loading...
Hindi News / राज्य / पंजाब / जीवन खाने-पीने,मौज मस्ती के लिए नहीं, ये तो प्रभु दर्शन के लिए है : शास्त्री

जीवन खाने-पीने,मौज मस्ती के लिए नहीं, ये तो प्रभु दर्शन के लिए है : शास्त्री




आर्य समाज मंदिर मोहल्ला गोबिंदगढ़ में गायत्री महायज्ञ में आचार्य रमेश शास्त्री ने कहा कि जीवन का लक्ष्य खाना-पीना मौज उड़ाना नही है। जीवन का लक्ष्य है कि प्रभु का नाम ले सकें। उसके मार्ग पर चल सके खाना केवल इसलिए चाहिए कि शरीर स्थिर रहे और प्रभु का भजन हो सके। यह शरीर मिला है प्रभु दर्शन के लिए। उस परम ज्योति वाले को पाने के लिए मनुष्य को यह शरीर मिला नहीं तो यह शरीर व्यर्थ है। यह जीवन निरर्थक है। यह तो साधन है ज्ञान कर्म, उपासना के लिए और ज्ञान, कर्म, उपासना साधन है प्रभु दर्शन के लिए। विज्ञान की दौड़ में हमने ज्ञान को, वेद को भुला दिया है। हमें परमात्मा ने यह शरीर इसलिए दिया कि ज्ञान पूर्वक कर्म कर सके। वह ज्ञान वेदों में निहित है। उस ज्ञान के द्वारा कर्म, कर्म के द्वारा उपासना और उपासना द्वारा प्रभु के दर्शन करो। अध्यक्षता माता आनंदायती ने की और यजमान प्रेम गुप्ता थे। यहां रेणु मजीठिया, नीलम अग्रवाल, अनीता गुप्ता, रवि किरण, सुदेश मित्तल, विमला मित्तल, रेणु मित्तल, सुषमा, चंद्रकांता, नंद किशोर जैन, राजरानी ठुकराल, मधु अग्रवाल, मीनाक्षी शर्मा, कांता सूरी, नेहा कालिया, अरुण शुक्ला, अनीता अग्रवाल, मधु मेहता, संतोष धवन, राज दुलारी, शशि आदि थे।

आर्य समाज मंदिर गोबिंदगढ़ में गायत्री महायज्ञ

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Jalandhar News – life is to eat drink and not to be fun it is for the lord39s vision shastri

Check Also

बेटे की शादी की तैयारियों में जुटी थे माता-पिता, कुछ दिन पहले हुई थी मंगनी, अचानक आ गई इकलौते बेटे की शहादत की खबर, पिता ने शहादत के बाद पहन ली है पुत्र की वर्दी…

रोपड़ (पंजाब)।जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए कुलविंदर सिंह के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *