ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / शोपियां में आतंकियों के बीच मुठभेड़ में एक जवान शहीद

शोपियां में आतंकियों के बीच मुठभेड़ में एक जवान शहीद



शोपियां. दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में शुक्रवार तड़के सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में सेना का एक जवान शहीद हो गया। सुरक्षाबलों का अभियान जारी है। एक जख्मी जवान कोअस्पताल में भर्ती कराया गया है। खुफिया एजेंसियों नेपंडुशन इलाके में आतंकियों की मौजूदगी को लेकर रिपोर्ट दी थी। इसके बाद सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम ने तलाशी अभियान शुरू किया। गुरुवार को भी गुरेज सेक्टर के कांजालवां में दो आतंकी मारे गए थे।

इससे पहले 27 जुलाई को शोपियां में मुठभेड़ के दौरानजैश-ए-मोहम्मद के कमांडर मुन्ना लाहौरी समेत 2 आतंकी मारे गए थे। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया था कि लाहौरी ने घाटी में कई नागरिकों की हत्या की थी। वह पुलवामा में हुए कार ब्लास्ट और 30 मार्च को बनिहाल में हुए धमाके में भी शामिल था।

कश्मीर में 10 हजार अतिरिक्त सुरक्षाबल तैनात
जम्मू-कश्मीर में फिलहाल राष्ट्रपति शासन लागू है। रिपोर्ट के मुताबिक- केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के कश्मीर दौरे के बाद राज्य में 10 हजार अतिरिक्त सुरक्षाबलों की 100 कंपनियां तैनात करने का फैसला लिया है। सूत्रों की मानें तो 15 अगस्त से पहले श्रीनगर में 15, पुलवामा और सोपोर में 10-10, बाकी 10 जिलों में 5-5 कंपनियां तैनात होंगी। जवानों को भेजने के लिए वायुसेना के ग्लोबमास्टर विमान की मदद ली जा रही है।

पांच साल में 963 आतंकी मारे गए: सरकार
केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्‌डी ने जुलाई में संसद मेंबताया था कि कश्मीर में 5 साल में 963 आतंकवादी मारे गए, जबकि 413 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए। सरकार आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम कर रही है। तीन साल में 400 से अधिक घुसपैठ की घटनाएं हुईं। इनमें 2016 में 119, 2017 में 136 और 2018 में 143 बार कोशिश की गई।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Shopian Encounter: 1 Soldier martyred, another critical in Jammu Kashmir Shopian Gunfight

Check Also

तीन तलाक कानून की वैधता को चुनौती, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को 4 हफ्ते में जवाब देने को कहा

नई दिल्ली. तीन तलाक कानून की वैधता को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *