज अंधड़ आने से क्षेत्र में बिजली गुल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *