loading...
Hindi News / देश दुनिया / अंतररास्ट्रीय / अंगूठी कांच से बनी समझकर 925 रुपए में खरीदी थी, 33 साल बाद नीलामी में हीरे की निकली

अंगूठी कांच से बनी समझकर 925 रुपए में खरीदी थी, 33 साल बाद नीलामी में हीरे की निकली



वॉशिंगटन. 33 साल तक एक महिला जिस अंगूठी को सामान्य कांच की समझती रही, जांच कराने के बाद वह 68 करोड़ रुपए कीमत की हीरे की अंगूठी निकली। अंगूठी अच्छी क्वालिटी और 26.27 कैरेट की थी। खास बात यह है कि अंगूठी बेचने का फैसला डेब्रा ने तब लिया, जब कुछ ठगों ने उनकी मां से पैसे हथिया लिए थे।

  1. डेब्रा का कहना है कि उन्होंने अंगूठी को कांच का समझकर उसे 15 सालों से नहीं पहना था। लेकिन मां के साथ हुई घटना के बाद उन्हें अंगूठी बेचने के लिए ज्वैलर के पास जाना पड़ा।

  2. डेब्रा ने बताया कि उन्हें अंगूठी बेचकर कुछ रकम मिलने की उम्मीद थी, लेकिन जब जांच हुई तो वह हीरे की अंगूठी निकली। डेब्रा के मुताबिक, इसके बाद उन्हें पूरी रात नींद नहीं आई। हालांकि, बाद में कुछ लोगों की सलाह पर उन्होंने अंगूठी नीलाम करने का फैसला किया।

  3. नीलामी में डेब्रा को अंगूठी के लिए ऊंची कीमत मिली। हालांकि, टैक्स काटने के बाद उन्हें करीब 4.7 लाख डॉलर (करीब 3.3 करोड़ रुपए) मिले। डेब्रा एक चैरिटी के लिए काम करती हैं। वे करीब 20 बच्चों को अपने घर में पाल चुकी हैं। उन्होंने बताया कि यह रकम उन्हें अच्छे कर्मों के लिए ही मिली।

  4. नीलामी से मिले पैसे से उन्होंने अपनी 72 साल की मां के लिए कई गिफ्ट्स खरीदे हैं। साथ ही एक ज्वैलरी कंपनी भी खोली है। इसमें छिपे हुए कीमती रत्नों की खोज की जाती है। उन्होंने एक किताब भी लिखी है जिससे उन्हें काफी कमाई की उम्मीद है। डेब्रा का कहना है कि अगर उनकी किताब बिकी तो इससे मिलने वाला पैसा चैरिटी होम्स को जाएगा।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Woman who thought she had glass ring finds she has diamond ring after 33 years


      Woman who thought she had glass ring finds she has diamond ring after 33 years

Check Also

पाक को ब्लैकलिस्ट कर सकती है अंतरराष्ट्रीय संस्था, दुनिया से आर्थिक मदद मिलना हो जाएगा मुश्किल

पेरिस. पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने ग्रे लिस्ट से बाहर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *