ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / साथ सोने से मना किया तो 7 लड़कियों ने की थी हाथ की नस काटने की कोशिश, प्रबंधन ने दबा दिया था मामला

साथ सोने से मना किया तो 7 लड़कियों ने की थी हाथ की नस काटने की कोशिश, प्रबंधन ने दबा दिया था मामला



भोपाल। बालिकागृह में सात लड़कियों ने एक साथ पेंसिल शार्पनर की ब्लेड से अपने हाथ की नस काटने की कोशिश की थी। लड़कियों ने यह कदम सिर्फ इसलिए उठाया था क्योंकि उन्हें एक साथ सोने नहीं दिया गया था। इतना ही नहीं बालिका गृह की अधीक्षिका द्वारा इन लड़कियों को अस्पताल भेजने की बजाय बालिका गृह में ही प्राथमिक उपचार देकर मामले को दबाने की कोशिश की गई।

घटना मार्च के आखिरी सप्ताह की है। इसका खुलासा जुवेनाइल जस्टिस मॉनिटरिंग कमेटी द्वारा नियुक्त गई टीम के निरीक्षण के दौरान गुरुवार को हुआ। टीम ने मामले की जांच करके रिपोर्ट कमेटी को सौंप दी है। साथ ही मामले में कलेक्टर द्वारा कमेटी बनाकर जांच कराने और काउंसलर नियुक्त करने के निर्देश दिए हैं। बालिका गृह में जबलपुर से एक किशोरी आई थी, जो यहां की बच्चियों से जल्दी घुल-मिल गई। बच्चियां उसके साथ कमरे में सोने की जिद करने लगीं। जब बालिका गृह की केयरटेकर ने उन्हें अपने-अपने कमरे में सोने के लिए भेजा, तो लड़कियों ने पेंसिल शार्पनर की ब्लेड से अपने हाथ की नस काटने लगीं। एक-एक करके 7 लड़कियों ने अपने हाथ की नस काटने की कोशिश की। गनीमत रही कि वे नस काटने में नाकाम रहीं। हां घाव जरूर हो गया था।

मामले को छिपाने के लिए बालिका गृह की अधीक्षिका अंतोनिया एक्का कुजूर ने लड़कियों का प्राथमिक इलाज कराके उन्हें चुप रहने के लिए कहा। एक हफ्ते बाद एक कर्मचारी ने चुपके से बाल कल्याण समिति को मामले के बारे में बताया। समिति के सदस्यों ने महिला एवं बाल विकास विभाग व कलेक्टर को मामले की जानकारी दी। साथ ही अधीक्षिका को नोटिस देकर जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ लिया। वहीं बालिका गृह की अधीक्षिका एक्का 3 बार सस्पेंड हो चुकी हैं।

पहले भी हो चुकीं हैं घटनाएं… 2016 में सफाई को लेकर लड़कियां आपस में झगड़ गई थीं। नवंबर 2017 में एक बालिका के साथ मारपीट की गई। इससे उसकी कॉलर बोन टूट गई थी। बाद में संक्रमण के बाद उसकी मौत हो गई थी। 3 लड़कियां ने चौकीदार महिला को तकिया से मुंह दबाकर मारने की कोशिश की थी और यहां से भाग गई थी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


bhopal news

Check Also

यहां से 9 बार सांसद रह चुके हैं कमलनाथ, अब पुत्र नकुलनाथ कांग्रेस के टिकट पर मैदान में

छिंदवाड़ा.महाराष्ट्र से लगा मध्य प्रदेश का ये संसदीय क्षेत्र जब से अस्तित्वमें आया तब से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *