ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / राजनीति / 10 घंटे के सियासी ड्रामे के बाद बागियों से मिले बिना वापस हुए डीके शिवकुमार, फेल हुई कांग्रेस की कोशिश

10 घंटे के सियासी ड्रामे के बाद बागियों से मिले बिना वापस हुए डीके शिवकुमार, फेल हुई कांग्रेस की कोशिश

मुंबई
कर्नाटक में सियासी संकट के बीच बुधवार को मुंबई में बड़े स्तर का ड्रामा देखने को मिला। बागी विधायकों से मिलने पहुंचे कर्नाटक मंत्री और कांग्रेस के संकटमोचक को हिरासत में लिया गया और फिर एयरपोर्ट वापस भेज दिया गया। 10 घंटे तक चले पूरे ड्रामे में अपने बागी विधायकों को मनाने की कांग्रेस-जेडीएस की कोशिश फेल साबित होती नजर आ रही है। इस बीच ने सभी बागी विधायकों को गुरुवार शाम तक स्पीकर के सामने पेश होने का आदेश दिया है।

‘मैं यहां अपने दोस्तों से मिलने आया हूं, किसी को नुकसान पहुंचाने नहीं, बीजेपी का उन विधायकों से संबंध 2 से 3 दिन का है और मेरा 40 साल, मैं उन्हें अपने साथ (कर्नाटक) लेकर जाऊंगा।’ मुंबई पहुंचते ही पत्रकारों से बातचीत में शिवकुमार ने अपनी इच्छा बताई लेकिन उन्हें उनके साथियों से मिलने की इजाजत नहीं मिली। कांग्रेस के बाकी नेताओं के साथ उन्हें भी दो घंटे की हिरासत में रखा गया और शाम होते-होते कर्नाटक वापस भेज दिया गया।

कांग्रेस का आरोप है कि शिवकुमार को होटेल में घुसने नहीं दिया गया, उन्हें दो घंटे हिरासत में रखा गया और फिर पुलिस ने उन्हें जबरन विमान में बिठाकर कर्नाटक भेज दिया। कर्नाटक के 12 बागी विधायक (7 कांग्रेस, 3 जेडीएस और 2 निर्दलीय) विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद मुंबई के एक होटेल में रुके हुए हैं। इसमें से कांग्रेस का एक विधायक कर्नाटक वापस आ गया है।

पढ़ें:

विधायकों ने बताया था जान को खतरा
मुंबई के पवई स्थित होटेल इस समय सुरक्षाकर्मियों और मीडिया के कैमरों के घिरा हुआ है। होटेल के बाहर पार्टी वर्कर, सुरक्षाकर्मी और मीडियाकर्मियों के बीच धक्का मुक्की भी होती है। सियासी संकट के बीच यह होटेल वर्तमान केंद्र बन गया है। बुधवार सुबह सवा सात बजे शिवकुमार मुंबई पहुंचे और साढ़े आठ बजे बागी विधायकों से मिलने पवई स्थित होटेल रेनेसा पहुंचे, लेकिन मुंबई पुलिस ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया, पुलिस ने इसके पीछे विधायकों के उस पत्र का हवाला दिया कि जिसमें उन्होंने दावा किया कि उनकी जान को खतरा है।

होटेल के गेट पर ही किया चाय-नाश्ता
पुलिस ने पत्र को कोट करते हुए कहा, ‘हमने सुना है कि डीके शिवकुमार होटेल में धावा बोलने आ रहे हैं, हमें खतरा महसूस हो रहा है, उन्हें होटेल के अंदर मत घुसने दीजिए।’ कांग्रेस के संकट मोचक शिवकुमार ने कहा कि उन्हें होटेल में घुसने तक नहीं दिया गया जबकि उन्होंने एक रूम भी बुक कराया और वह गेट पर बैठकर ही विरोध करते रहे। प्रवेश द्वार पर ही एक समूह ने ‘गो बैक शिवकुमार’ के नारे लगाने शुरू कर दिए। जब उनसे पूछा गया कि वे किस पार्टी से ताल्लुक रखते हैं तो उन्होंने कोई भी जवाब देने से इनकार कर दिया।

नसीम खान ने पुलिस की मौजूदगी में विधायकों से मिलने को कहा
शिवकुमार ने कहा कि विधायकों ने उन्हें कॉल करके छुड़ाने को कहा था लेकिन पुलिस बीजेपी के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार के दिशा-निर्देशों पर काम कर रही है।
दोपहर तक मुंबई के कांग्रेस नेता, , नसीम खान और संजय निरुपम भी वहां आ गए, बावजूद इसके होटेल और पुलिस प्रशासन टस से मस नहीं हुए। शिवकुमार की बुकिंग कैंसल कर दी गई और उन्हें होटेल की तरफ से कॉफी और स्नैक्स दिया गया। इस बीच नसीम खान ने कहा कि अगर विधायकों को शिवकुमार से मिलने में समस्या है तो वे उनसे पुलिसकर्मियों की निगरानी में मिलने को तैयार हैं। अगर विधायक तब भी नहीं मानते हैं तो कांग्रेस नेता होटेल के बाहर प्रदर्शन खत्म कर देंगे।

पुलिस इस पर भी नहीं मानी और डेप्युटी पुलिस कमिश्नर (ऑपरेशंस) मंजूनाथ शिंगे, हालांकि धारा 144 लागू कर कांग्रेस नेता शिवकुमार, देवड़ा और खान को हिरासत में ले लिया और उन्हें रेस्ट हाउस में रखा गया। देवड़ा ने दावा किया कि शिवकुमार को जबरन पुलिस लेकर एयरपोर्ट गई जबकि उन्हें और खान को छोड़ दिया गया।

Check Also

मेट्रो बोर्ड में डायरेक्टर्स की नियुक्ति को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार में तनातनी की आशंका

नई दिल्लीकेंद्र और में एक बार फिर टकराव हो सकता है। इस बार मामला दिल्ली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *