loading...
Hindi News / राज्य / हरियाणा / मनुष्य का आचरण शुद्ध होना चाहिए : स्वामी

मनुष्य का आचरण शुद्ध होना चाहिए : स्वामी




गांव जलालपुर ‎प्रथम में स्थित जय श्री काली सिंह देवता प्र‎ांगण में साप्ताहिक श्रीमद्भागवत कथा का शुभारंभ हुआ। गांव में कलश यात्रा निकाली गई और भंडारे का आयोजन किया। इस दौरान कथा वाचक स्वामी चिंतपूर्णानंद सरस्वती ने कहा कि आज कलयुग में मनुष्य हर कार्य में लगा हुआ है, लेकिन भक्ति और सत्संग में मनुष्य अपना समय नहीं दे पाता। मनुष्य गृहस्थ धर्म निभाने के साथ-साथ अपने कर्मों को सुधार कर अपने जीवन को कृतार्थ करे।

उन्होंने कहा कि हमें गो, गंगा और प्रकृति की रक्षा करनी चाहिए, क्योंकि भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं गो की सेवा की। भगवान राम और कृष्ण ने कहा कि मैं विप्र, धेनु और सेत की रक्षा के लिए अवतार लेता हूं और भक्तों के साथ-साथ दैव्यों का भी उद्धार करता हूं। उन्होंने कहा कि भगवान श्री कृष्ण को गो माता बहुत प्यारी है। गोमाता की सेवा करने वाले भगवान कृष्ण गोपाल, गोबिंदा कहलाते हैं। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को अपने घर में एक गाय अवश्य रखनी चाहिए। गाय घर में रखने से परिवार में सुख-शांति बनी रहती है। स्वामी ने कहा कि आचरण हीन मनुष्य जीवन में कभी भी उन्नति नहीं कर सकता, सर्वप्रथम मनुष्य का आचरण शुद्ध होना चाहिए। आचार और विचार शुद्ध होने से ही संसार में फैली बुराइयों को दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पशु, पक्षी, जीव, जंतु अपने जन्मों को नहीं सुधार सकते, लेकिन मनुष्य जीवन ही एकमात्र ऐसी योनि है कि जिसमें मनुष्य अपने कर्मों से सद्गति को प्राप्त कर सकता है। मनुष्य को सत्कर्म करने चाहिए। इस अवसर पर जगदीश नंबरदार, रोहतास भागत, तेजपाल, राजू, साहब सिंह, संदीप शास्त्री, ज्योति, उषा, सुनीता, सुमन, रितू, गीता, रोशनी, ममता आदि मौजूद रही।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Check Also

जूनियर ने दी अपने सीनियर स्टूडेंट्स को विदाई पार्टी

रोहतक | अंबेडकर चौक स्थित मॉडल स्कूल में शनिवार को साधारण समारोह में 12वीं कक्षा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *