loading...
Hindi News / राज्य / झारखंड / पार्टी को नुकसान नहीं हो, इसे लेकर मंत्री सरयू राय के मामले को मिल बैठ कर सुलझाना चाहिए: अर्जुन मुंडा

पार्टी को नुकसान नहीं हो, इसे लेकर मंत्री सरयू राय के मामले को मिल बैठ कर सुलझाना चाहिए: अर्जुन मुंडा



जमशेदपुर. झारखंड के पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा ने कहा कि मंत्री सरयू राय के मामले में संगठन को मिल बैठ कर सुलझाने का प्रयास करना चाहिए। ताकि आने वाले चुनाव में नुकसान से संगठन बच सके। इसलिए सरयू राय के मामले में नेतृत्व को चर्चा कर हल करना चाहिए। वे सोमवार को एग्रिको में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मंत्री सरयू राय उनसे मिलने आए थे। कई बातें हुई। मंत्री ने उन्हें जानकारी दी कि केंद्रीय नेतृत्व को पत्र लिखकर स्थिति से अवगत कराया हूं। उन्होंने कहा कि मंत्री सरयू राय के बारे में अखबारों में भी कई चीजें पढ़ने को मिला है। इस पर भी बातचीत हुई है। इसलिए उनकी राय है कि इन सब चीजों को लेकर संगठन में चर्चा होनी चाहिए ताकि बाद में नुकसान से बचा जा सके। एक सवाल के जवाब में पूर्व सीएम मुंडा ने कहा कि सरयू राय को काम था, इसलिए एग्रिको सम्मेलन से निकल गए। इसमें कोई अर्थ दूसरा नहीं लगाया जाना चाहिए, क्योंकि सरयू राय ने सम्मेलन में काफी देर तक बैठे, कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम देर से शुरु हुई और बिलंब होने के कारण उनका गुजरात जाने का प्रोग्राम रद हो गया। उन्हें भी गुजरात जाना था, रांची से दिल्ली और फिर वहां से अहमदाबाद जाना था। मगर देर होने से अब नहीं जा पाएंगे।

  1. मंत्री सरयू राय एग्रिको मैदान में भाजपा कोल्हान प्रमंडल कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा के बगल में बैठ हुए थे। लेकिन महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार ने जैसे ही मंच से सीएम रघुवर दास के सोनारी एयरपोर्ट पर उतरने की सूचना दी तो कुछ देर में मंच पर बैठक पूर्व सीएम मुंडा और मंत्री सरयू राय ने पूर्व जिलाध्यक्ष विनोद सिंह से मंच पर टॉयलेट के बारे में जानकारी ली। पूर्व सीएम पहले मंच से टॉयलेट जाने के लिए उतरे। उनके साथ पूर्व जिलाध्यक्ष विनोद सिंह भी साथ गए। इस बीच अचानक कुछ मिनट बाद मंत्री सरयू राय भी उसी रास्ते से मंच से उतरे और टॉयलेट जाने वाले रास्ते की ओर चल दिए। मंच से राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। सरयू राय मंच से टॉयलेट जाने के लिए निकले जरूर, मगर वे दोबारा मंच पर नहीं लौटे। हालांकि पूर्व सीएम मुंडा दोबारा मंच पर बैठे। इस बीच सीएम वहां मंच पर मौजूद थे। मुंडा से सीएम ने हाथ मिलाया और बगल वाली कुर्सी पर बैठे। लेकिन मंत्री सरयू राय का कुछ देर तक कुर्सी खाली ही रहा। जब नेताओं को यकीऩ हो गया कि अब सरयू राय नहीं आएंगे तो उसी कुर्सी पर राज्यसभा सांसद समीर उरांव विराजमान हो गए।

  2. जब संबोधन पत्र में मंत्री सरयू राय का नाम सीएम ने देखा, तो मुड़े नहीं दिखे तो नाम का संबोधन नहीं किया
    मंच से जब सीएम बोलने के लिए खड़े हुए तो उनके ओएसडी राकेश चौधरी ने मंच पर बैठे सभी नेताओं व अतिथियों के नाम से संबंधित एक पत्र सीएम को दिया। सीएम पेपर में लिखे नाम को संबोधित कर रहे थे, जब मंत्री सरयू राय का नाम देखा तो मंच से मुड़े तो नहीं दिखाई पड़े और फिर सीएम ने सरयू राय का नाम छोड़कर आगे वाले अतिथियों का नाम का संबोधन किया।

  3. भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह ने कहा कि भाजपा में कोई नाराजगी नहीं है, न ही राज्य सरकार के कोई मंत्री ही नाराज है। यह कांग्रेस पार्टी नहीं है कि किसी से बात नहीं करेंगे और बिना बात सुने, निकाल बाहर कर दिए जाएंगे। यह तो भाजपा है, जहां बात रखने का हर कोई को अधिकार है। मंत्री सरयू राय के मामले में मिल बैठकर सुलझाने का प्रयास करेंगे। मगर कोई बात मीडिया में नहीं आनी चाहिए। संगठन की बात संगठन में ही सुलझाया जाना चाहिए। यहां मनभेद हो सकता है, मतभेद नहीं, क्योंकि हम सभी एक है और लक्ष्य दोबारा मोदी को पीएम बनाने का है। भाजपा राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह सोमवार को सर्किट हाउस में पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे। मौके पर भाजपा के प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश, विधायक विरंची नारायण, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ दिनेशानंद गोस्वामी उपस्थित थे।

  4. भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री ने कहा कि महागठबंधन मोदी के खिलाफ हो रहा है। जिसमें सत्ता व स्वार्थ साधने वाले मौका परस्त नेताओं का जमावड़ा है। गठबंधन आपसी डर से हो रहा है, जिसकी नीति, सिद्धांत व नीयत साफ नहीं है। इसलिए यह गठबंधन देश में सफल नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी झूठ बोलने की फैक्ट्री है और कांग्रेस पार्टी के सीईओ है। यूपी में भाजपा के खिलाफ एसपी व कांग्रेस मिलकर विस चुनाव लड़े, गठबंधन ध्वस्त हो गया। अब लोस चुनाव में भी बुआ भतीजे की जोड़ी और प्रियंका राहुल गांधी की जोड़ी भी ध्वस्त हो जाएगी और भाजपा को 2014 से अधिक सीट उप्र में मिलेगी। उन्होंने दावा किया झारखंड में भी लोस चुनाव में 14 सीटों पर जीत मिलेगी। अभी 12 लोस सीट पर भाजपा का कब्जा है।

  5. राष्ट्रीय महामंत्री ने कहा कि झारखंड सरकार बढ़िया काम कर रही है। यहां भी राज्य सरकार पर एक भी आरोप नहीं लगे है। झारखंड में विकास हो रहा है। उन्होंने कहा कि झारखंड में भाजपा सहयोगी से बातचीत कर चुनाव लड़ेगी। आजसू सरकासर की सहयोगी है, उससे भी भाजपा बातचीत करेगी। बिहार में जदयू को अधिक सीटें देने पर महामंत्री ने कहा कि सहयोग का सम्मान करना भाजपा का काम है। इसमें छोटा दल व बड़ा दल कुछ नहीं होता है। उन्होंने ममता बनर्जी पर भी पीएम, अमित शाह व उप्र के सीएम योगी के चुनावी सभा करने से रोके जाने पर बंगाल में अराजकता होने व सीएम को तानाशाही तरीके से काम करने का आरोप लगाया।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      अर्जुन मुंडा। (फाइल फोटो)

Check Also

सड़क दुर्घटना में कार सवार युवक की मौत, नियंत्रण खोने के बाद पेड़ में मारी टक्कर

गुमला. भरनो थाना क्षेत्र के रांची-गुमला एनएच-23 पर शनिवार देर रात करीब ढाई बजे सड़क …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *