ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / सर्जरी नहीं, जैल से होगा आंखों की इंजरी का इलाज, दावा; एक दिन में दिखता है असर

सर्जरी नहीं, जैल से होगा आंखों की इंजरी का इलाज, दावा; एक दिन में दिखता है असर



हेल्थ डेस्क. आंखों में होने वाले घावों को जैल की मदद से भरा किया जा सकेगा। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने ऐसा जैल बनाया है जिसका इस्तेमाल आंखों की इंजरी के इलाज में किया जाएगा और सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ेगी। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के शोधकर्ताओं ने बनाया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि जैल की मदद से आंखों की खामियों को दूर करने के साथ कॉर्निया कोशिकाओं को दोबारा तैयार किया जा सकेगा।

  1. हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के ऑप्थेल्मोलॉजिस्ट रेजा डाना का कहना है कि जैल में खास तरह के रसायन हैं जो कॉर्निया की कोशिकाओं को मिलाते हैं और दोबारा इसे तैयार होने में मदद करते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक, ड्रॉपर या सीरिंज की मदद से जैल का इस्तेमाल किया जा सकेगा। यह प्रकाश के संपर्क में आते ही सख्त होने लगता है। इसे लगाते ही कॉर्निया की कोशिकाएं बढ़ना शुरू कर देती हैं और जैल के साथ मिलकर एक हो जाती हैं।

  2. शोध के दौरान वैज्ञानिकों ने 3 मिमी का कॉर्निया डिफेक्ट होने पर 20 फीसदी सांद्रता के साथ जैल इस्तेमाल किया। करीब 4 मिनट बाद इसका असर दिखाई दिया। एक दिन के बाद आंखों पर पारदर्शी सतह दिखाई दी। इस दौरान किसी भी तरह की सूजन नहीं दिखाई दी। धीरे-धीरे आसपास के ऊतक में बढ़ोतरी हुई। शोधकर्ता इंसानों पर इसका ट्रायल जल्द ही शुरू करेंगे।

  3. दुनियाभर में अंधता का बड़ा कारण कॉर्निया में इंजरी होना है, हर साल इससे जुड़े करीब 15 लाख मामले सामने आते हैं। कुछ मामलों में कॉर्निया ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है। ट्रांसप्लांट के बाद भी इंफेक्शन के मामले सामने आते हैं। इसके अलावा कई मामलों में आंखें दूसरी कॉर्निया को स्वीकार नहीं कर पाती।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      american scientist made Adhesive Gel To Repair Eye Injury Without Surgery

Check Also

अहमदाबाद की कांकरिया लेक बनी देश का पहली 'क्लीन स्ट्रीट फूड हब', 66 वेंडर्स परोसते हैं स्ट्रीट फूड

​लाइफस्टाइल डेस्क.भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने अहमदाबाद की कांकरिया लेक को देश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *