ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / व्यापार / स्ट्रॉबेरी के बराबर है इंटरनेट का वजन, इंसान से ज्यादा रोबोट यूजर

स्ट्रॉबेरी के बराबर है इंटरनेट का वजन, इंसान से ज्यादा रोबोट यूजर



न्यूयार्क.7 अप्रैल 1969 को अमेरिकी सेना की एक परियोजना के रूप में इंटरनेट का जन्म हुआ था। आइए जानें इंटरनेट से जुड़े रोचक फैक्ट्स, रिकॉर्ड्स और एक ऐसी कहानी जिसने हैकिंग को लेकर खलबली मचा दी थी।

दुनिया के कुल इंटरनेट का वजन करीब 50 ग्राम :मशहूर यू-ट्यूब चैनल वीसॉस ने बताया है कि दुनिया में कुल इंटरनेट का वजन करीब 50 ग्राम है, जो एक स्ट्रॉबेरी के बराबर होता है। ये वजन उन सभी इलेक्ट्रॉन का होता है, जो किसी समय पर मोशन में होते हैं। यह गणना गणित और भौतिकी के नियमों के अनुसार है।

डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू की खोज करने वाले ने मांगी माफी :डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू यानी वर्ल्ड वाइड वेब की खोज करने वाले वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली ने किसी भी वेब पते में अाने वाले डबल स्लैश (//) के लिए माफी मांगी थी। 2009 में उन्होंने कहा कि स्लैश के बगैर भी वेब एड्रेस आसानी से बन सकता था। इससे लोगों को परेशानी होती है।

इंसान से ज्यादा इंटरनेट का इस्तेमाल रोबोट करते हैं :सिक्यूरिटी फर्म इंपरवा की पिछले वर्ष आई रिपोर्ट ‘बोट ट्रैफिक रिपोर्ट 2016’ के अनुसार दुनिया के कुल वेब ट्रैफिक में 52% हिस्सेदारी बोट्स या ऐसे प्रोग्राम की होती है जो ऑटोमेटेड टास्क के लिए होते है। इंसान केवल 48 फीसदी इंटरनेट का ही इस्तेमाल करता है।

इंटरनेट पर जो हम करते हैं, ये उनके रिकॉर्ड्स हैं (गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अनुसार)

  • दुनिया की पहली वेबसाइट http://info.cern.ch/ 6 अगस्त 1991 को लॉन्च हुई थी।
  • ऑनलाइन मित्र बनाने के मामले में मलेशिया के लोग सबसे आगे हैं। यहां के एक यूजर्स के औसतन 233 डिजिटल फ्रेंड्स हैं।
  • भारतीय गुरु श्री राजेंद्रजी महाराज के फेसबुक पेज पर एक आइटम के लिए सबसे अधिक कमेंट का रिकॉर्ड है। 16 मई 2013 तक इस पर 18,697,614 कमेंट मिले थे। कमेंट में राम लिखना था।
  • अमेरिकी उद्योगपति मार्क क्यूबन ने अक्टूबर 1999 में ऑनलाइन बिजनेस जेट खरीदा। कीमत 40 मिलियन डॉलर थी। यह ऑनलाइन सबसे बड़ी खरीदी है।

और एक रोचक कहानी इंटरनेट की दुनिया के पहले हैकर्स :12 अक्टूबर 1983। घबराए हुए क्रिस ने बिल लैनड्रेथ नाम के एक लड़के को अचानक डेट्रॉयट (अमेरिका) बुलाया। क्रिस ने उससे कहा- ‘अब मुझे कॉल मत करना। एफबीआई ने मेरे घर पर छापा मारा है’। बिल सहम गया। उसे पता था कि अगला नंबर उसका ही है। अगले दिन एफबीआई अधिकारियों ने बिल के पिता के घर (सैन डियगो) रेड डाली। वहां उन्हें हैकिंग के कई सबूत मिले और बिल की बहन के बेड के नीचे छिपाया गया एक कंप्यूटर मिला। जांच में पता चला कि 18 साल का बिल और 14 साल का क्रिस हैंकिंग का एक समूह चलाते हैं, जिसका नाम ‘द इनर सर्किल’ है।

एक ही दिन में एफबीआई ने 9 राज्यों में छापा मारकर 15 हैकर्स को गिरफ्तार किया। इन्होंने जीटीई टेलीमेल से लेकर अरपानेट तक के नेटवर्क में सेंध लगाई हुई थी। जीटीई टेलीमेल नासा, कोकाकोला, सिटीबैंक जैसी कंपनियों के लिए ई-मेल होस्ट करती थी। जबकि अरपानेट का इस्तेमाल रिसर्चर और सेना के लोग करते थे। 1984 में अमेरिका में एंटी-हैकिंग कानून बना। 1983 में कंप्यूटर हैकिंग से संबंधित कानून नहीं थे, लेकिन वर्जीनिया की कोर्ट ने इसे गंभीर अपराध माना। बिल को खुद को निर्दोष साबित करने और सुधार करने के लिए तीन वर्ष दिए गए। इसके बावजूद बिल इधर-उधर भागता रहा। बाद में उसे सैन डियगो से गिरफ्तार किया गया और वो तीन माह जेल में रहा। बिल ने बाद में अपने हैकिंग समूह पर किताब भी लिखी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


इंटरनेट

Check Also

ब्रांड एंडोर्समेंट में दीपिका-रणवीर एक-दूसरे के अपोनेंट, 7 सेक्टर में अलग-अलग कंपनियों के एंबेसडर

मुंबई. दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह 14-15 नवंबर को शादी कर रहे हैं। लेकिन, एड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *