ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राशिफल / सेठ ने पंडितजी को दक्षिणा में बकरी दी, जब पंडितजी बकरी ले जा रहे थे तो एक आदमी ने उनसे कहा- आप कुत्ते को कंधे पर लादकर क्यों ले जा रहे हैं, फिर दूसरे आदमी ने कहा- आपके कंधे पर मरा हुआ बछड़ा है

सेठ ने पंडितजी को दक्षिणा में बकरी दी, जब पंडितजी बकरी ले जा रहे थे तो एक आदमी ने उनसे कहा- आप कुत्ते को कंधे पर लादकर क्यों ले जा रहे हैं, फिर दूसरे आदमी ने कहा- आपके कंधे पर मरा हुआ बछड़ा है



रिलिजन डेस्क। किसी गांव में एक पंडितजी रहते थे। वे पूजा-पाठ करके अपना जीवन-यापन करते थे। एक बार पंडितजी को दूसरे गांव में पूजा करवाने के लिए एक सेठ ने बुलवाया। पूजा के बाद सेठ ने दक्षिणा के रूप में पंडितजी को एक मोटी-ताजी बकरी दी।
बकरी पाकर पंडितजी बहुत खुश हुए और उसे अपने कंधे पर लादकर गांव की ओर चल दिए। रास्ते में तीन ठगों ने पंडितजी को देख लिया। वे पंडितजी की बकरी हथियाना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने एक योजना बनाई।
पहला ठग पंडितजी के पास पहुंचा और बोला- हे ब्राह्मण देवता, आप इस कुत्ते को कंधे पर उठाकर कहां ले जा रहे हैं, पंडित होकर ये काम आपको शोभा नहीं देता।
ठग की बात सुनकर पंडितजी गुस्सा होकर बोले- अंधे हो क्या, दिखाई नहीं देता, ये कुत्ता नहीं बकरी है।
ठग ने कहा- बुरा मत मानिए पंडितजी, मुझे तो जो दिखाई दिया, मैंने आपके कह दिया। ये बोलकर पहला ठग वहां से चला गया।
कुछ देर बाद पंडितजी के पास दूसरा ठग गया और बोला- पंडितजी, आप इस मरे हुए बछड़े को कंधे पर लादकर कहां ले जा रहे हैं?
दूसरे ठग की बात सुनकर पंडितजी गुस्सा होकर बोले- तुम मूर्ख तो नहीं हो, ये बकरी है न कि मरा हुआ बछड़ा। चलो भागो यहां से।
ठग ने कहा- गुस्सा क्यों हो रहे हैं पंडितजी, मुझे तो जो दिखाई दिया, मैंने आपने वही कहा।
दो लोगों के मुंह से ऐसी बात सुनकर पंडितजी परेशान हो गए, तभी तीसरा ठग उनके पास जाकर बोला- हे ब्राह्मण देवता, ये आप कंधे पर किस जीव का अस्थि पिंजर लेकर घूम रहे हैं, अगर किसी ने आपको इस स्थिति में देख लिया तो कोई भी आपका सम्मान नहीं करेगा।
पंडितजी ने थोड़ा सकुचा कर बोला- ये तो जीवित बकरी है, क्या तुम्हें ये दिखाई नहीं दे रही?
तीसरे ठग ने कुछ भी नहीं कहा और हंसकर चलता बना। पंडितजी ने सोचा- ये बकरी नहीं कोई मायावी जीव है जो बार-बार अपना रूप बदल रहा है। ये सोचते ही पंडितजी ने उस बकरी को कंधे से उतारा और वहां से भाग गए। तीनों ठग इसी फिराक में थे। पंडितजी के जाते ही उन्होंने बकरी पर अपना अधिकार कर लिया।

लाइफ मैनेजमेंट
कभी-भी बुरे और अनजान लोगों की बात में आना चाहिए, ऐसा करके आप स्वयं का ही नुकसान कर बैठते हैं। दुष्ट लोग अपने फायदे के लिए आपको मूर्ख बनाने से भी नहीं चूकते। इसलिए दूसरों की बात पर भरोसा करने के लिए अपने विश्वासपात्र से भी जरूर पूछ लेना चाहिए।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


The story of the Pandit and three thugs, story in hindi, story for sharing, story for kids, story with learning, story with moral

Check Also

13 Apr 2019: आज के ग्रह-नक्षत्रों से जानिए किस तरह बीतेगा कुंभ राशि वालों का दिन

आज का कुंभ राशिफल (13 Apr 2019) | Aaj ka Kumbh rashifal: कुंभ राशि होने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *