ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राज्य / राजस्थान / स्वच्छता को लेकर बढ़ाई सख्ती निगम ने शुरू की तैयारियां

स्वच्छता को लेकर बढ़ाई सख्ती निगम ने शुरू की तैयारियां



उदयपुर |स्वच्छता और पर्यावरण सुधार के लिए स्वायत्त शासन विभाग ने अधिसूचना जारी कर सड़क या सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ और सख्ती करने के आदेश दिए हैं। जुर्माने की व्यवस्था पहले भी थी लेकिन कुछ कड़े प्रावधान जोड़े गए हैं। पिछले दिनों ही इसको लेकर अधिसूचना जारी हुई थी, लेकिन अब निगम ने उस अनुरुप सख्ती करने की तैयारी शुरु कर दी है। इन उपविधियों को राजस्थान नगर पालिका (ठोस अपशिष्ट प्रबंधन) उपविधियां 2019 नाम दिया गया है। प्रावधान सभी नगर निगम, नगर परिषद और पालिका के संपूर्ण मास्टर प्लान सीमा क्षेत्र में लागू होंगे। इसमें निकायों के साथ अन्य विभागों के कर्तव्य भी तय किए गए हैं। नगरीय विकास विभाग को ठोस अपशिष्ट के निस्तारण के लिए जमीन चिन्हित कर कलेक्टर के माध्यम से जमीन आवंटन की प्रक्रिया पूरी करवाने, 200 से अधिक आवास वाले या 5000 मीटर से अधिक क्षेत्रफल में विकसित होने वाली ग्रुप हाउसिंग या वाणिज्यिक, संस्थानिक या अन्य गैर आवासीय परिसर के लिए विकास योजना में ठोस अपशिष्ठ के निस्तारण के लिए स्थान चिन्हित करने की जिम्मेदारी दी गई है। उद्योग विभाग को औद्योगिक क्षेत्रों में विशेष आर्थिक जोन में पुनर्चक्रण सुविधा विकसित करनी है।

स्वायत्त शासन ने सड़क या सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी फैलाने वालों पर सख्ती के आदेश दिए

सड़क पर कचरा डाला तो प्रतिदिन के हिसाब से इतना जुर्माना वसूल सकेगा निगम

  • आवासीय भवन के बाहर सड़क-गली में कचरा फैलाने पर : 100 रुपए
  • दुकानदार ने सड़क पर कचरा फैलाया तो : 1000 रुपए
  • रेस्टोरेंट मालिक, होटल मालिक ने कचरा फैलाया तो : 2000
  • औद्योगिक प्रतिष्ठान के बाहर कचरा फैलाने पर : 5000
  • हलवाई, चाट, पकोड़ी, फास्ट फूड, गन्ने का रस, ज्यूस, फल सब्जी बेचने वाले और दूसरे ठेला व्यवसायी : 100

सार्वजनिक स्थानों, रोड-गली में गंदगी पर लगेगा जुर्माना

  • थूकने पर : 200 रुपए एक बार के।
  • खुले में नहाने पर : 300 रुपए एक बार के।
  • खुले मे टॉयलेट करने पर : 200 रुपए एक बार के।
  • खुले में शौच करने पर : 500 रुपए एक बार के।
  • गोबर डालने पर : 5000

दुकानदार के पास कचरा पात्र नहीं मिला तो लगेगा जुर्माना, कचरा जलाने पर भी अर्थ दंड लगेगा

  • घर में कचरा पात्र में कचरा एकत्र नहीं करने पर : 200 रुपए।
  • ज्यादा कचरा एकत्र होने पर उसके लिए कचरा पात्र नहीं रखने पर : 1000 रुपए ।
  • बायोडिग्रेडेबल वेस्ट को इकट्ठा नहीं करने पर : 5000 रुपए।
  • बायोडिग्रेडेबल वेस्ट का खुद के परिसर में ही खाद नहीं बनाने पर : 5000 रुपए ।
  • कचरे को अलग-अलग कर एकत्र नहीं करने पर : 200 रुपए।
  • 100 लोगों से ज्यादा का आयोजन करने पर वेस्टेज एकत्र करने वाले को नहीं देने पर : 3000 रुपए प्रति आयोजन।
  • होटल, विवाह स्थल, दुकान, मंदिर, औद्योगिक प्रतिष्ठान के बाहर प्लास्टिक कचरा डालने पर : 5000 रुपए प्रतिदिन।
  • कचरा जलाने पर : 500 रुपए।
  • दुकानदार के पास कचरा पात्र नहीं मिलने पर : 750 रुपए।
  • पालतू जानवरों के खुले में शौच करने पर मालिक से : 1000 रुपए।
  • निर्माण के दौरान मलबा, निर्माण सामग्री सरकारी जमीन पर डालने पर : 1000
  • ट्रेक्टर से कचरा, मलबा, बजरी ले जाते समय सड़क पर बिखरने पर : 1000
  • सार्वजनिक संपत्ति पर अवैध रूप से पोस्टर लगाने पर : 2000
  • घर का गंदा पानी सड़क पर बहाने पर : 5000
  • घर का सीवरेज कनेक्शन नहीं लेकर गंदगी नाली या नाले में बहाने पर : 5000
  • वाहनों की रिपेयरिंग के समय ऑयल, गंदा पानी सड़क पर फैलाने पर : 1000
  • मीट की दुकान के सामने गंदगी फैलाने पर : 4000
  • आम रास्ते पर मांस-मछली बेचने पर : 3000
  • आम रास्ते पर पालतु जानवर के गंदगी फैलाने पर मालिक से जुर्माना : 5000
  • विवाह स्थल के बाहर कचरा डालने पर : 5000
  • सड़क किनारे सब्जी बेचने के दौरान वेस्टेज डालने पर : 100
  • हेयर कटिंग के बाद बाल आम रास्ते या दुकान के बाहर डालने पर : 500
  • आम रास्ते पर भोजनालय,ढाबा चलाकर गंदगी फैलाने पर : 1000
  • फुटपाथ पर गंदगी फैलाने पर : 3000
  • भवन तोड़ने के दौरान मलबे को व्यवस्थित एकत्र नहीं करने पर : 500
  • व्यावसायिक बिल्डिंग तोड़ने के बाद मलबे को व्यवस्थित नहीं करने पर : 5000
  • डिस्पोजल सामग्री को वापस एकत्र नहीं करने पर : 50,000 रुपए प्रतिमाह।
  • नेपकीन, डाईपर्स के निस्तारण के लिए अलग से पाउच उपलब्ध नहीं कराने निर्माता से : 50,000 रुपए प्रतिमाह।
  • घर, दुकान के बाहर प्लास्टिक फेंकने पर : 1000
  • प्लास्टिक कचरा जलाने पर : 500
  • प्लास्टिक कैरी बेग को उपयोग में लेने पर : 100 रुपए प्रतिदिन।

ये भी… निकायों को हर हार में डोर टू डोर कचरा एकत्र करने के दौरान गीला और सूखा कचरा अलग-अलग कर ही लेना होगा। सुबह 7 बजे से 11 बजे तक डोर टू डोर कचरा एकत्र करना होगा। जबकि व्यवसायिक क्षेत्रों में सुबह 9 बजे से 12 तक कचरा संग्रहण करने का प्रावधान किया गया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


fines to be charged for throwing waste on roads in Udaipur 2019 rajasthan

Check Also

भालू ने जुटाई हिम्मत तो आक्रामक बाघ जान बचाकर भागा, झाड़ियों में जाकर छिपा

सवाई माधोपुर. रणथंभौर नेशनल पार्क में गत दिवस शाम की पारी में एक अनोखा नजारा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *