loading...
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / छात्रों को शोध के लिए मिल सके गाइड, इसलिए हर छह माह में होगा रिव्यू

छात्रों को शोध के लिए मिल सके गाइड, इसलिए हर छह माह में होगा रिव्यू



ग्वालियर। जीवाजी यूनिवर्सिटी में शोध के इच्छुक छात्रों को समय पर गाइड उपलब्ध हों, इसके लिए अब नया प्रयोग किया जा रहा है। जेयू में सभी गाइड का हर छह महीने में रिव्यू किया जाएगा। उनके पास कितने छात्र शोध कर रहे हैं, कितने छात्रों का शोध समाप्त होने वाला है और कितने समय में गाइड के पास शोधार्थी के लिए सीट खाली हो जाएगी। यह रिव्यू होने से उन छात्रों काे समय पर गाइड मिल जाएंगे, जो पीएचडी प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद भी शोध शुरू नहीं कर पाते हैं। अभी भी पिछले सत्रों के ऐसे 150 शोधार्थी हैं, जो गाइड के अभाव में शोध शुरू नहीं कर सके हैं।

पिछले तीन साल में 150 से ज्यादा ऐसे छात्र थे, जो पीएचडी प्रवेश परीक्षा में सेलेक्ट हुए थे लेकिन उन्हें गाइड नहीं मिले थे। जुलाई 2018 में इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग ने भी जेयू से गाइडों की संख्या के बारे में जानकारी मांगी थी। इसके अलावा यह भी पूछा था कि किस गाइड के मार्गदर्शन में कितने छात्र शोध कर रहे हैं। कार्यपरिषद सदस्य डीपी सिंह ने भी इस मुद्दे को उठाया था और मांग की थी कि ऐसी व्यवस्था की जाए, जिससे छात्रों को समय पर गाइड उपलब्ध हो जाएं। इसके लिए हर छह महीने में गाइड और उनके मार्गदर्शन में शोध करने वाले छात्रों का रिव्यू किया जाए।

कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला अब यह व्यवस्था शुरू करने जा रही हैं कि गाइड और शोधार्थियों की संख्या का हर छह महीने में रिव्यू कराया जाएगा। इसमें यह देखा जाएगा कि किस गाइड के पास कितनी संख्या में शोधार्थी हैं और इनमें से ऐसे कितने शोधार्थी हैं, जिन्होंने थीसिस जमा कर दी है या जिनकी थीसिस एक-दो महीने में जमा होने वाली है। इसका रिकॉर्ड रखा जाएगा और इसके बाद नए शोधार्थियों को गाइड दिए जाएंगे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


gwalior

Check Also

गन लाइसेंसधारियों का बनना था स्मार्ट लाइसेंस, लेकिन पांच साल में एक का भी नहीं बना, जिले में 9 हजार से ज्यादा गन लाइसेंसी

भोपाल। परिवहन विभाग, मेट्रो ट्रेन आैर बैंकों द्वारा जारी स्मार्ट कार्ड की तर्ज पर हथियारों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *