loading...
Hindi News / स्वास्थ्य चिकित्सा / 200 साल पहले आया था कप केक

200 साल पहले आया था कप केक



हेल्थ डेस्क. भारतीय मार्केट में भी अब कप केप कोई अनजानी चीज नहीं रही। वैलेंटाइन डे पर इसकी काफी मांग रहती है। कप केक एक तरह के मिनिएचर केक होते हैं जो वनीला, चॉकलेट से लेकर रेड वेलवेट जैसे फ्लेवर में आते हैं। इन्हें अंडे या बटर से स्मूद बनाया जाता है। ये मफिन्स से काफी अलग होते हैं। मफिन्स जहां अपेक्षाकृत हार्ड होते हैं, कप केक सिल्की और मुलायम होते हैं। कप केप के बारे में पहला उल्लेख साल 1796 में मिलता है जब ‘अमेरिकन कुकरी’ नामक किताब में एमेलिया सिमन्स ने इसकी रेसिपी प्रस्तुत की थी। रेसिपी का शीर्षक था – ‘छोटे कप्स में बनाएं हल्के केक’।

पुरुषों का काम था बेकिंग
बेकिंग के पश्चिमी इतिहास को देखें तो शुरुआत में बेकर्स केवल पुरुष हुआ करते थे। वे ही केक, कुकीज जैसी चीजें बनाने का काम किया करते थे। उस समय मिट्टी के ही ओवन होते थे और उन पर काम करना काफी जोखिमभरा माना जाता था। इसलिए महिलाओं को इससे दूर ही रखा जाता था। फिर औद्योगिकीकरण का आरंभ हुआ। कुछ नए इनोवेशन के बाद ओवन कम जोखिम वाले बनने लगे। साथ ही कल-कारखाने खुलने से ज्यादातर पुरुष फैक्ट्रियों में काम करने लगे। ऐसे में महिलाएं बेकिंग के काम में आगे आईं। घर खर्च चलाने में पुरुषों की मदद करने के मकसद से भी महिलाओं ने इस विधा में हाथ आजमाया और घर-घर में बेकिंग का काम किया जाने लगा। यहीं पर महिलाओं ने अपनी क्रिएटिविटी भी दिखाई। एमेलिया सिमन्स भी इन्हीं में शामिल थीं, जिन्होंने ‘अमेरिकन कुकरी’ में कई तरह के व्यंजनों, केक और कप केप की विधि बताई। एमेलिया सिमन्स की कप केक की विधि जल्दी ही पूरे अमेरिका में लोकप्रिय हो गई। बाद में महिलाओं में कप केप में भी कई नए-नए प्रयोग किए जो न केवल आकर्षक थे, बल्कि स्वाद में भी अद्भुत।

पश्चिमी देशों में हर उत्सव चाहे फिर वह शादी हो, क्रिसमस हो, कोई जश्न का मौका हो या फिर छुट्टी का दिन, केक के बगैर पूरा नहीं होता। लवर्स के बीच कप केप काफी लोकप्रिय है। इसकी ठोस वजह क्या है, यह कोई नहीं बता सकता। फिर भी एक वजह यह मानी जा सकती है कि ये काफी आकर्षक और इजी टू केरी होते हैं। इसीलिए खासकर वेलेंटाइन डे पर पश्चिमी देशों में प्रेमी-प्रेमिका द्वारा एक-दूसरे को कप केप उपहार में देने की परंपरा है जो धीरे-धीरे हमारे यहां भी प्रचलन में आती जा रही है।

अमेरिका की पहली कुक-बुक “अमेरिकन कुकरी”
दुनिया के सामने पहली बार कप केक की अवधारणा पेश करने वाली किताब “अमेरिकन कुकरी” सबसे पहले 1796 में कनेक्टीकट के हार्टफोर्ड में प्रकाशित हुई थी। यह अमेरिका की पहली कुकरी बुक मानी जाती है। इससे पहले कुकरी पर सभी किताबें केवल ब्रिटेन में ही छपी थीं। इस किताब में कई तरह के केक्स, पफ्स, पाई, पुडिंग्स, कस्टर्ड सहित कई तरह के पॉल्ट्री व फिश बेस्ड व्यंजनों की विधियां दी गई हैं। छपते ही यह किताब इतनी लोकप्रिय हो गई कि आने वाले 30 सालों में इसको सैकड़ों बार रीप्रिंट करवाया गया और आज भी करवाया जा रहा है। कुकिंग पर यह ऐसी पहली किताब थी जिसमें अमेरिकी इंग्रेडिएंट्स यूज किए गए थे। इनका उल्लेख भी उस भाषा में किया गया था, जिसे अमेरिकी समझ सके। इसीलिए लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस ने अपनी उन किताबों की सूची में इसे भी स्थान दिया है जिन्होंने अमेरिका और अमेरिकी संस्कृति के विकास में अतुलनीय योगदान दिया है। इस किताब के पहले संस्करण की अब केवल 4 प्रतियां ही बची हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


cup cake history by chef harpaal singh sokhi

Check Also

दर्द और दौरों से जूझ रही 31 साल की महिला को खून चूसने वाले कीड़े से हुई थी बीमारी

हेल्थ डेस्क. 31 साल की लौरा मैकलिओड्स गंभीर लाइम डिजीज से जूझ रही हैं। इसका …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *