loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / टेक्सास की महिला को हुआ चार बार अलग-अलग तरह का कैंसर; हर बार लड़ीं, हर बार जीती

टेक्सास की महिला को हुआ चार बार अलग-अलग तरह का कैंसर; हर बार लड़ीं, हर बार जीती



हेल्थ डेस्क. अमेरिका के टेक्सास की रहने वाली लॉरेन मार्लर एक ऐसी दुर्लभ बीमारी से जूझ रही हैं जो उन्हें चार बार अलग-अलग तरह का कैंसर दे चुकी है। बीमारी का नाम है कॉन्स्टीट्यूशनल मिसमैच रिपेयर डेफिशिएंसी और यह जीन से जुड़ी है। बीमारी के कारण जीन में ऐसे परिवर्तन आते है जो बचपन से ही रोगी में कैंसर का कारण बनते हैं। 28 साल के उम्र में लॉरेन अब तक 4 बार अलग-अलग तरह के कैंसर का सामना कर चुकी हैं।

15 साल की उम्र में हुई शुरुआत
इस अानुवांशिक बीमारी के कारण शरीर में जो बदलाव हुए उसका असर 15 साल की उम्र में दिखना शुरू हुआ।बॉथरूम में ब्लड आने के बाद लॉरेन काे गंभीर बीमारी का पहली बार अहसास हुआ। पेरेंट्स को बीमारी के बारे में बताने में असहज महसूस करने के कारण लॉरेन चुप रहींं लेकिन जब पेट का दर्द असहनीय हुआ तो मां को लेटर लिखकर पूरी बात बताई। जांच में सामने आया कि कोलोन में कैंसर की गांठ थी। कोलोन कैंसर के इलाज के लिए सर्जरी की गई और पेट में एक कृत्रिम आहार नाल को इम्लांट किया गया। हालांकि कीमोथैरेपी नहीं देनी पड़ी थी।

''

19 साल की उम्र में दूसरा झटका
सर्जरी के बाद राहत मिलने से लॉरेन काफी खुश थीं लेकिन 9 माह बाद एक दोबारा कोलोन कैंसर डिटेक्ट हुआ। दोबारा इलाज के लिए पहले कीमोथैरेपी दी गई ताकि ट्यूमर का आकार कम किया जा सके। लॉरेन के मुताबिक सर्जरी के बाद की स्थिति काफी दर्द देने वाली थी। स्थिति सामान्य होने पर 20 साल उम्र में लॉरेन की शादी हुई लेकिन कुछ ही समय के बाद तलाक हो गया। नतीजा लॉरेन एक अपार्टमेंट में तनहा रहने लगीं।

''

23 साल की उम्र में यूट्स कैंसर
करीब 23 की उम्र में कैंसर ने लॉरेन को तीसरी बार जकड़ा। इस बार यूट्रस कैंसर था। यह कार्सिनोमा कैंसर था जो कोशिकाओं में फैलता है। इलाज के दौरान डॉक्टर्स को लॉरेंस का यूट्रस और ओवरी को निकालना पड़ा। लॉरेंस के मुताबिक कैंसर इस हद तक मेरे जीवन को बदल देगा सोचा नहीं था। महीनों इलाज के बाद ऑस्ट्रेलिया के एक डॉक्टर ने इसकी वजह जानी और सामने आया कि लॉरेंस एक दुर्लभ बीमारी से जूझ रही हैं। जिसे कॉन्स्टीट्यूशनल मिसमैच रिपेयर डेफिशिएंसी बताया गया।

''

2017 में लॉरेन की सेहत में सुधार आया और केटी मार्लर से शादी की।

चौथी बार लिम्फोमा का अटैक
रूटीन स्कैन के दौरान ही चौथी बार लॉरेन में लिम्फोमा (कैंसर का एक प्रकार) का पता चला। जो काफी गंभीर स्थिति में था और तत्काल इलाज के लिए ह्यूस्टन के एमडी एंडरसन कैंसर सेंटर शिफ्ट किया गया। जहां करीब 6 माह तक रहीं और 6 तरह की कीमोथैरेपी की गई। इलाज के बाद 2017 में लॉरेन की सेहत में सुधार आया और केटी मार्लर नाम के शख्स से शादी की। लॉरेन कहती हैं कि मैं अब इस बीमारी से नफरत करती हूं और इसे हरा चुकी हूं।

क्या है बीमारी
कॉन्स्टीट्यूशनल मिसमैच रिपेयर डेफिशिएंसी ऐसी बीमारी है जब इंसान के जीन में नकारात्मक बदलाव होते हैं और यह कैंसर होने का कारण बनने लगता है। DNA में बदलाव आता है। ऐसी स्थिति में कोलोन, रेक्टम, यूट्रस, ब्रेन और ब्लड कैंसर होने का खतरा 16 गुना बढ़ जाता है। लॉरेन के मुताबिक जीन कैंसर में तब्दील हो चुका था। बीमारी को खत्म करना नामुमकिन था सिर्फ समय-समय पर जांच ही मेरे लिए बचाव का एक रास्ता था।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


world cancer day 2019 : Lauren beaten cancer four times suffering from rare genetic disorder


world cancer day 2019 : Lauren beaten cancer four times suffering from rare genetic disorder

Check Also

दर्द और दौरों से जूझ रही 31 साल की महिला को खून चूसने वाले कीड़े से हुई थी बीमारी

हेल्थ डेस्क. 31 साल की लौरा मैकलिओड्स गंभीर लाइम डिजीज से जूझ रही हैं। इसका …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *